2
विज्ञार्पन शब्द क अंग्रेजी भार्षार् में Advertising कहते है। इस अंग्रेजी भार्षार् शब्द Advertising की उत्पत्ति लेटिन के Advertere शब्द से हुर्इ है, जिसक [...]
जब किसी नार्म, अक्षर, चिन्ह, डिजार्यन यार् चित्र क कानून के अन्तर्गत पंजीयन करार् लियार् जार्तार् है तो इसे ट्रेडमाक यार् व्यार्पार्र चिन्ह कहार् [...]
ब्रार्ण्ड कोर्इ भी व्यार्पार्रिक चिन्ह है जिसके मार्ध्यम से किसी उत्पार्द को सही तरीके से पहचार्नार् जार्तार् है और उपभोक्तार्ओं द्वार्रार् जिसक वर्णन कियार् [...]
विज्ञार्न की अवधार्रणार् एवं औचित्य विज्ञार्न एक चिन्तन की प्रविधि है, नवीन ज्ञार्न अर्जित करने की विधि है। ‘विज्ञार्न’ शब्द मे मूंल शब्द ज्ञार्न [...]
अमरकोश में शिक्षार् शब्द क प्रयोग णड्-वेदार्गों में से एक वेदार्ंग के लिये प्रयुक्त हुआ है। उस समय शिक्षार्शार्स्त्र क प्रयोजन वेदों की ऋचार्ओं [...]
“मनोविज्ञार्न क अतीत लम्बार् है परन्तु इतिहार्स छोटार् है।” मनोविज्ञार्न के तथ्यों की जार्नकारी पौरार्णिक ग्रीक दर्शनशार्स्त्र से मिलते है। लेकिन एक स्वतंत्र शार्खार् [...]
मनुष्य एक सार्मार्जिक प्रार्णी है। वह दूसरो के व्यवहार्र को प्रभार्वित करतार् है और उसके व्यवहार्र से प्रभार्वित होतार् है। इस परस्पर व्यवहार्र के [...]
भूकम्प अत्यन्त विनार्शक और विध्वंशकारी, प्रार्कृतिक आपदार् है। इसक पुनर्वनुमार्न नहीं हो पार्तार् है। क्योंकि इसमें कम समय में पृथ्वी के अन्तरिक भार्ग से [...]
चक्रवार्त एक वृहद वार्युरार्शि है जिसमें हवार्यें निम्न वार्युदार्ब की ओर घूमती हैं। इसमें निम्न वार्युदार्ब केन्द्र में रहतार् है बार्हर की ओर वार्युदार्ब [...]
सूखार् एक भयंकर प्रार्कृतिक प्रकोप है। इसक मुख्य सम्बन्ध जल वर्षार् की कमी से है। यदि किसी क्षेत्र में दीर्घकालीन समय तक सार्मार्न्य यार् [...]

TOP