स्वतंत्रता
व्यक्ति यार् कोर्इ भी सजीव प्रार्णी जीवन मेंं जो भी करतार् है यार् सोचतार् है उसमें अपनी इच्छार् को ही प्रमुख मार्नतार् है। व्यक्ति [...]

TOP