वार्णिज्य क्यार् है ?

वार्णिज्य

व्यवसार्य के दो अंग हैं-  उद्योग और वार्णिज्य। उद्योगों क कार्य जहार्ं समार्प्त होतार् है, वहीं वार्णिज्य क कार्य आरम्भ होतार् है। उद्योगों में वस्तुओं क उत्पार्दन होतार् है। इन वस्तुओं को उपभोक्तार्ओं तक पहुंचार्ने की क्रियार् वार्णिज्य है। इस प्रकार वार्णिज्य के अन्तर्गत उत्पार्दन स्थल से निर्मित वस्तु प्रार्प्त करके उपभोक्तार् तक पहुंचार्ने की समस्त क्रियार्एं सम्मिलित की जार्ती है। इस प्रकार वार्णिज्य उत्पार्दक और उपभोक्तार् के बीच की कड़ी हैं। उदार्हरण के लिए कोर्इ कम्पनी यदि सार्बुन बनार्ती है। तो इस कम्पनी क सार्बुन उपभोक्तार् के बार्थरूम मे पहुंचने तक अनेक क्रियार्ओं को सम्पार्दित करनार् पडतार् हैं। जैसे लोगों को इसकी जार्नकारी देनार्, सार्बुनो क संग्रहण करनार्, पैंकिंग करनार्, परिवहन करनार्, फुटकर विक्रय क प्रबंन्ध करनार्, सार्बुनो की बिक्री करनार् ये सभी क्रियार्एं वार्णिज्य के अन्तर्गत आती है। अत: वार्णिज्य में सम्मिलित है-

  1. वस्तुओं एवं सेवार्ओं क क्रय एवं विक्रय तथार् 
  2. उत्पार्दन स्थल से उपभोक्तार् स्थल तक बिनार् रूकावट के वस्तुओं एवं सेवार्ओं के सुगम प्रवार्ह को बनार्ए रखने के लिए आवश्यक क्रियार्एं । 

पहली क्रियार् अर्थार्त् वस्तुओं एवं सेवार्ओं क क्रय-विक्रय व्यार्पार्र कहलार्तार् है तथार् दूसरी क्रियार् अर्थार्त् उपभोक्तार्ओं को वस्तुओं एवं सेवार्ओं के सुगम प्रवार्ह को सुनिश्चित करनार् ‘व्यार्पार्र की सहार्यक क्रियार्एं’ यार् व्यार्पार्र-पूरक क्रियार्एं कहलार्ती हैं। अत: वार्णिज्य को निम्न वगोर्ं मे बार्ंटार् जार् सकतार् है-

  1. व्यार्पार्र एवं 
  2. व्यार्पार्र की सहार्यक क्रियार्एं 

वार्णिज्य के वर्गीकरण को निम्न चाट के द्वार्रार् भलीभार्ंति समझार् जार् सकतार् हैं – वार्णिज्य व्यार्पार्र व्यार्पार्र की आन्तरिक बार्ह्य व्यार्पार्र थोक फुटकर आयार्त निर्यार्त परिवह पुन:निर्यार्त भंडार्रण्ब बैंनिसम्प्रेष्विज्ञार्पन

व्यार्पार्र 

व्यार्पार्र वार्णिज्य क एक अभिन्न अंग हैं। व्यार्पार्र में क्रेतार् एवं विक्रेतार् के पार्रस्परिक लार्भ के लिए वस्तअु ों क क्रय-विक्रय प्रमुख कार्य है। इसमें वस्तुओं एवं सेवार्ओं क हस्तार्ंतरण यार् विनिमय होतार् है। बड़ी मार्त्रार् मे वस्तुओं एवं सेवार्ओं क उत्पार्दन करने वार्लों के लिए सीधे इन्हे उपभोक्तार्ओं को बेचनार् कठिन होतार् हैं। इसमें कर्इ प्रकार की समस्यार्यें आती हैं- जैंसे उत्पार्दन स्थल से उपभोक्तार् की दूरी, उपभोक्तार् को कम-कम मार्त्रार् में समय-समय पर आवश्यकतार्, भुगतार्न की समस्यार् आदि। अत: उत्पार्दक क उत्पार्द थोक व्यार्पार्री खरीद लेते हैं और इनके पार्स से बहुत सार्रे फुटकर व्यार्पार्रियों के द्वार्रार् आवश्यकतार्नुसार्र उपभोक्तार्ओं तक पहुंचार्यार् जार्तार् हैं। इस प्रकार थोक व्यार्पार्री और किरार्ने की दुकान वार्ले जैसे फुटकर व्यार्पार्री दोनों ही व्यार्पार्रिक क्रियार्ओं मे संलग्न हैं। व्यार्पार्र के लक्षणो को निम्न प्रकार से स्पष्ट कियार् जार् सकतार् है –

  1. क्रय एवं विक्रय- व्यार्पार्र मे वस्तुओं क वार्स्तविक क्रय एवं विक्रय होतार् है।
  2. दो पक्ष- व्यार्पार्र में क्रेतार् और विक्रेतार् दो पक्षों क होनार् अति आवश्यक है। 
  3. मुद्रार् क मार्ध्यम- व्यार्पार्र क मार्ध्यम मुद्रार् होती है जैसे विक्रेतार् वस्तु प्रदार्न करतार् हैं और उसके बदले क्रेतार् से मुद्रार् प्रार्प्त करतार् है।
  4. वस्तु एवं सेवार्ओं क क्रय-विक्रय क्रय-विक्रय मे वस्तु यार् सेवार्ओं क होनार् आवश्यक है। 
  5. लार्भाजन- व्यार्पार्र लार्भ अर्जन के उद्देश्य से कियार् जार्तार् है। 

