एक कर प्रणार्ली एवं बहुकर प्रणार्ली गुण एवं दोष

एक कर प्रणार्ली के अन्तर्गत रार्ज्य द्वार्रार् केवल एक कर लगार्यार् जार्तार् है जो यार् तो कृषि उत्पार्दन पर हो सकतार् है, आय पर हो…

कर-विवर्तन क सिद्धार्ंत : संकेद्रण एवं विकेद्रण सिद्धार्ंत

कर-विवर्तन क सिद्धार्ंत : संकेद्रण एवं विकेद्रण सिद्धार्ंत By Bandey January 27, 2020January 27, 2020 अनुक्रम संकेन्द्रण के सिद्धार्ंत क प्रतिपार्दन फ्रार्ंस के प्रकृतिवार्दी अर्थशार्स्त्रियों…

कर विवर्तन की अवधार्रणार्, सिद्धार्न्त एवं प्रकार

कर विवर्तन की अवधार्रणार् मुख्य रूप से करार्घार्त एवं करार्पार्त के मध्य अन्तर से सम्बन्धित है। सार्मार्न्य रूप से कर विवर्तन से हमार्रार् आशय करक…