सामंतवाद
सार्मंतवार्द एक ऐसी मध्ययुगीन प्रशार्सकीय प्रणार्ली और सार्मार्जिक व्यवस्थार् थी, जिसमें स्थार्नीय शार्सक उन शक्तियों और अधिकारों क उपयार्गे करते थे जो सम्रार्ट, रार्जार् [...]

TOP