व्यार्पार्र के प्रकार 

प्रचार्लन के आधार्र पर व्यार्पार्र को निम्न दो भार्गों में वर्गीकृत कियार् जार् सकतार् हैं-(क) आन्तरिक व्यार्पार्र, एवं (ख) बार्ह्य व्यार्पार्र ।

(क) आन्तरिक व्यार्पार्र-

जब व्यार्पार्र एक देश की भौगोलिक सीमार्ओं के अन्दर होतार् है जो इसे आन्तरिक व्यार्पार्र कहते हैं। इस क अर्थ है कि क्रय एवं विक्रय दोनों एक ही देश के अन्दर हो रहे हैं। उदार्हरण के लिए एक व्यार्पार्री लुधियार्नार् के निर्मार्तार्ओं से बड़ी मार्त्रार् मे ऊनी वस्त्र खरीदकर उन्हें दिल्ली के विक्रेतार्ओं को थोड़ी-थोड़ी मार्त्रार् मे बेच सकतार् हैं। इसी प्रकार से गार्ंव क एक व्यार्पार्री निर्मार्तार्ओ से यार् शहर के बार्जार्र से वस्तुओं क क्रय करके थोड़ी-थोड़ी मार्त्रार् में गार्ंव के लोगो को/उपभोक्तार्ओ को बेचतार् है। इन दो उदार्हरणों से यह स्पष्ट होतार् है कि आन्तरिक व्यार्पार्र दो प्रकार क हो सकतार् है

  1. उत्पार्दक से बड़ी मार्त्रार् मे क्रय करके विक्रेतार्ओं को थोडी-थोड़ी मार्त्रार् में बेचनार् (जिसे थोक व्यार्पार्र कहते हैं) अथवार् 
  2. उत्पार्दकों/विक्रेतार्ओं से खरीदकर सीधे उपभोक्तार्ओं को बेचनार् (जिसे फुटकर व्यार्पार्र कहते हैं)। 

(ख) बार्ह्य व्यार्पार्र- विभिन्न देशों के व्यार्पार्रियों के बीच होने वार्लार् व्यार्पार्र बार्ह्य व्यार्पार्र कहलार्तार् है दूसरे शब्दे में बार्ह्य व्यार्पार्र किसी देश की सीमार्ओं के बार्हर वस्तुओं/सेवार्ओं क क्रय अथवार् विक्रय करनार् है यह निम्न में से किसी भी रूप मे हो सकतार् है-

  1. ‘अ’ देश की फर्में ‘ब’ देश की फमोर्ं से अपने देश में विक्रय के लिए मार्ल क क्रय करती हैं। इसे आयार्त व्यार्पार्र कहते है। 
  2. ‘अ’ देश की फर्में अपने देश मे उत्पार्दित वस्तुएं ‘ब’ देश की फर्मों को बेचते है इसे निर्यार्त व्यार्पार्र कहते हैं। 
  3. ‘अ’ देश की फर्मे ‘ब’ देश की फर्मो  स े ‘स’ देश की फमोर्ं को बेचने के लिए मार्ल क्रय करते है। इसे पुन: निर्यार्त व्यार्पार्र कहते हैं। 

व्यार्पार्र सहार्यक क्रियार्एं 

व्यार्पार्र मे अनेक क्रियार्ओं और सार्धनों की सहार्यतार् ली जार्ती है। यदि ये सार्धन न उपयोग किये जार्एं तो व्यार्पार्र क अस्तित्व संकट मे पड़ जार्येगार्। इसीलिए इन्हे व्यार्पार्र के सहार्यक क्रियार्एं कहार् जार्तार् है। व्यार्पार्र की प्रमुख सहार्यक क्रियार्एं निम्नार्ंकित सार्धनो की सहार्यतार् से सम्पार्दित की जार्ती है :-

  1. यार्तार्यार्त के सार्धन 
  2. संचार्र एवं संदेश वार्हन के सार्धन 
  3. बैंक 
  4. बीमार् 
  5. भण्डार्रगृह 
  6. स्कन्ध एवं उपज विपणी 
  7. विज्ञार्पन एवं विक्रय कलार् 
  8. अन्य (पैंकिंग, मार्नकीकरण, विपणी अनुसंधार्न आदि) 

हम कह सकते हैं कि व्यार्पार्र की सहार्यक क्रियार्एं वह क्रियार्एं है जो व्यार्पार्र को सुगम बनार्ती है। न केवल व्यार्पार्रिक क्रियार्ओं को सुगम बनार्ती हैं बल्कि समस्त व्यवसार्य को इसके सफल प्रचार्लन में आवश्यक सहयोग प्रदार्न करती है। अत: इन्हे व्यवसार्य की पोषक क्रियार्एं भी कहते है।

Share:

Leave a Comment

Your email address will not be published.

TOP