रार्ष्ट्रीयतार् में बार्धक तत्व

किसी भी रार्ष्ट्र के नार्गरिकों में रार्ष्ट्रीयतार् की भार्वनार् उस रार्ष्ट्र के लिये प्रार्ण वार्यु के समार्न है। क्योंकि रार्ष्ट्र किसी भूमि से नहीं किसी निश्चित भूभार्ग में रहने वार्ले एक समार्न सोच वार्ले लोगों से बनती है, जिसे सभी लोग मिलकर एक रार्ष्ट्र क नार्म देते हैं। परन्तु कुछ निश्चित तत्व रार्ष्ट्रीयतार् के विकास में बार्धक होते हैं, क्योंकि शिक्षार् को इन्हीं तत्वों से जूझनार् पड़तार् है तार्कि रार्ष्ट्रीयतार् की भार्वनार् क समुचित विकास हो सके।

सार्म्प्रदार्यिकतार् – 

जब कोर्इ भी देश जैसे कि भार्रत विभिन्न धर्म के लोगों से बसार् होतार् है, तब लोग अपने धर्म को सर्वोपरि मार्नते हुये दूसरे सम्प्रदार्य के लोगों से बहुधार् मार्नसिक रूप से नहीं जुड़ पार्ते हैं, इससे अप्रत्यक्ष रूप में रार्ष्ट्र के लोग सार्म्प्रदार्यिक गुटों में बंटे रहते हैं और सम्प्रदार्य को रार्ष्ट्र से भी ऊपर मार्नने लगते हैं, तब समस्यार् और जटिल हो जार्ती है। सर्वपल्ली रार्धार्कृष्णन ने सार्म्प्रदार्यिकतार् एवं रार्ष्ट्रीयतार् के सम्बंध को स्पष्ट करते हुये लिखार् कि -’’आखिर धर्म क्यार् है? समार्ज को धार्रण करे, समार्ज को बनार्ये रखतार् है, वहीं धर्म है जो धर्म समार्ज को विभार्जित करतार् है वह समार्ज में फूट डार्लतार् है, मतभेद पैदार् करतार् है, घृणार् व द्वेण फैलार्तार् है, वह अर्धम है।’’

भार्षार्वार्द – 

किसी देश में विभिन्न भार्षार्-भार्षी लोगों क निवार्स उस देश में रार्ष्ट्रीयतार् की भार्वनार् के विकास में बार्धक तत्व है, क्येार्ंकि भार्रत जैसे देश में जब प्रदेशों क बंटवार्रार् भार्षार् के आधार्र पर हुआ तब लोगों की निष्ठार् अपने भार्षार् के प्रति अधिक बढ़ी और फलस्वरूप रार्ष्ट्र को एकतार् के सूत्र में बार्ंधने वार्ली ‘हिन्दी भार्षार्’ जो कि रार्ष्ट्र भार्षार् भी हैं, वह आज उपेक्षित है, और अधिकांश लोगों द्वार्रार् प्रयोग में नही लार्यी जार् रही है। अब तो यहार्ं तक देखने में आतार् है, कि अहिन्दी भार्षार् रार्ज्य हिन्दी क विरोध कर बंटे हुये है।

क्षेत्रीयतार् – 

जब रार्ष्ट्र अनके रार्ज्यों में बंटार् होतार् है, तब सम्पूर्ण रार्ष्ट्र पहले क्षेत्रीयतार् के आधार्र पर बट जार्तार् है। किसी भी देश में रार्ष्ट्र , रार्ष्ट्रीयतार् की भार्वनार् के विकास में क्षेत्रीय कट्टरतार् भी एक बार्धक तत्व है। क्षेत्रीयतार् क भार्रत जैसे देश में प्रभार्व पर डॉ0 सम्पूर्णार्नन्दन ने टिप्पणी करते हुये लिखार् कि- ‘‘आज दक्षिण भार्रत के लोगों के मुॅह से सुनने में आती है, कि हम हिन्दुस्तार्न से अलग होनार् चार्हते हैं, पर जो धनार्ढ्य हैं वे सोचते है कि क्यार् अपने आजार्दी व सम्पत्ति की रक्षार् कर सकेंगे। क्यार् तमिलनार्डू वार्ले अलग होकर अपनी अधिक रक्षार् कर सकते हैं। वह ऐसार् करके अपने को भी डुबोयेंगे और दूसरों को भी ले डूबेंगे। इसलिये ऐसार् सेचनार् बड़ी भयार्नक चीज है।’’’

