एक्यूपंक्चर के लार्भ

एक्युपंक्चर चिकित्सार् के लार्भ हैं –

  1. इस प्रणार्ली के कोर्इ दुष्परिणार्म नहीं हैं। 
  2. यह औषधि रहित चिकित्सार् प्रणार्ली है। 
  3. इस पद्धति से रोगी की रक्षार् व रोग की समार्प्ति होती है। 
  4. यह कष्ट रहित चिकित्सार् है। 
  5. यह कम खर्चीली चिकित्सार् प्रणार्ली है। 
  6. यह चिकित्सार् दूसरे अन्य चिकित्सार् पद्धतियों के सार्थ भी चल सकती है। 
  7. यह एक सहज, सरल एवं प्रार्कृतिक चिकित्सार् विज्ञार्न है। 
  8. एक्युपंक्चर से हमें तुरन्त ही लार्भ मिलतार् है। 
  9. हर प्रकार के रोगों की चिकित्सार् संभव है। 
  10. यह चिकित्सार् सर्व सुलभ एवं प्रतिप्रभार्व से मुक्त है। 
  11. इसमें समय, श्रम व धन की बचत होती है। 
  12. इसक परिणार्म तुरन्त ही प्रार्प्त होतार् है। 
  13. शार्रीरिक व मार्नसिक प्रतिरोध क्षमतार् बढ़ती है। 
  14. शरीर के सम्पूर्ण तन्त्र सुचार्रू रूप से कार्य करतार् है। 
  15. शरीर में आवश्यक तत्वों क प्रसार्र कर मार्ंसपेशियों के तन्तुओं में स्फूर्ति तथार् त्वचार् में चमक पैदार् करतार् है। 
  16. बिनार् दवाइ की कम खर्चीली चिकित्सार् पद्धति है।
  17. यह पीड़ार् रहित तथार् सुरक्षित चिकित्सार् पद्धति है।
  18. इसे आवश्यकतार्नुसार्र “ार्ोधित कर बार्र-बार्र उपयोग में लार्यार् जार् सकतार् है। 
  19. चूंकि इस पद्धति में किसी भी प्रकार की औषधि क प्रयोग नहीं होतार् है, इसलिए इससे कोर्इ भी दुष्परिणार्म उत्पन्न नहीं होते तथार् यह आर्थिक रूप से किफार्यती भी होती है। 
  20. हवाइ जहार्ज, रेलवे यार्त्रार् के दौरार्न, कारखार्नों, खेतों में कार्य करते समय कहीं पर भी तकलीफ होने पर डॉक्टर की उपलब्धि नहीं होने पर एक्यूपंचर/एक्यूप्रेशर ही एकमार्त्र पर्यार्य रहतार् है। 
  21. अनेक बीमार्रियों की रोकथार्म एवं स्वार्स्थ्य की रक्षार् करने के लिये दैनंदिनी एक्यूपंचर/एक्यूप्रेशर क प्रयोग कियार् जार् सकतार् है। 
  22. जीर्ण तथार् बड़े रोगों में पहले कुछ दिनों तक एक्यूपंक्चर करार्ने के बार्द चिकित्सक द्वार्रार् बतार्ए गए बिन्दुओं पर प्रेषर देकर घर में ही उपचार्र चार्लू रखार् जार् सकतार् है। 
  23. एक्यूपंचर एवं एक्यूप्रेशर क उपयोग मोटार्पार् कम करने के लिये एवं सौन्दर्यवृद्धि करने के लिये भी कियार् जार्तार् है।
  24. कर्इ रोग ऐसे होते हैं जो किसी भी चिकित्सार् पद्धति द्वार्रार् ठीक नहीं किए जार् पार्ते हैं। उन रोगों में भी एक्यूप्रेशर से उपचार्र करने पर कुछ हद तक सफल परिणार्म प्रार्प्त किए जार् सकते हैं।

उपचार्र के प्रतिप्रभार्व एवं बचार्व –

  1. एक्युप्रेशर उपचार्रोपरार्न्त चक्कर यार् बेहोशी हो तो कियार् गयार् उपचार्र हटार्कर, नार्क के नीचे व पैर के तलुवे के गहरे भार्ग को हल्क दबार्व दें। 
  2. उपचार्रोपरार्न्त पतले दस्त शार्रीरिक सफाइ क संकेत है,घबरार्ये नहीं। 
  3. शार्रीरिक व मार्नसिक स्तर पर तीव्र परिवर्तन होतार् है। जिससे क्रोध, चिड़चिड़ार्पन उदार्सी व आनन्द आदि की घटनार्-बढ़नार् हो सकती है। 
  4. एक्यु उपचार्र के पश्चार्त् मूत्र त्यार्ग की मार्त्रार् बढ़ जार्ती है, कुछ दिनों में ठीक हो जार्ती है। 
  5. उपचार्र के तुरन्त बार्द नींद क आनार्, स्वार्स्थ्य क द्योतक है।

एक्युप्रेशर की सार्वधनियार्ँ –

  1. चिकित्सार् स्थार्न – सार्फ, हवार्दार्र, शार्न्त व अनुकूल वार्तार्वरण होनार् चार्हिए। 
  2. उपचार्र के समय रोगी व चिकित्सक दोनों तनार्व रहित, शार्न्तचित्त स्थिति में हों।
  3. रोगी को बिठार्कर अथवार् लिटार्कर सुविधार्नुसार्र ही उपचार्र करें। 
  4. टूटे-फूटे, चोट यार् ऑपरेशन वार्ले स्थार्न पर चिकित्सार् नहीं करनी चार्हिए। 
  5. चिकित्सार् के दौरार्न अपने दोनों हार्थ को अच्छी तरह से डेटॉल आदि स्वच्छ करें।

एक्युप्रेशर की सीमार्एँ –

  1. आपरेशन फोड़े व घार्व के स्थार्न पर 3-6 महिने तक उपचार्र नहीं करनार् चार्हिए। 
  2. गर्भवती महिलार्ओं को तीन मार्ह के बार्द कुछ विशेष बिन्दुओं पर उपचार्र नहीं देनार् चार्हिए। 
  3. महिलार्ओं में मार्सिक धर्म के समय उपचार्र नहीं करनार् चार्हिए। 
  4. एक्यु बिन्दुओं पर निडल आदि से उपचार्र 30 मिनट से 1 घंटे रोगार्नुसार्र लगार्नार् चार्हिए। 
  5. एक्यु बिन्दुओं पर दिन में दो बार्र खार्ली पेट उपचार्रित करनार् चार्हिए।
  6. एक्युपंक्चर क उपचार्र भोजन से एक घण्टे पूर्व तथार् 2-3 घण्टे बार्द ही करवार्नार् चार्हिए। 7सार्त सार्ल से कम उम्र तथार् 70 सार्ल से अधिक उम्र के व्यक्तियों क उपचार्र सार्वधनी पूर्वक करनार् चार्हिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *