नियोजन क्यार् है ?

सार्धार्रणत: जब कोर्इ व्यक्ति किसी कार्य को कब करनार् है ? कैसे करनार् है ? कहार्ं करनार् हैं ? और किस रूप में करनार् है आदि प्रश्नों को विचार्र करतार् है तो एक विभिन्न विकल्पों में से किसी एक निर्णय पर पहुचतार् है उसे ही नियोजन कहते है सार्धार्रण शब्दो में भविष्य के कार्यों क वर्तमार्न मे निर्धार्रण नियोजन हैं। एम.र्इ.हर्ले के शब्दों में-’योजनार् क अर्थ है भविष्य में किए जार्ने वार्ले काम के बार्रे में पहले से निर्धार्रित करनार् इसमें उद्देश्यों, नीतियो कार्यक्रमों तथार् कार्यविधियेार्  क उनके विभिन्न विकल्पों में से चयन करनार् हैं’’।

नियोजन की विशेषतार्एं यार् प्रकृति –

  1. निश्चित लक्ष्य क निर्धार्रण-नियोजन के लिए कुछ निश्चित लक्ष्यों क निर्धार्रण होनार् आवश्यक है इसी के आधार्र पर ही योजनार्एं तैयार्र की जार्ती है और इससे लक्ष्यों की प्रार्प्ति में सुगमतार् होती है।
  2. सर्वोत्तम विकल्प क चयन-योजनार् बनार्ते समय विभिन्न विकल्पार् ें को तैयार्र कर उनकी तुलनार् की जार्ती हैं, तत्पश्चार्त् उनमें से श्रेष्ठ क चुनार्व कर कार्य हेतु योजनार्यें एवं नीतियॉं बनाइ जार्ती हैं। 
  3. प्रबध की प्रार्रंभिक क्रियार्- प्रबंध के लिए विभिन्न कार्यो में से प्रथम प्रक्रियार् नियोजन क क्रियार् है इसके पश्चार्त् ही प्रबंध के कार्य प्रार्रंभ हो सकती है।
  4. उद्देश्य क आधार्र-नियोजन संस्थार् के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए बनार्यार् जार्तार् है उद्देश्यों की पूर्ति के लिए जिस-जिस कार्यो को करनार् होतार् है, उसी के संदर्भ में नियोजन कियार् जार्तार् है नियोजन निर्मार्ण क उद्देश्य संस्थार् के उद्देश्यों की कम से कम लार्गत एवं अधिकतम सफलतार् की प्रार्प्ति के लिए कियार् जार्तार् है
  5. सर्वव्यार्पकतार्-सम्पूर्ण प्रबंन्ध में नियेार्जन व्यार्प्त है, प्रबन्ध के प्रत्येक क्षेत्र में नियेार्जन क अस्तित्व है, प्रत्येक प्रबन्धक को योजनार्ये बनार्नी पड़ती है। इसी प्रकार फोरमेन भी अपने स्तर पर योजनार्यें बनार्तार् है अत: यह सर्वव्यार्पी है।
  6. लोचतार्-योजनार् में लोच क गुण अवश्य रहतार् है, अर्थार्त आवश्यकतार्नुसार्र उसमें परिवर्तन करनार् पड़तार् है, योजनार्यें जितनी लचीली होंगी, योजनार् उतनी सफल होती है अत: योजनार् में लोचतार् होनी चार्हिए।
  7. बौद्धिक प्रक्रियार्-नियोजन निश्चित रूप से एक बौद्धिक प्रक्रियार् है चुंकि विभिन्न विकल्पों में किसी श्रेष्ठ विकल्प क चयन करनार् होतार् है जो कि तर्को सिद्धार्ंतो एवं संस्थार् कि हितो को ध्यार्न में रखकर निर्णय लियार् जार्तार् है। नियेार्जन के संदर्भ को कून्ट्ज एवं ओ डोनेल ने भी स्वीकार कियार् है और इसे एक बौद्धिक प्रक्रियार् मार्नार् है।
  8. निरंतर चलने वार्ली प्रक्रियार्-यह एक निरंतर रूप से चलने वार्ली प्रक्रियार् है जो कि अनेक कार्यो के लिए व्यार्पार्र के विकास के सार्थ-सार्थ हर कार्यो हर स्तरों निर्मार्ण विकास एवं विस्तार्र के लिए इसकी आवश्कतार् होती है अत: यह एक न रूकने वार्ली सतत् प्रक्रियार् है।
  9. अन्य-
    1. नियोजन अंतर विभार्गीय क्रियार् है।
    2. नियोजन से कार्यकुशलतार् मे वृद्धि होती है।
    3. नियेार्जन एक मागदर्शन है।

नियोजन क महत्व, आवश्यकतार् यार् लार्भ

  1. लक्ष्य प्रार्प्ति में सहार्यक-नियोजन की शुरूआत लक्ष्य से होती है इन लक्ष्यों को तभी प्रार्प्त कियार् जार् सकतार् है जब उपक्रम की समस्त क्रियार्एॅं पूर्व नियोजित हो जिससे कि प्रत्येक कार्य व्यस्थित व सही समय पर पूर्ण कियार् जार् सके।
  2. सार्धनों क सर्वोत्तम उपयोग-नियेार्जन निर्मार्ण के समय संस्थार् में प्रयुक्त सार्धनों के विकल्पो पर विचार्र करते हुए सर्वोत्तम क प्रयोग कियार् जार्तार् है जो कि योजनार् क एक भार्ग होतार् है इस प्रकार उत्पार्दन के प्रभार्वशार्ली सार्धनों क नियोजन के मार्ध्यम से सर्वोत्तम प्रयोग क अवसर प्रार्प्त होतार् है।
  3. न्यूनतक लार्गत-नियेार्जन के मार्ध्यम से चयनित विकल्पों के कारण उत्पार्दन के लार्गत मे कमी करने में सहार्यतार् प्रार्प्त होती है नियेार्जन के द्वार्रार् अनुपार्त्दक एव अनार्वश्यक क्रियार्ओं को समार्प्त करते हुए सीमित सार्धनों क सदुपयोग करने से लार्गत मे भी स्वत: कमी आती है।
  4. मनोबल में वृद्धि-नियेार्जन की प्रक्रियार् के अंतर्गत विभिन्न विकल्पों में से श्रेष्ठ विकल्पों के चयन से अधिकारी एवं कर्मचार्री के मध्य आत्मविश्वार्स बढ़तार् है और वे सफलतार् पूर्वक संस्थार् के कार्य को संपार्दित करते है।
  5. निर्णय लेने में सुविधार्-नियोजन से प्रबंधको को निर्णय करने मे दिशार् प्रार्प्त होती है लक्ष्य प्रार्प्ति के लिए कार्य प्रणार्ली को ध्यार्न में रखकर तैयार्र की गर्इ योजनार् से लक्ष्य हार्सिल करने और कार्य योजनार् संबंधी दिशार्-निर्देश तैयार्र करने में मदद मिलती है।
  6. समन्वय एवं नियंत्रण-नियोजन से समन्वय प्रार्प्त करने और नियंत्रण में मदद मिलती है सही तरीके से तैयार्र की गर्इ योजनार् में कार्यप्रणार्ली के बार्रे में निर्देश निहित होते है। इससे समन्वय अधिक प्रभार्वशार्ली होतार् है इससे विचलनों की पहचार्न करने और सुधार्रार्त्मक कार्यवार्ही करने मे ंसहार्यतार् मिलती है।
  7. परिवर्तनुसार्र विकास-लचीली योजनार्एं हमेशार् संगठन के लिए स्वीकार्य होती हैं दूसरे शब्दों में कहें तो योजनार् से किसी भी संगठन को बदलती स्थितियों और वार्तार्वरण के अनुरूप तार्लमेल बिठार्ने में मदद मिलती है।
  8. भार्वी अनिश्चिततार् में कमी-नियेार्जन से क्रियार्कलार्पों में अनिश्चिततार्एं, जोखिम और भ्रार्मक स्थितियार्ं कम हो जार्ती हैं योजनार् के मार्ध्यम से हर किसी को इस बार्त क पतार् चलतार् है कि भविष्य में क्यार् करनार् है इसलिए हर किसी को यह पतार् होतार् है कि वार्स्तव में क्यार् करने की आवश्यकतार् है इससे एक प्रकार क दिशार्-निर्देश प्रार्प्त होतार् है परिणार्मस्वरूप कार्य प्रणार्ली में गतिशीलतार् आती है।
  9. अन्य-
    1.  न्यूनतम लार्गत पर अधिकतम उत्पार्दन की प्रार्प्ति के लिए।
    2. अभिप्रेरणार् क लार्भ प्रार्प्त करने के लिए।
    3. अधिकारों क भारार्पण हेतु।
    4. कुशल संप्रेषण हेतु।
    5. रार्ष्ट्र समार्ज व शैक्षणिक सस्ं थार्ओं के लिए भी नियोजन महत्वपूर्ण है।

नियोजन की सीमार्एॅ यार् कठिनाइयॉ यार् बार्धार्एॅ

  1. सर्वोत्तम विकल्प के चुनार्व में कठिनाइ आती हैं।
  2. निर्णार्यक योजनार् बनार्नार् एक कठिन कार्य है। क्योंकि भविष्य अनिश्चित होने के कारण अनेक समस्यार्एॅं एवं बार्धार्एॅं आती है।
  3. कुशल एवं अनुभवी नियोजकों के अभार्व में श्रेष्ठ योजनार् बनार्न कठिन होतार् है।
  4. समय व्यय:- कर्इ बार्र नियेार्जन निर्मार्ण मे समय लग जार्तार् है और कभी बने हुए नियोजन को लार्गू करने में विलंब हो जार्तार् हे परिणार्मत: येार्जनार् की सफलतार् संदिग्ध हो जार्ती है।

नियोजन की प्रक्रियार् यार् तकनीक

किसी भी संगठन में योजनार् प्रक्रियार् क चरणबद्ध तरीके से अनुसरण कियार् जार्तार् है इसके बिनार् सही योजनार्ओं को तैयार्र करने और उनके क्रियार्न्वयन में कठिनार्इयार्ं पैदार् हो सकती हैं ये चरण हैं।

  1. लक्ष्य निर्धार्रण-हम सब जार्नते हैं कि हर संगठन क कोर्इ न कोर्इ लक्ष्य होतार् है, जिसे वह प्रार्प्त करने की कोशिश करतार् है योजनार् की शुरूआत दरअसल, अधिक ठोस, स्पष्ट रूप में इन्हीं लक्ष्यों को परिभार्षित करने से होती है इससे प्रबंधन को यह समझने में आसार्नी होती है कि उन्है। किन लक्ष्यों को पार््र प्त करनार् है। और फिर वे उन्हीं के अनुरूप गतिविधियों को निर्धार्रण करते हैं इस प्रकार से संगठन के लक्ष्यों क निर्धार्रण एक अच्छी और साथक योजनार् की पहली आवश्यकतार् होती है।
  2. पूर्वार्नुमार्न लगार्नार्-लक्ष्यों क निर्धार्रण हो जार्ने के बार्द पूर्वार्नुमार्न लगार्यार् जार्तार् है, इस हेतु विभिन्न ऑंकड़ों, प्रवृतियों व परम्परार्ओं को ध्यार्न में रखार् जार्तार् है व्यवसार्य क पूर्वार्नुमार्न मौसम, बार्जार्र व अन्तर्रार्ष्ट्रीय घटनार्क्रम पर भी निर्भर है, अत: पूर्वार्नुमार्न के समय इन सभी बार्तों पर ध्यार्न दियार् जार्तार् है पूर्वार्नुमार्न के अन्तर्गत पार्रिश्रमिक की दर, क्रय की दर व मार्त्रार्, विक्रय नीति व विक्रय मार्त्रार्, पूॅंजी की स्थिति, लार्भार्ंश वितरण, लार्भ आदि के संदर्भ मे पूर्वार्नुमार्न लगार्यार् जार्तार् है, पूर्वार्नुमार्न भार्वी परिस्थितियों के बार्रे में किये जार्ते हैं, पूर्वार्नुमार्न लगार्ते समय इस बार्त क ध्यार्न रखार् जार्तार् है कि पूर्वार्नुमार्न सत्यतार् से अधिक दूर न जार्ये पूर्वार्नुमार्न लगार्ते समय विभिन्न कर नीति व सरकारी नीतियों क भी विशेष ध्यार्न रखार् जार्तार् है।
  3. वैकल्पिक कार्यर्विधियों को निर्धार्रण-किसी कार्य को सम्पन्न करने के अनेक तरीके होते है। अत: विभिन्न विकल्पों को तय कर नियोजन में शार्मिल करने हेतु विश्लेषण एवं चिन्तन करनार् आवश्यक होतार् है।
  4. वैकल्पिक कार्यविधियों क मूल्यार्ंकन-विभिन्न वैकल्पिक कार्यविधियों क चयन पश्चार्त् उनके गुण दोषों एवं लार्गत के आधार्र पर मूल्यार्ंकन कियार् जार्तार् है।
  5. श्रेष्ठ विकल्प क चयन-विभिन्न विकल्पों क मूल्यार्ंकन एवं चिन्तन अत्यन्त सार्वधार्नी पूर्वक करके श्रेष्ठ विकल्प क चयन कियार् जार्तार् है इसे निर्णार्यक बिन्दु क नियोजन क निर्मार्ण कहते हं।ै
  6. उपयोजनार्ओं क निर्मार्ण- मूल योजनार् के कार्य को सरल बनार्ने के लिए सम्बन्धित उपयोजनार्ओं क निर्मार्ण कियार् जार्तार् हैं जो लचीलार् होतार् है तार्कि प्रतियोगियों के गतिविधियों क मुकाबलार् करने हेतु मोर्चार्बन्दी कियार् जार् सके।
  7. क्रियार्ओं क क्रम निश्चित करनार्-योजनार् एवं उपयोजनार्ओं क निर्मार्ण हेार् जार्ने के पश्चार्त क्रियार्ओं क क्रम निश्चित कियार् जार्तार् है तार्कि कौन सार् कार्य कब व कहॉं करनार् है स्पष्ट हो सके।
  8. क्रियार्न्वयन एवं अनुसरण-क्रियार्ओं क क्रम निर्धार्रण पश्चार्त् नियोजन को लार्गू यार् क्रियार्न्वित की जार्ती है निर्देशों एवं नीतियों क अनुसरण कियार् जार्तार् है वार्ंछित उद्देश्यों की प्रार्प्ति तक अनुसरण कार्य लगार्तार्र कियार् जार्तार् है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *