आहार्र के स्रोत

मार्नव आहार्र प्रार्णी आहार्र मार्ँस,मछली, अण्डार्, दूध वनस्पति आहार्र अनार्ज, दार्ल, शर्करार्, सब्जियार्ँ, फल, सूखेफल, मसार्ले आपके मन में यह जार्नने की जिज्ञार्सार् उत्पन्न हो रही होगी कि आहार्र के स्रोत से हमार्रार् क्यार् आशय है? वस्तुत: आहार्र के स्रोत से हमार्रार् आशय यह है कि हमें आहार्र कहार्ँ-कहार्ँ से प्रार्प्त होतार् है। जिन भी पदाथों यार् प्रार्णियों से हम भोजन प्रार्प्त करते है, उन सभी को आहार्र के स्रोत के अन्तर्गत रखार् जार्येगार्।

अब आप समझ गये होंगे कि आहार्र के स्रोत से हमार्रार् क्यार् तार्त्पर्य है। मार्नव आहार्र के मुख्य रूप से दो स्रोत मार्ने गये हैं-प्रार्णी एवं वनस्पति।

आहार्र के स्रोत 

 1. प्रोटीन-

प्रोटीन शरीर की सभी कोशिकाओं और द्रव्यों क अनिवाय अंश है। खार्द्य प्रोटीन क प्रार्थमिक कार्य शरीर को नार्इट्रोजन और एमिनो एसिड देनार् है। जिससे कि शार्रीरिक प्रोटीन क संश्लेषण हो सके। ऐसे पदाथों में कुछ हामोन एपिनेफ्रीन, थार्यरॉक्सिन, कुछ ऑक्सीकारक एन्जार्इम के समूह और हीमोग्लोबिन है। स्रोत- यह दार्लों, काजू, बार्दार्म, मटर, नार्रियल, मँगफली, मार्ंस, मछली, अण्डार्, पनीर चने की भार्जी, लहसुन, कैथार्, रार्जगिरार् तथार् इमली आदि में पार्यार् जार्तार् है।

2. कार्बोहार्इड्रेट- 

ये कार्बन, हार्इड्रोजन और ऑक्सीजन के यौगिक होते हैं जिनमें सैकेरोस समूह होतार् है अथवार् इसक प्रथम क्रियार्त्मक पदाथ जिसमें हार्इड्रोजन और ऑक्सीजन जल के अनुपार्त में रहतार् है। पौधों में पार्ये जार्ने वार्ले कार्बोहार्इड्रेट्स मार्नव की 50 प्रतिशत ऊर्जार् की आवश्यकतार् की पूर्ति करते हैं। स्रोत- अनार्ज, अण्डार्, मार्ंस, दार्लें, शक्कर, गुड़ प्रमुख स्रोत है। फलों में केलार्, काजू, नार्रियल बेल, खजूर, सीतार्फल तथार् सब्जियों में आलू, घुइयार्ं, जिमीकंद, शकरकंद, टैपिओक आदि में अधिकतार् से पार्यार् जार्तार् है।

3. फैट-

शरीर को सघन रूप से ऊर्जार् प्रदार्न करतार् है। गुर्दे, हृदय तथार् नार्जुक अंगों को सुरक्षार् प्रदार्न करतार् है। शरीर में चिकनार्हट बनार्ये रखनार्, त्वचार् में सर्दी के प्रति सहनशीलतार् प्रदार्न करनार् प्रमुख कार्य है। स्रोत- घी, दूध, मक्खन, तेल, अण्डार्, मछली प्रमुख है। फलों में काजू, नार्रियल, बार्दार्म, एवेकेडो में भी पार्यार् जार्तार् है। यह सब्जियों में कम ही पार्यार् जार्तार् है।

 4. खनिज पदाथ-

  1. फॉस्फोरस- यह महत्वपूर्ण खनिज है जिसकी मार्त्रार् शरीर में 400 से 700 ग्रार्म तक पार्यी जार्ती है। यह मार्त्रार् हड्डियों और दार्ँतों में पार्यी जार्ती है। स्रोत- काजू, बार्दार्म, इमली, अनार्र, कैथार्, नार्रियल, नीम की पत्ती हरी मटर, लहसुन, हरी मिर्च, दूध, पनीर, अण्डे, मार्ंस-मछली में पार्यार् जार्तार् है।
  2. ऑयरन- यह हीमोग्लोबिन, मार्इकोग्लोबिन, सार्इटोक्रोम, कैटार्लेस, पेरार्क्सीडेस क महत्वपूर्ण अंश है। शरीर में इसकी मार्त्रार् 3-4 ग्रार्म होती है। इसक 75 प्रतिशत रक्त में वितरित रहतार् है। स्रोत- फलों में आम, करौंदार्, खजूर सीतार्फल तथार् सब्जियों में चने की भार्जी, नीम की पत्ती, रार्जगिरार्, धनियार् की पत्ती आदि में विपुल रूप से पार्यार् जार्तार् है। यह लीवर और अण्डे में भी पार्यार् जार्तार् है।
  3. आयोडीन- यह 0.14 मि.ग्रार्. प्रतिदिन मनुष्यों के लिये तथार् 0.10 ग्रार्म प्रतिदिन महिलार्ओं के लिये आवश्यक है। यह आयोडीनयुक्त नमक तथार् समुद्री जीवों में पार्यार् जार्तार् है। 

5. विटार्मिन- 

 विटार्मिन ऐसे जैविक-रार्सार्यनिक पदाथ है जो सूक्ष्म यार् अल्प रूप में शरीर की सार्मार्न्य जैविक क्रियार्ओं के लिये अनिवाय होते हैं। ये शरीर को ऊर्जार् प्रदार्न न करके उत्प्रेरक के रूप में कार्य करते हैं। इन्हें जीवन सत्य भी कहते हैं।

  1. विटार्मिन ए – हरी पत्तेदार्र सब्जियार्ँ, जैसे- रार्जगिरार्, अमरनार्थ, पोर्इ, घुइयार्ं की पत्तियार्ँ, चौलाइ, पार्लक आदि।
  2. विटार्मिन बी- कैथार्, सीतार्फल, बेल, अनार्र, बार्दार्म, काजू, दूध, पनीर, अण्डे, मार्ंस-मछली आदि।
  3. विटार्मिन सी- आँवलार्, अमरूद, अन्ननार्स, सन्तरार्, नींबू, मौसम्बी, पपीतार्, बेर, टमार्टर, स्ट्रार्वेरी, करेलार्, हरी मिर्च, पार्लक तथार् अंकुरित अनार्ज आदि।
  4. विटार्मिन डी- फल तथार् सब्जियों में कम पार्यार् जार्तार् है। सूर्य ऊर्जार् द्वार्रार् शरीर में निर्मित होतार् है। सार्मिष खार्द्य पदाथों, जैसे- मछली आदि में पार्यार् जार्तार् है, दध में भी पार्यार् जार्तार् है। 

शरीर के लिये आवश्यक तत्वों की पूर्ति विभिन्न प्रकार के खार्द्य-पदाथों द्वार्रार् ही सम्भव हो पार्ती है। इन्हें 14 भार्गों में वर्गीकृत कियार् गयार् है। प्रत्येक समूह पोषक तत्वों की आपूर्ति करतार् हैं

  1. अनार्ज- कार्बोहार्इड्रेट के प्रमुख स्रोत तथार् प्रोटीन के मध्यम स्रोत मार्ने जार्ते हैं। कुछ अनार्ज विटार्मिन ‘र्इ’ तथार् अंकुरित अनार्ज विटार्मिन ‘बी’ समूह की भी पूर्ति करते हैं। खनिज पदाथों की पूर्ति करते हैं। पदाथ शरीर को प्रमुख रूप से र्जार् प्रदार्न करते हैं। इनमें चार्वल, गेहूँ, बार्जरार्, कोदो, कुटकी, जर्इ, मक्का, ज्वार्र आदि प्रमुख है। 
  2. दार्ल- प्रोटीन के प्रमुख स्रोत (18-25 प्रतिशत) है। विटार्मिन ‘बी’ समूह तथार् कुछ खनिज पदाथों की पूर्ति इनसे होती है। इससे शरीर को ऊर्जार् तथार् पोषण प्रार्प्त होतार् है। अरहर, चनार्, मटर, मँग उड़द, मसूर, सोयार्बीन, सेम, बरबटी, ग्वार्र, रार्जमार् आदि। 
  3. शर्करार्, गुड़, खार्ंड़ आदि- ये पदाथ मिठार्स उत्पन्न करते हैं और शरीर को ऊर्जार् प्रदार्न करते हैं। कुछ मिठार्इयार्ं जो खोये से बनी होती है वसार् भी प्रदार्न करती है। जैसे-बरफी आदि। 
  4. तिलहन- वसार् के प्रमुख स्रोत मार्ने जार्ते हैं। ये पदाथ शरीर को सहज ऊर्जार् प्रदार्न करते हैं। कुछ तिलहनों में प्रोटीन भी होतार् है। जैसे-सोयार्बीन, मँगफली आदि। 
  5. दूध, घी- दूध पूर्ण आहार्र मार्नार् जार्तार् है। शरीर के लिये आार्वश्यक तत्व इससे प्रार्प्त हो जार्ते हैं। मार्नव के लिये ये प्रथम आहार्र है। जैसे- गार्य, भैंस, बकरी क दूध अधिक उपयोग कियार् जार्तार् है। 
  6. मार्ंसार्हार्र- मार्ंस, मछली, मुर्गार् अण्डार् प्रोटीन के प्रमुख स्रोत है। ये शरीर को सघन ऊर्जार् प्रदार्न करते हैं और चर्बी की मार्त्रार् को बढ़ार्ते हैं। विटार्मिन ‘बी’ और फॉस्फोरस के मध्यम स्रोत मार्ने जार्ते हैं। 
  7. मसार्ले- इनक उपयोग प्रमुख आहार्र को स्वार्दिष्ट बनार्यार् जार्तार् है। कुछ मसार्लों में पोषक तत्व भी होते हैं। लौंग, जीरार्, धनियार्, काली मिर्च, जार्यपत्री, दार्लचीनी, स्यार्ह जीरार् इलार्यची, लेडी पिपर, जार्यफल, मेथी इत्यार्दि। 
  8. खार्द्य फल- ऐसे फल जो तार्जे रूप में ही उपयोग किये जार्ते हैं। जैसे- केलार्, आम, पपीतार्, अमरूद, सेब, सीतार्फल, बेर आदि। 
  9. रसदार्र फल- ऐसे फल जिनमें रस होतार् है जिसक उपयोग कियार् जार्तार् है। जैसे- संतरार्, मौसम्बी, नींबू, ग्रेपफूट, अंगूर आम, अन्ननार्स आदि। ये खनिज तथार् विटार्मिन से भरपूर तथार् सुपार्च्य होते हैं। 
  10. गिरीदार्र यार् सूखे फल- काजू, बार्दार्म, नार्रियल, किशमिश, खजूर, अखरोट, चिरौंजी आदि सूखे फल है जो शरीर को कार्बोहार्इड्रेट, प्रोटीन तथार् फैटक सार्थ ही सार्थ खनिजों की भी आपूर्ति करते हैं। ये फल शीघ्र ही खरार्ब नहीं होते हैं।
  11. औषधीय फल- कुछ फल औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं। जैसे- बेल, आंवलार्, जार्मुन, अनार्र, नींबू आदि। इनमें कुछ विशेष रार्सार्यनिक पदाथ होते हैं जो शरीर के लिये उपयोगी है। 
  12. सब्जियार्ँ पत्तेदार्र-खनिज तथार् विटार्मिन के स्रोत है। अपचनशील रेशे के कारण कब्ज दूर करने में सहार्यक होती है। जैसे- चौलाइ, रार्जगिरार्, पार्लक, पोर्इ, मेथी, सलार्द, पत्तार्गोभी आदि। 
  13. सब्जियार्ँ फलदार्र- कच्ची एवं पकाकर खार्यी जार्ने वार्ली पोषक तत्वों से भरपूर सब्जियार्ँ हैं। टमार्टर, बैंगन, भिण्डी, कद्दू, मिर्च आदि। 
  14. सब्जियार्ँ-औषधीय मसार्लेवार्ली- ऐसी सब्जियों क उपयोग मसार्लों के लिये कियार् जार्तार् है। इनमें प्यार्ज, लहसुन, अदरक, हल्दी, मिर्च आदि प्रमुख है

Share:

Leave a Comment

Your email address will not be published.

TOP