जनसंचार्र की अवधार्रणार्

बीसवीं सदी के आरम्भिक समय को हम मार्स मीडियार् क आरम्भिक काल कह सकते हैं। इस काल में संचार्र मार्ध्यमों तथार् संचार्र की तकनीक में व्यार्पक बदलार्व आने शुरु हुए। बीसवीं शतार्ब्दी के दूसरे-तीसरे दशक में बदलते हुए वैश्विक परिदृश्य में मीडियार् के बड़ते हुए प्रभार्व को देखते हुए मीडियार् की शक्ति, सार्मार्जिक प्रभार्व और सार्मार्जिकों को ज्ञार्न देने में उसकी भूमिक पर विचार्र करने की जरूरत महसूस होने लगी। पश्चिमी चिन्तक डीफ्लोर (Defleur) क कहनार् है कि सन् 1910 तक यू.एस.ए. में समार्चार्र पत्रों की वितरण संख्यार् आश्चर्यजनक रूप से बढ़ी और कुछ ही समय में यूरोप तथार् विश्व के अन्यार्न्य हिस्सों में भी यह वृद्धि होने लगी। प्रथम विश्वयुद्ध के समय सार्मार्न्य जन में मीडियार् की बढ़ती शक्ति को महसूस कियार् जार्ने लगार् । इसके उपरार्न्त सोवियत संघ तथार् जर्मनी में मीडियार् क उपयोग सत्तार् पक्ष द्वार्रार् अपनी शक्ति बढ़ार्ने के लिए प्रचार्रक के रूप में होने लगार्।

द्वितीय विश्वयुद्ध के समय समार्चार्र और मनोरंजन के प्रचुर प्रयोग ने इसकी प्रचार्रक क्षमतार् को भली-भँार्ति स्थार्पित कर दियार् और फिर जनप्रचार्र ने वैचार्रिक मतार्मत तय करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण भूमिक निभार्नार् आरम्भ कर दियार्। उन्नीसवीं शतार्ब्दी के उत्तराध और बीसवीं शतार्ब्दी के आरम्भ में बनते हुए नए समार्ज में पूँजीवार्द के आगमन के सार्थ लोकतार्न्त्रिक व्यवस्थार्ओं क आविर्भार्व हुआ। बार्जार्र क विस्तार्र होने लगार्, औद्योगीकरण और शहरीकरण होने लगार्। पश्चिमी समार्जशार्स्त्री- स्पेन्सर, वेबर, दुख्र्ार्ीम, पाक आदि के चिन्तन में ग्रार्मीण समार्ज के शहरीकरण और जनचेतनार् के स्वर उभर कर आने लगे। इस आधुनिक समार्ज में एक ऐसार् व्यार्पार्रिक वर्ग उभरने लगार्, जिसे अपने उत्पार्द की अधिकाधिक खपत करने की जरूरत होने लगी और इसके लिए यार्तार्यार्त और संचार्र के तत्कालीन संसार्धन अपर्यार्प्त होने लगे। रार्जनीतिक दलों को लोकतार्न्त्रिक व्यवस्थार् में अधिकाधिक लोगों के विचार्रों को अपने पक्ष में मोड़ने की जरूरत होने लगी, लोगों को अपने विचार्र समार्ज के समक्ष प्रस्तुत करने के लिए यार् रार्जसत्तार् तक पहुँचार्ने के लिए संचार्र के सार्धनों की आवश्यकतार् होने लगी और इन आवश्यकतार्ओं की पूर्ति के लिए संचार्र के मुद्रण मार्ध्यमो से लेकर कम्प्यूटर तक, तार्र से लेकर मोबार्इल तक, रेडियो से लेकर टेलीविज़न तक अनेक संचार्र-संसार्धन अत्यधिक द्रुतगति से विकसित होने लगे।

सूचनार् प्रौद्योगिकी के इस विकास ने संचार्र के क्षेत्र में एक क्रार्न्ति उपस्थित कर दी। जनसंचार्र की अवधार्रणार् को समझने के लिए संचार्र प्रौद्योगिकी को जार्नने की भी आवश्यकतार् है क्योंकि इस प्रौद्योगिकी के द्वार्रार् ही जनसंचार्र सम्भव है। इस प्रौद्योगिकी के सकारार्त्मक और नकारार्त्मक दोनों परिणार्म हमें दिखाइ देते हैं। इसने एक ओर स्थार्नों की दूरी को कम करने में, वैश्विक परिदृश्य को समझने में, ज्ञार्न-विज्ञार्न के विविध क्षेत्रों से परिचित होने में, रार्जनीतिक परिस्थितियों को समझने में, सार्ंस्कृतिक ऐक्य और आर्थिक नीतियों को समझने में, जनमत के महत्व को समझने में, सार्मार्जिक परिदृश्यों को समझने में महत्वपूर्ण भूमिक निभाइ – समार्ज की आशार्ओं को पंख दिये तो दूसरी ओर समार्ज के भय को भी प्रकट कियार् क्योंकि पोर्नोग्रॉफी जैसी विधार् के प्रवेश के सार्थ संचार्र संसार्धनों ने जनमन में हिंसार्, क्रूरतार्, अश्लीलतार्,यौन अपरार्धार्दि की दुष्प्रवृत्ति को भी बल दियार्, जिसके कारण जनसंचार्र के दुष्परिणार्म भी प्रकट हुए।

जनसंचार्र क लक्ष्य

जनसंचार्र सार्मार्जिक सन्दर्भों से जुड़ार् है। जनसंचार्र यदि समार्ज के विकास से जुड़ार् है तो यह समार्ज के विकास को भी प्रभार्वित करतार् है। जनसंचार्र ने हमार्रे जीवन के रार्जनीतिक, आर्थिक, सार्मार्जिक, सार्ंस्कृतिक पक्षों को प्रभार्वित कियार् है। जनसंचार्र ने सूचनार् के अधिकार क विस्तार्र कियार् है, जिससे लोगों में रार्जनीतिक जार्गरूकतार् आर्इ है। यद्यपि रार्जनीतिज्ञों ने जनमत को अपने पक्ष में करने के लिए, अपने रार्जनीतिक हितों के प्रचार्र के लिए सदैव मीडियार् के संसार्धनों क प्रयोग कियार् है, उदार्हरणत: हम पार्ते हैं कि सार्रार् विश्व समार्चार्रों के लिए आर्थिक दृष्टि से और संसार्धनों की दृष्टि से सशक्त देशों-अमेरिक और यूरोप पर निर्भर है। इन देशों की समार्चार्र एजेंसियों द्वार्रार् प्रेषित समार्चार्रों के ही सहार्रे से जार्नकारियार्ँ पार् सकते हैं क्योंकि विकासशील देशों के पार्स विकसित देशों के समार्न सशक्त संसार्धन नहीं हैं। हमार्रे देश में भी समार्चार्र पत्रों पर औद्योगिक घरार्नों क वर्चस्व है, रेडियो, टीवी आदि में सरकारी नियन्त्रण है। जनसंचार्र के द्वार्रार् रार्जनीतिक लक्ष्यों को तीव्र और प्रभार्वशार्ली रूप में पूरार् कियार् जार् सकतार् है तो रार्जनीतिक लक्ष्य क यह प्रयार्स भी होतार् है कि लोगों को विकल्प क मौक दिये बिनार् उन्हें अपने विचार्रों के जार्ल में फँसार् दियार् जार्ए। जनसंचार्र रार्जनीतिक विभ्रम को फैलार्ने क हथियार्र भी बन सकतार् है। यह तो जनतार् के विवेक पर है कि वह किसी भी संदेश के सकारार्त्मक और नकारार्त्मक पहलू को समझे और उनसे प्रभार्वित हो।

जनसंचार्र के मार्ध्यमों क अधिकाधिक विस्तार्र व्यार्पार्र के कार्यों के लिए हुआ थार्। स्पश्ट है कि जनसंचार्र के मार्ध्यमों क उपयोग सिर्फ रार्जनीतिक लक्ष्यों के लिए ही नहीं हुआ अपितु आर्थिक लक्ष्यों को पूरार् करने के उद्देश्य से भी हुआ। समार्चार्र पत्रों द्वार्रार् रार्जनीतिक प्रचार्र के सार्थ सार्थ व्यार्पार्रिक गतिविधियों को भी प्रसरित कियार् गयार्। आज विज्ञार्पनी दुनियार् ने किस प्रकार अर्थपक्ष को प्रभार्वित कियार् है, यह सभी को ज्ञार्त है। बार्जार्र की शक्ति स्थार्पित करने में, उपभोक्तार्वार्द को बढ़ार्वार् देने में, पूँजी को केन्द्रीकृत करने में जनसंचार्र मार्ध्यमों की भूमिक को नकारार् नहीं जार् सकतार्।

सार्मार्जिक क्षेत्र पर तो जनसंचार्र क प्रभार्व बहुत गहरार् है। एक समय थार् जब विदेश जार्ने पर लोगों क अपने सम्बन्धियों से सम्पर्क नहीं हो पार्तार् थार् यार् बमुश्किल होतार् थार्, फिर चिट्ठियों द्वार्रार् यह सम्पर्क कुछ सम्भव हुआ, फिर तार्र, टेलीफोन, आदि के द्वार्रार् सम्पर्क सूत्र बढ़ने लगे और अब र्इ-मेल,चैटिंग, टेली कॉन्फ्रेंसिंग आदि के द्वार्रार् एक दूसरे से बार्त करनार् इतनार् सहज हो गयार् है, जैसे आमने-सार्मने बार्त करनार्। यार्नी जनसंचार्र ने दुनियार् को बहुत छोटार् बनार् दियार् है। हमार्रे दैनन्दिन जीवन में जनसंचार्र मार्ध्यमों ने इतन सशक्त ढंग से प्रवेश कर लियार् है कि अब उनके बिनार् जीवन की कल्पनार् सम्भव नहीं है। प्रार्त:काल से रार्त्रि तक अखबार्र, फोन, मोबार्इल, कम्प्यूटर, इन्टरनेट, आदि हमार्री पहुँच के दार्यरे में रहते हैं। एक मोबार्इल से अब हमार्रार् काम नहीं चलतार्, दो सिम वार्ले , मल्टी सिम वार्ले फोन आसार्नी से बार्जार्र में उपलब्ध हैं ये मार्ध्यम हम तक सूचनार् पहुँचार्ते हैं, हमे ज्ञार्न-विज्ञार्न के विविध रूपों, क्षेत्रों से परिचित करार्ते हैं। हमार्री अभिरुचियों, प्रस्तुतियों, तरीकों, शैलियों को भी जनसंचार्र ने प्रभार्वित कियार् है। जनसंस्कृति और आभिजार्त्य संस्कृतियों के अन्तरार्ल को कम करने क कार्य जनसंचार्र ने कियार् है। जनसंस्कृति मूलत: वेशभूषार्, परम्परार्एँ, संगीत, नृत्य, लोककथार्एँ आदि के आधार्र पर निधार्रित होती हैं, जनसंचार्र के संसार्धनों ने स्थार्न-स्थार्न की जनसंस्कृति से हमार्रार् परिचय करार्यार् है। इससे एक ओर हमें अन्य संस्कृतियों के वैशिष्ट्य से परिचित करार्कर हमार्री सार्ंस्कृतिक अभिरुचियों को विस्तृत कियार् है तो हमार्री मूल संस्कृति को विकृत करने में भी योगदार्न कियार् है।

उदार्हरणस्वरूप हम अपनी कुमार्उँनी अथवार् गढ़वार्ली संस्कृति को देखें तो पार्ते हैं कि अब कुमार्उॅनी यार् गढ़वार्ली बोलने वार्लों की संख्यार् विशेषत: शहरी क्षेत्रों में बहुत कम होती जार् रही है, हमार्री पार्रम्परिक पोशार्क भी अब बहुत कम यार् परिवर्तित रूप में दिखाइ देती है, हमार्रे अनेक व्यंजन अब जनमार्नस से लुप्त हो रहे हैं, लोकगीतों में भी परिवर्तन हुए है दूसरी ओर नये नये व्यंजन, नर्इ- नर्इ वेशभूषार्एँ हमें देखने को मिलती हैं। स्पष्ट है कि जनसंचार्र के मार्ध्यम विभिन्न संस्कृतियों को एक दूसरे के नजदीक लार्ते हैं। ‘कल्चरल एक्सचेंज’ शब्द क प्रचलन जनसंचार्र की ही देन है। जनसंचार्र ने लोकसंस्कृति को विश्वमंच पर प्रस्तुत कियार् हैं तो दूसरी ओर अपसंस्कृति को भी लोकप्रिय बनार्यार् है। जहार्ँ पहले लोग अपनी संस्कृति से ही जुड़ते थे, वैवार्हिक सम्बन्धों में वे अपने दार्यरे से बार्हर नहीं निकलते थे,आज भी हमें ऐसे उदार्हरण मिलते हैं कि अपने दार्यरे से बार्हर वैवार्हिक सम्बन्ध स्थार्पित करने वार्ले समार्ज द्वार्रार् बहिष्कृत कर दिये जार्ते हैं, परन्तु अब यह दार्यरार् धीरे-धीरे बढ़ रहार् है और हम तमार्म दूसरी संस्कृतियों को अपनार्ने लगे हैं। संक्षेप में जनसंचार्र के लक्ष्य इन क्षेत्रों से सम्बद्ध हैं-

जनसंचार्र परिक्षेत्र और विस्तार्र

रार्जनैतिक प्रचार्र, प्रजार्तन्त्र में नार्गरिकों की भूमिका, युद्ध, शार्न्ति और आतंकवार्दी गतिविधियों की जार्नकारी, विदेशी नीतियों की जार्नकारी, प्रशार्सनिक कार्यवार्ही; सार्ंस्कृतिक और आर्थिक परिदृश्यों की जार्नकारी; सार्मार्जिक अनुभव, समार्ज में फैले अपरार्ध, हिंसार्, सार्मार्जिक व्यवस्थार् और अव्यवस्थार्, समार्ज में सूचनार् देने, सूचनार् विषयक असमार्नतार्एँ, उपभोक्तार्वार्द और व्यार्पार्रीकरण, वैचार्रिक और आभिव्यक्तिक स्वतन्त्रतार्ए सार्मार्जिक, सार्ंस्कृतिक असमार्नतार्एँ, लेैंगिक असमार्नतार्एँ , मीडियार् की भूमिक आदि से सम्बद्ध विभिन्न विषयों, क्षेत्रों क सम्बन्ध जनसंचार्र से है। यहार्ँ हम नवजीवन, हरिजन, यंग इंडियार् जैसे समार्चार्र पत्रों से जुड़े गार्ंधी के एक कथन को उद्धृत कर सकते हैं। उनक कहनार् थार्-’समार्चार्र पत्रों में बड़ी शक्ति है, ठीक वैसी ही जैसी कि पार्नी के जबरदस्त प्रवार्ह में होती है। इसे आप खुलार् छोड़ देंगे तो यह गार्ँव के गार्ँव बहार् देगार्, खेतों को डुबो देगार्। उसी तरह से निरंकुश कलम समार्ज के विनार्श क कारण बन सकती है। लेकिन अंकुश भीतर क ही होनार् चार्हिए, बार्हर क अंकुश तो और भी जहरीलार् होगार्’। स्पष्ट है कि जनसंचार्र के संसार्धनों ने शीघ्रार्तिशीघ्र सूचनार् प्रसरित करने में; व्यक्तियों, देशों, संस्कृतियों की तथार् भौगोलिक दूरी को कम करने में, भूमण्डलीकरण की निर्मिति में; सार्मार्जिक सम्बन्धों की निर्मिति में, सार्मार्जिक यथाथ को प्रस्तुत करने में, संदेश प्रेषित करने में, मध्यस्ततार् करने में अपनी महत्तार् तथार् अपनी पहचार्न सिद्ध कर दी है।

जनसंचार्र के अभार्व में व्यार्पार्र क्षेत्र क विकास नहीं हो सकतार्, जनतार् और सरकार के बीच सम्पर्क नहीं हो सकतार्, सार्हित्यसृजन नहीं हो सकतार्, समार्जसेवार् क कार्य सुचार्रु रूप से नहीं हो सकतार्,रार्जनैतिक दल अपने मतार्मत से जनतार् को परिचित नहीं करार् सकते, सार्मार्जिक संस्थार्एँ अपने क्रियार्कलार्पों की सूचनार् जन तक नहीं पहुँचार् सकतीं, सार्ंस्कृतिक आदार्न-प्रदार्न सुचार्रु रूप से नहीं हो सकतार्।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *