सार्मार्जिक अनुसंधार्न के प्रकार

जब किसी समस्यार् के सैद्धार्न्तिक तथार् व्यार्वहार्रिक पक्ष की पर्यार्प्त जार्नकारी नहीं होती तथार् अनुसन्धार्नकर्तार् क उददेश्य किसी विशेष सार्मार्जिक घटनार् के लिए उत्तरदार्यी कारणों को खोज निकालनार् होतार् है। तब अध्ययन के लिए जिस अनुसंधार्न क सम्बन्ध प्रार्थकमिक अनुसन्धार्न से है। जिसके अन्र्तगत समस्यार् के विषय में प्रार्थमिक जार्नकारी प्रार्प्त करके भार्वी अध्ययन की आधार्र शिलार् तैयार्र की जार्ती है। इस प्रकार के शोध क सहार्रार् तब लियार् जार्तार् है, जब विषय से सम्बन्धित कोर्इ सूचनार् अथवार् सार्हित्य उपलब्ध न हो और विषय के सैद्धार्न्तिक एवं व्यार्वहार्रिक पक्ष के सम्बन्ध में पर्यार्प्त ज्ञार्न प्रार्प्त करनार् हो, जिससे कि उपकल्पनार् क निर्मार्ण कियार् जार् सके।

इस प्रकार के शोध के लिये अनुसंधार्नकर्त्तार् को निम्न चरणों को अपनार्नार् आवश्यक होतार् है:-

  • सार्हित्य क सर्वेक्षण
  • अनुभव सर्वेक्षण
  • सूचनार्दार्तार्ओं क चयन
  • उपर्युक्त प्रश्न पूछनार्

अन्वेषणार्त्मक अनुसंधार्न क महत्व

  1. अनुसंधार्न समस्यार् के महत्व पर प्रकाश डार्लनार् तथार् सम्बन्धित विषय पर अनुसंधार्नकर्तार्ओं के ध्यार्न को आकर्षित करनार्
  2. पूर्व निर्धार्रित परिकल्पनार्ओं क तार्त्कालिक दषार्ओं में परीक्षण करनार्
  3. विभिन्न अनुसंधार्न पद्धतियों की उपयुक्ततार् की सम्भार्वनार् को स्पष्ट करनार्
  4. किसी विषय समस्यार् के व्यार्पक और गहन अध्ययन के लिए एक व्यवहार्रिक आधार्रषिलार् तैयार्र करनार्

वर्णनार्त्मक अनुसंधार्न

वर्णनार्त्मक अनुसंधार्न क उददेश्य किसी अध्ययन विषयक के बार्रे में यर्थार्त तथार् तथ्य एकत्रित करके उन्हें एक विवरण के रूप में प्रस्तुत करनार् हेार्तार् है। सार्मार्जिक जीवन के अध्ययन से सम्बन्धित अनेक विषय इस तरह के होते है जिनक अतीत में कोर्इ गहन अध्ययन प्रार्प्त नहीं होतार् ऐसी दशार् में यह आवश्यक होतार् है कि अध्ययन से सम्बन्धित समूह समूदार्य अथवार् विषय के बार्रे में अधिक से अधिक सूचनार्यें एकत्रिक करके उन्हें जनसार्मार्न्य के समक्ष्य प्रस्तुत की जार्ये ऐसे अध्ययनों के लिए जो अनुसंधार्न कियार् जार्तार् है। उसे वर्णनार्त्मक अनुसंधार्न कहते है। इस प्रकार के अनुसंधार्न में किसी पूर्व निर्धार्रित सार्मार्जिक घटनार्, सार्मार्जिक परिस्थिति अथवार् सार्मार्जिक संरचनार् क विस्तृत विवरण देनार् होतार् है। अनुसंधार्न हेतु चयनित सार्मार्जिक घटनार् यार् सार्मार्जिक समस्यार् के विभिé पक्षों से सम्बन्धित तथ्यों को एकत्रित करके उनक ताकिक विश्लेषण कियार् जार्तार् है, एवं निष्कर्ष निकाले जार्ते हैं। तथ्यों को एकत्रित करने के लिये, प्रश्नार्वली, सार्क्षार्त्कार अथवार् अवलोकन आदि किसी भी प्रविधि क प्रयोग कियार् जार् सकतार् है। ऐसे अनुसंधार्न को स्पष्ट करने के लिये जन गणनार् उपक्रम क उदार्हरण लियार् जार् सकतार्। जन गणनार् में भार्रत के विभिé प्रार्न्तों में भिé-भिé विशेषतार्ओं से युक्त समूहों क संख्यार्त्मक तथार्, आंषिक तौर पर, गुणार्त्मक विवरण दियार् जार्तार् है।