जार्तिवार्द – 

समार्ज क जार्तीय विखण्डन लोगों के हृदय को जोड़े नहीं पार्यार् और इसने पूरे समार्ज को द्वेषपूर्ण बनार् दियार्। ऊँच-नीच के भेदभार्व ने हृदय को इतनार् कलुशित कियार् है कि समार्ज समवेत सुख व दुख में खड़ार् नहीं हो पार्तार् है तो रार्ष्ट्र के लिये कैसे खड़ार् होगार्। भार्रत जैसे देश की यह सत्य कहार्नी है, इस दर्द को जवार्हर लार्ल नेहरू ने इस प्रकार व्यक्त कियार् कि- ‘‘मैं समझतार् हॅू कि भार्रत को एक मार्नने में सबसे खरार्ब चीज यहार्ं की जार्ति प्रथार् है। हम आप बहस करते हैं, कभी जनतंत्र की, प्रजार्तंत्र की, समार्जवार्द की और किस किस की। इन सबमें चार्हे जो लार्जमी हो पर उसमें जार्ति प्रथार् नहीं आ सकती क्योंकि यह रार्ष्ट्र की हर तरक्की के प्रतिकूल है। जार्त-पार्त में रहते हुये न हम समार्जवार्द, न ही प्रजार्तंत्र को पार् सकते हैं। यह प्रथार् तो देश और समार्जवार्द को टुकड़े कर ऊपर नीचे और अलग-अलग भार्गो में बार्ंटती है इस तरह वह बार्ंटने क कार्य करती है और अब जार्ति प्रथार् पुरार्नी व हार्निकारक हो गयी।’’ आज हमार्रे देश की रार्जनीति क आधार्र जार्तिवार्द है।

रंगभेद –

यह भेद ऐसार् है, जिसने एक रार्ष्ट्र को ही नही विश्व को दो खण्डों में बार्ंटार् श्वेत एवं अश्वेत। कर्इ देशों में सम्पूर्ण रार्जनीति इसको आधार्र बनार्कर की जार्ती है। अमेरिका, अफ्रीक आदि ऐसे ही देश है। रंगभेद ने इन रार्ष्ट्रों को दो खण्डों मे बार्ंट रखार् है, जिससे कि लोगों क हृदय आपस में नहीं मिलतार् लोगों के लिये रार्ष्ट्र से ऊपर प्रजार्ति है।

दूषित शिक्षार् प्रणार्ली – 

रार्ष्ट्रीयतार् की भार्वनार् क प्रचार्र-प्रसार्र न होने के कारण में दूषित शिक्षार् प्रणार्ली भी एक प्रमुख भूमिक निभार्ती है। पार्ठ्यक्रम में रार्ष्ट्रीयतार् के विकास करने वार्ले तत्व कम पार्ये जार्ते हैं। भार्रत जैसे प्रजार्तंत्र में प्रजार्तार्ंत्रिक मूल्यों एवं रार्ष्ट्रीयतार् की भार्वनार् के विकास क दार्यित्व शिक्षार् को ही सौंपार् गयार् है, परन्तु शिक्षार् क उचित प्रचार्र-प्रसार्र भी अभी संतोषजनक स्तर तक नहीं हो पार्यार् है, और शिक्षार् में रार्ष्ट्रीयतार् के तत्वों को भी समार्वेशित नहीं कियार् गयार् है।

नैतिक पतन एवं भ्रष्टार्चार्र – 

किसी भी समार्ज में अनुशार्सनहीनतार्, कतर्व् यहीनतार्, अधिकारों क अधिक प्रयोग, उत्तरार्दयित्वों के प्रति उदार्सीनतार् निष्ठार् की कमी भौतिकवार्दी दृष्टिकोण रार्ष्ट्रीयतार् की भार्वनार् के उद्भव में बार्धक तत्व है, क्योंकि नार्गरिकों क नैतिक उत्थार्न एवं सच्चरित्रतार् ही देश की उन्नति क आधार्र होती है।

दूषित रार्जनीति – 

भार्रत सहित अधिकांश देश की रार्जनीति में अब स्वच्छतार् नहीं रह गयी है, और रार्जनीति झूठ, फरेब, धोखार्, गुमरार्ह, भ्रष्टार्चार्र व देश के ऊपर अपने स्वाथों के प्रति भूख क पर्यार्य बन चुकी है। रार्जनितिज्ञ सार्म्प्रदार्यिकतार्, क्षेत्रवार्द, भार्षार्वार्द, जार्तिवार्द एवं रंगभेद को ही अपनी रार्जनीति क आधार्र बनार्ते हैं। रार्जनितिज्ञ अपने स्वाथ पूर्ति हेतु देश को जोड़ते नहीं तोड़ते हैं। इस प्रकार से यह स्पष्ट हो जार्तार् है कि अनेक कारक रार्ष्ट्रीयतार् के विकास में बार्धक  है।

Share:

Leave a Comment

Your email address will not be published.

TOP