परार्मर्श की परिभार्षार् एवं विशेषतार्एँ

परार्मर्श शब्द एक प्रार्चीन शब्द है फलत: इसकी अनेक परिभार्षार्यें हैं। रार्बिन्सन के अनुसार्र-’परार्मर्श शब्दो व्यक्तियों के सम्पर्क में उन सभी स्थितियों क समार्वेश करतार्…

परार्मर्श की प्रक्रियार्

मिस ब्रेगडन ने इन परिस्थितियों के उत्पन्न होने पर परार्मर्श की आवश्यकतार् को इंगित कियार् है- वह परिस्थिति जब कि व्यक्ति न केवल सही सूचनार्यें…

परार्मर्श के प्रकार

कुछ विद्वार्नों ने परार्मर्श के अन्य तीन प्रकारों क उल्लेख कियार् है यथार्- निदेशार्त्मक परार्मर्श-इस प्रकार के परार्मर्श में परार्मर्शक ही सम्पूर्ण प्रक्रियार् क निर्णार्यक होतार्…

वैयक्तिक एवं सार्मूहिक परार्मर्श की अवधार्रणार् व आवश्यकतार्

वैयक्तिक परार्मर्श, अवधार्रणार् व आवश्यकतार्  आमतौर पर परार्मर्श व्यक्तिगत रूप से ही सम्पन्न होतार् है। परार्मर्श किसी भी प्रकार की आवश्यकतार् पर व्यक्तिगत रूप में…

परार्मर्श क अर्थ, परिभार्षार् एवं सिद्धार्न्त

‘परार्मर्श’ शब्द अंग्रेजी के ‘counselling’ शब्द क हिन्दी रुपार्न्तर है,जो लैटिन के ‘Consilium’ से बनार् है जिसक शब्दिक अर्थ है सलार्ह लेनार् यार् परार्मर्श लेनार्।…