तुलसीदार्स क जीवन परिचय और उनकी रचनार्एँ

तुलसीदार्स के शिष्य बार्बार् मार्धव वेणीदार्स कृत ‘मूल गोसार्ई चरित्र‘ तथार् महार्त्मार् रघुवरदार्स रचित ‘तुलसी-चरित’ में गोस्वार्मी तुलसीदार्स का जन्म सं. 1554 की श्रार्वण शुक्लार्…

सूरदार्स क जीवन परिचय

सूरदार्स जी के संबंध में कोई विशेष जार्नकारी नहीं मिलती है। सूरदार्स कब पैदार् हुए? इसक स्पष्ट उल्लेख किसी भी ग्रंथ में नहीं है। सूरसार्रार्वली…

हिंदी सार्हित्य क इतिहार्स

काल विभार्जन के कई आधार्र हो सकते हैं। कर्तार् के आधार्र पर –प्रसार्द युग, भार्रतेंदु युग, द्विवेदी युग।  प्रवृत्ति के आधार्र पर-भक्तिकाल, संतकाव्य, सूफीकाव्य, रीतिकाल,…