वर्णनार्त्मक अनुसंधार्न के चरण

  1. अध्ययन विषय क चुनार्व
  2. अनुसंधार्न के उददेश्यों क निर्धार्रण
  3. तथ्य संकलन की प्रविधियों क निर्धार्रण
  4. निदर्षन क चुनार्व
  5. तथ्यों क संकलन
  6. तथ्यों क विश्लेषण
  7. प्रतिवेदन को प्रस्तुत करनार्

परीक्षणार्त्मक अनुसंधार्न

समार्जषार्स्त्रीय अनुसंधार्न की वैज्ञार्निकतार् के विरूद्ध यह आरोप लगार्यार् जार्तार् है कि इसमें प्रयोगी करण क अभार्व होने क कारण इसे वैज्ञार्निक नहीं कहार् जार् सकतार् है। जिस प्रकार प्रार्कृतिक विज्ञार्नों में अध्ययन विषय को नियन्त्रित करके घटनार्ओं क अध्ययन कियार् जार्तार् है, उसी प्रकार नियन्त्रित परिस्थितियों में सार्मार्जिक घटनार्ओं क निरीक्षण एवं परीक्षण परीक्षणार्त्मक अनुसंधार्न कहलार्तार् है।

इस प्रकार के अनुसंधार्न द्वार्रार् यह जार्नने क प्रयार्स कियार् जार्तार् है कि किसी नवीन परिस्थिति अथवार् परिवर्तन क समार्ज के विभिé समूहों, संस्थार्ओं अथवार् संरचनार्ओं पर क्यार् एवं कितनार् प्रभार्व पड़ार् है। इसके लिये सार्मार्जिक समस्यार् यार् घटनार् के उत्तरदार्यी कुछ चरों (Attributes) को नियन्त्रित करके, शेष चरों के प्रभार्व को नवीन परिस्थितियों में देखार् जार्तार् है, और कार्य कारण सम्बन्धों की व्यार्ख्यार् की जार्ती है।

परीक्षणार्त्मक अनुसंधार्न के निम्न तीन प्रकार हैं:- (i) पश्चार्त् परीक्षण (ii) पूर्व पश्चार्त् परीक्षण (iii) कार्यार्न्तर परीक्षण

(i) पश्चार्त् परीक्षण 

पश्चार्त परीक्षण वह प्रविधि है जिसके अन्र्तगत पहले स्तर पर लगभग समार्न विशेषतार् वार्ले दो समूहो क चयन कर लियार् जार्तार् है। जिनमें से एक समूह को नियन्त्रित समूह (controlled group) कहार् जार्तार् हैय क्योंकि उसमें कोर्इ परिवर्तन नहीं लार्यार् जार्तार् है। दूसरार् समूह परीक्षणार्त्मक समूह (experimental group) होतार् हैय इसमें चर के प्रभार्व में परिवर्तन करने क प्रयार्स कियार् जार्तार् है। कुछ समय पश्चार्त् दोनों समूहों क अध्ययन कियार् जार्तार् है। यदि परीक्षणार्त्मक समूह में नियन्त्रित समूह की तुलनार् में अधिक परिवर्तन आतार् है, तो इसक अर्थ यह मार्नार् जार्तार् है कि इस परिवर्तन क कारण वह चर है जिसे परिक्षणार्त्मक समूह में लार्गू कियार् गयार् थार्। उदार्हरणस्वरूप, दो समार्न समूहों यार् गॉंवों को लियार् गयार्-जो कुपोषण की समस्यार् से ग्रस्त हैं। इनमें से एक समूह, में जिसे परीक्षणार्त्मक समूह मार्नार् गयार् है, कुपोषण के विरुद्ध प्रचार्र-प्रसार्र कियार् जार्तार् है एवं जार्गरूकतार् पैदार् की जार्ती है। एक निश्चित अवधि के पश्चार्त् परीक्षणार्त्मक समूह की तुलनार् नियन्त्रित समूह से की जार्ती है जिसे ज्यों क त्यों रहने दियार् गयार्। यदि परीक्षणार्त्मक समूह में कुपोषण को लेकर नियन्त्रित समूह की तुलनार् में काफी अन्तर पार्यार् जार्तार् है तो इससे यह निष्कर्ष निकलतार् है कि प्रचार्र-प्रसार्र एवं जार्गरूकतार् से कुपोषण को कम कियार् जार् सकतार् है।

(ii) पूर्व पश्चार्त् परीक्षण 

इस विधि के अन्र्तगत अध्ययन के लिए केवल एक ही समूह क चयन कियार् जार्तार् है। ऐसे अनुसंधार्न के लिए चयनित समूह क दो विभिन्न अविधेयों में अध्ययन करके पूर्व और पश्चार्त के अन्तर को देखार् जार्तार् है। इसी अन्तर को परीक्षण अथवार् उपचार्र क परिणार्म मार्न लियार् जार्तार् है।

(iii) कार्यार्न्तर तथ्य परीक्षण 

यह वह विधि है जिसमें हम विभिन्न आधार्रों पर प्रार्चीन अभिलेखों के विभिन्न पक्षों की तुलनार् करके एक उपयोगी निष्कर्ष पर पहुँच सकते है। ऐसे अनुसंधार्न के लिए चयनित समूह क दो विभिन्न अविधेयों में अध्ययन करके पूर्व और पश्चार्त के अन्तर को देखार् जार्तार् है। इस विधि क प्रयोग भूतकाल में घटी अथवार् ऐतिहार्सिक घटनार् क अध्ययन करने के लिये कियार् जार्तार् है। भूतकाल में घटी हुर्इ घटनार् को दुबार्रार् दोहरार्यार् नहीं जार् सकतार् है। ऐसी स्थिति में उत्तरदार्यी कारणों को जार्नने के लिये इस विधि क प्रयोग कियार् जार्तार् है। इस विधि द्वार्रार् अध्ययन हेतु दो ऐसे समूहों को चुनार् जार्तार् है जिनमें से एक समूह ऐसार् है जिसमें कोर्इ ऐतिहार्सिक घटनार् घटित हो चुकी है। एवं दूसरार् ऐसार् समूह ऐसार् है जिसमें वैसी कोर्इ घटनार् घटित नहीं हुर्इ है।

विशुद्ध अनुसंधार्न 

समार्जिक अनुसंधार्न क उददेश्य जब किसी समस्यार् क समार्धार्न ढूढ़नार् नहीं होतार् है। बल्कि सार्मार्जिक घटनार्ओं के बीच पार्ये जार्ने वार्ले कार्य कारण के सम्बन्धों समझकर विषय से सम्बन्धित वर्तमार्न ज्ञार्न में वृद्धि करनार् होतार् है तब इसे हम विशुद्ध अनुसंधार्न कहते है। विशुद्ध सार्मार्जिक अनुसंधार्न क कार्य, नवीन ज्ञार्न की प्रार्प्ति कर, ज्ञार्न के भण्डार्र में वृद्धि करनार् है। सार्थ ही, पूर्व के अनुसंधार्नों से प्रार्प्त ज्ञार्न, पूर्व में बनार्ये गये सिद्धार्न्तों एवं नियमों को परिवर्तित परिस्थितियों में पुन:परीक्षण करके परिमाजन, परिष्करण एवं परिवर्द्धन करनार् है। इस प्रकार विशुद्ध सार्मार्जिक अनुसंधार्न के उद्देश्यों को निम्नार्किंत रूप से व्यक्त कियार् जार् सकतार् है।

विशुद्ध सार्मार्जिक अनुसंधार्न के उद्देश्य

नवीन ज्ञार्न की ज्ञार्न की प्रार्प्ति नवीन अवधार्रणार्ों क प्रति-पार्दन उपलब्ध अनुसंधार्न विधियों क जॉंच कार्यकारण पूर्व क सम्बन्ध बतार्नार् पुन: परीक्षण


संक्षेप में, यह कहार् जार् सकतार् है कि विशुद्ध सार्मार्जिक अनुसंधार्न विज्ञार्न की प्रगति एवं विकास में अत्यन्त उपयोगी है।

व्यार्वहार्रिक अनुसंधार्न 

एक अनुसंधार्न कर्तार् जब स्वीकृत सिद्धार्न्तों के आधार्र पर किसी समस्यार् क इस दृष्टिकोण से अध्ययन करतार् है कि वह एक व्यवहार्रिक समार्धार्न खो सके ऐसे अनुसंधार्न को हम व्यवहार्रिक अनुसंधार्न कहते है। विशुद्ध सार्मार्जिक अनुसंधार्न क उद्देश्य सार्मार्जिक समस्यार्ओं के सम्बन्ध में नवीन ज्ञार्न प्रार्प्त करनार् ही नहीं है, वरन् सार्मार्जिक जीवन के विभिé पक्षों जैसे जनसंख्यार्, धर्म, शिक्षार्, स्वार्स्थ्य, आर्थिक एवं धामिक समस्यार्ओं क वैज्ञार्निक अध्ययन करनार् एवं इनके कार्य-कारण सम्बन्धों की तर्कसंगत व्यार्ख्यार् करनार् भी है। अत:, व्यार्वहार्रिक अनुसंधार्न क सम्बन्ध हमार्रे व्यार्वहार्रिक जीवन से है। इस संदर्भ में श्रीमती यंग ने लिखार् है, “ज्ञार्न की खोज क एक निश्चित सम्बन्ध लोगों की प्रार्थमिक आवश्यकतार्ओं व कल्यार्ण से होतार् है। वैज्ञार्निकों की यह मार्न्यतार् है कि समस्त ज्ञार्न सार्रभूत रूप से इस अर्थ में उपयोगी है कि वह सिद्धार्न्तों के निर्मार्ण में यार् एक कलार् को व्यवहार्र में लार्ने में सहार्यक होतार् है। सिद्धार्न्त तथार् व्यवहार्र आगे चलकर प्रार्य: एक दूसरे से मिल जार्ते हैं।”

क्रियार्त्मक शोध 

क्रियार्त्मक अनुसंधार्न के सम्बन्ध में गुड एव हार्ट ने लिखार् है- “क्रियार्त्मक अनुसंधार्न उस योजनार्बद्ध कार्यक्रम क भार्ग है जिसक लक्ष्य विद्यमार्न अवस्थार्ओं को परिवर्तित करनार् होतार् है, चार्हे वे गन्दी बस्ती की अवस्थार्यें हो यार् प्रजार्तीय तनार्व पूर्वार्ग्रह व पक्षपार्त हो यार् किसी संगठन की प्रभार्वशीलतार् हो।” स्पष्ट है कि क्रियार्त्मक अनुसंधार्न से प्रार्प्त जार्नकारियों एवं निष्कर्षों क उपयोग मौजूदार् स्थितियों में परिवर्तन लार्ने वार्ली किसी भार्वी योजनार् में कियार् जार्तार् है। वार्स्तव में, व्यार्वहार्रिक अनुसंधार्न व क्रियार्त्मक अनुसंधार्न कुछ अर्थों में एक-दूसरे से समार्नतार् रखते हैंय क्योंकि दोनों में ही सार्मार्जिक घटनार्ओं अथवार् समस्यार्ओं क सूक्ष्म अध्ययन करने के पश्चार्त् ऐसे निष्कर्ष प्रस्तुत किये जार्ते हैं जो व्यार्वहार्रिक एवं क्रियार्त्मक दृष्टि से महत्वपूर्ण होते हैं। उदार्हरणस्वरूप, देश की शिक्षार् व्यवस्थार् में आमूलचूल परिवर्तन व सुधार्र लार्ने के लिये 1964 में डॉ. डी.एस. कोठार्री की अध्यक्षतार् में कोठार्री आयोग की नियुक्ति की गर्इ थी। उन्होंने देश की शिक्षार् व्यवस्थार् के प्रत्येक पक्ष से सम्बन्धित ठोस प्रमार्णों एवं तथ्यों को एकत्रित कर आवश्यक सुधार्र एवं परिवर्तन लार्ने के सम्बन्ध में सुझार्व प्रस्तुत किये। आयोग ने शिक्षार् से जुड़े देश-विदेश के सभी वर्गों के व्यक्तियों से लिखित एवं मौखिक विचार्रों एवं सुझार्वों, मार्ँगों को अध्ययन में शार्मिल कियार्य सार्थ ही मौजूदार् शिक्षार् प्रणार्ली में उपस्थित दशार्ओं क विश्लेषण कर, भार्वी शिक्षार् प्रणार्ली की संरचनार् तथार् क्रियार्न्वियन हेतु व्यार्वहार्रिक सुझार्व भी प्रस्तुत किये। उन सुझार्वों में से कर्इ सुझार्व भार्वी योजनार्ओं में सम्मिलित भी किये गये। तार्त्पर्य यह है, इस आयोग की रिपोर्ट भी क्रियार्न्वयन शोध क उदार्हरण प्रस्तुत करती है।

मूल्यार्ंकनार्त्मक अनुसंधार्न 

आज सभी देश नियोजित परिवर्तन की दिशार् में विकास कार्यक्रमों को प्रोत्सार्हन दे रहे हैं। लार्खों, करोड़ों रूपये, अनेक विकास कार्यक्रमों, जैसे स्वार्स्थ्य सुधार्र, गरीबी उन्मूलन, आवार्स-विकास सम्बन्धी योजनार्ओं, परिवार्र नियोजन, मद्य निषेध, रोजगार्र योजनार्ओं एवं समन्वित ग्रार्मीण विकास आदि पर व्यय किये जार् रहे हैं। तथार्पि, इन कार्यक्रमों एवं योजनार्ओं क लार्भ वार्स्तव में लोगों को मिल भी रहार् है यार् नहीं, यह जार्ननार् ही मूल्यार्ंकनार्त्मक अनुसंधार्न क उद्देश्य है। मूल्यार्ंकनार्त्मक अनुसंधार्न द्वार्रार् इन कार्यक्रमों के लक्ष्यों एवं उपलब्धियों क मूल्यार्ंकन कियार् जार्तार् है कि लक्ष्य एवं उपलब्धियों में कितनार् अन्तर रहार्य और अन्तर के कारण क्यार् रहे। जिससे कि भविष्य में बनार्ये जार्ने वार्ले कार्यक्रमों और योजनार्ओं में इस अन्तर को कम कियार् जार् सकेय अर्थार्त् योजनार्ओं को और अधिक प्रभार्वशार्ली बनार्यार् जार् सके। अनेक सरकारी, अर्द्ध-सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थार्ओं द्वार्रार् समय-समय पर ऐसे मूल्यार्ंकन करवार्ये जार्ते है कि उनके द्वार्रार् चलार्ये गये कार्यक्रमों की सफलतार् कितनी रही? असफलतार् के कारण क्यार् रहे आदि। उदार्हरणस्वरूप, सार्मुदार्यिक विकास कार्यक्रम के मूल्यार्ंकन के लिये भार्रत सरकार ने ‘कार्यक्रम मूल्यार्ंकन संगठन’ की स्थार्पनार् की है।

(i) गणनार्त्मक अनुसंधार्न (Quantitative Research)

समार्जिक जीवन में बहुत सी घटनार्एँ और तथ्य इस तरह के होते है जिनक प्रत्यक्ष रूप सं अवलोकन करके उनकी गणनार् की जार् सकती है। शार्ब्दिक रूप से Quantity अथवार् परिमार्ण क अर्थ है मार्त्रार् इस प्रकार के अनुसंधार्न में गणनार्त्मक मार्पन एवं सार्ंख्यकीय विश्लेषण को अपनार्यार् जार्तार् है। तथ्यों के विश्लेषण में विभिé प्रकार की सार्ंख्यकीय विधियों क प्रयोग कियार् जार्तार् है जिससे अध्ययन में परिदर्शितार् की मार्त्रार् बढ़ जार्ती है। उदार्हरणस्वरूप, छठे वेतन आयोग के लार्गू हो जार्ने से विभिé वर्गों के वेतन में बढ़ोतरी क प्रतिशत क्यार् रहार्? इस प्रकार के अनुसंधार्न में निर्दशन एवं अनुसंधार्न प्ररचनार् पर विशेष बल दियार् जार्तार् है।

(ii) गुणार्त्मक अनुसंधार्न (Qualitative Research)

सार्मार्जिक घटनार्ओं के अध्ययन के लिए अनेक ऐसी पद्धतियों क भी उपयोग कियार् जार्तार् है जो गुणार्त्मक विशेषतार्ओं जैसे लोगों की मनोवृत्तियों तथार् मार्नव व्यवहार्रों पर विभिन्न संस्थार्ओं और विश्वार्सों के प्रभार्व को स्पष्ट कर सकें। जब अनुसंधार्न क उद्देश्य व्यक्तियों के गुणों क विश्लेषण करनार् हो, तो गुणार्त्मक अनुसंधार्न को अपनार्यार् जार्तार् है।

(iii) तुलनार्त्मक अनुसंधार्न (Comprative Research)

इस प्रकार के अनुसंधार्न में विभिन्न इकाइयों एवं समूहों के बीच पार्यी जार्ने वार्ली समार्नतार्ओं एवं विभिéतार्ओं क अध्ययन कियार् जार्तार् है। भार्रतीय समार्ज एवं जार्पार्नी समार्ज क तुलनार्त्मक अध्ययन, भार्रत की ग्रार्मीण महिलार्ओं तथार् इंग्लैण्ड अथवार् अमरीक की ग्रार्मीण महिलार्ओं की तुलनार् कियार् जार्नार्। अथवार्, विभिé महार्नगरों में महिलार् अपरार्धियों क तुलनार्त्मक अध्ययन, आदि।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *