यज्ञ
‘यज्ञ’ क भार्वाथ-परमाथ एवं उदार्र-कृत्य है। ‘यज्ञ’ शब्द पार्णिनीसूत्र ‘‘यजयार्चयतविच उप्रक्चरक्षो नड़्’’ में नड़् प्रत्यय लगार्ने पर बनतार् है अर्थार्त् यज्ञ शब्द ‘यज्’ धार्तु [...]

TOP