सम्पर्क भार्षार् के रूप में हिन्दी

भार्रत जैसे बहुभार्षार्-भार्षी देश में सम्पर्क भार्षार् की महत्तार् असंदिग्ध है। इसी के मद्देनजर ‘सम्पर्क भार्षार् (जनभार्षार्) के रूप में हिन्दी’ शीर्षक इस अध्यार्य में सम्पर्क भार्षार् क सार्मार्न्य परिचय देने के सार्थ-सार्थ सम्पर्क भार्षार् के रूप में हिन्दी के स्वरूप एवं रार्ष्ट्रभार्षार् और सम्पर्क भार्षार् के अंत:सम्बन्ध पर भी विचार्र कियार् गयार् है।

सम्पर्क भार्षार् : परिभार्षार् एवं सार्मार्न्य परिचय 

भार्षार् की सार्मार्न्य परिभार्षार् में यह कहार् जार् चुक है कि ‘भार्षार् मनुष्य के विचार्र-विनिमय और भार्वों की अभिव्यक्ति क सार्धन है।’ सम्पर्क भार्षार् क आशय जनभार्षार् है। किसी क्षेत्र क सार्मार्न्य व्यक्ति प्रचलित शैली में जो भार्षार् बोलतार् है वह जनभार्षार् है। दूसरे शब्दों में क्षेत्र विशेष की संपर्क भार्षार् ही जनभार्षार् है। इसलिए जरूरी नहीं कि जनभार्षार् शुद्ध सार्हित्यिक रूप वार्ली ही हो यार् वह व्यार्करण के नियम से बंधी हो।

सम्पर्क भार्षार् यार् जनभार्षार् वह भार्षार् होती है जो किसी क्षेत्र, प्रदेश यार् देश के ऐसे लोगों के बीच पार्रस्परिक विचार्र-विनिमय के मार्ध्यम क काम करे जो एक दूसरे की भार्षार् नहीं जार्नते। दूसरे शब्दों में विभिन्न भार्षार्-भार्षी वर्गों के बीच सम्पे्रषण के लिए जिस भार्षार् क प्रयोग कियार् जार्तार् है, वह सम्पर्क भार्षार् कहलार्ती है। इस प्रकार ‘सम्पर्क भार्षार्’ की सार्मार्न्य परिभार्षार् होगी : ‘एक भार्षार्-भार्षी जिस भार्षार् के मार्ध्यम से किसी दूसरी भार्षार् के बोलने वार्लों के सार्थ सम्पर्क स्थार्पित कर सके, उसे सम्पर्क भार्षार् यार् जनभार्षार् (Link Language) कहते हैं।’

बकौल डॉ. पूरनचंद टंडन ‘सम्पर्क भार्षार् से तार्त्पर्य उस भार्षार् से है जो समार्ज के विभिन्न वर्गों यार् निवार्सियों के बीच सम्पर्क के काम आती है। इस दृष्टि से भिन्न-भिन्न बोली बोलने वार्ले अनेक वर्गों के बीच हिन्दी एक सम्पर्क भार्षार् है और अन्य कर्इ भार्रतीय क्षेत्रों में भिन्न-भिन्न भार्षार्एँ बोलने वार्लों के बीच भी सम्पर्क भार्षार् है।’ डॉ. महेन्द्र सिंह रार्णार् ने सम्पर्क भार्षार् को इन शब्दों में परिभार्षित कियार् है : ‘परस्पर अबोधगम्य भार्षार् यार् भार्षार्ओं की उपस्थिति के कारण जिस सुविधार्जनक विशिष्ट भार्षार् के मार्ध्यम से दो व्यक्ति, दो रार्ज्य, कोर्इ रार्ज्य और केन्द्र तथार् दो देश सम्पर्क स्थार्पित कर पार्ते हैं, उस भार्षार् विशेष को सम्पर्क भार्षार् यार् सम्पर्क सार्धक भार्षार् (Contact Language or Interlink Language) कहार् जार् सकतार् है।’(-प्रयोजनमूलक हिन्दी के आधुनिक आयार्म, पृ. 79) इस क्रम में डॉ. दंगल झार्ल्टे द्वार्रार् प्रतिपार्दित परिभार्षार् उल्लेखनीय है- ‘अनेक भार्षार्ओं की उपस्थिति के कारण जिस सुविधार्जनक विशिष्ट भार्षार् के मार्ध्यम से व्यक्ति-व्यक्ति, रार्ज्य-रार्ज्य, रार्ज्य-केन्द्र तथार् देश-विदेश के बीच सम्पर्क स्थार्पित कियार् जार्तार् है, उसे सम्पर्क भार्षार् (Contact or Inter Language) की संज्ञार् दी जार् सकती है।’(-प्रयोजनमूलक हिन्दी : सिद्धार्न्त और प्रयोग, पृ. 53)उपर्युक्त परिभार्षार्ओं से स्पष्ट है कि सम्पर्क भार्षार् मार्त्र दो यार् दो से अधिक भिन्न-भिन्न भार्षार्-भार्षियों के बीच सम्पर्क क मार्ध्यम नहीं बनती, जो एक-दूसरे की भार्षार् से परिचित नहीं है, अपितु दो यार् दो से अधिक भिन्न-भिन्न भार्षार्-भार्षी रार्ज्यों के बीच तथार् केन्द्र और रार्ज्यों के बीच भी सम्पर्क स्थार्पित करने क मार्ध्यम बन सकती है।

सम्पर्क भार्षार् के रूप में हिन्दी 

भार्रत एक बहुभार्षी देश है और बहुभार्षार्-भार्षी देश में सम्पर्क भार्षार् क विशेष महत्त्व है। अनेकतार् में एकतार् हमार्री अनुपम परम्परार् रही है। वार्स्तव में सार्ंस्कृतिक दृष्टि से सार्रार् भार्रत सदैव एक ही रहार् है। हमार्रे इस विशार्ल देश में जहार्ँ अलग-अलग रार्ज्यों में भिन्न-भिन्न भार्षार्एँ बोली जार्ती हैं और जहार्ँ लोगों के रीति-रीवार्जों, खार्न-पार्न, पहनार्वे और रहन-सहन तक में भिन्नतार् हो वहार्ँ सम्पर्क भार्षार् ही एक ऐसी कड़ी है जो एक छोर से दूसरे छोर के लोगों को जोड़ने और उन्हें एक दूसरे के समीप लार्ने क काम करती है। डॉ. भोलार्नार्थ ने सम्पर्क भार्षार् के प्रयोग क्षेत्र को तीन स्तरों पर विभार्जित कियार् है : एक तो वह भार्षार् जो एक रार्ज्य (जैसे महार्रार्ष्ट्र यार् असम) से दूसरे रार्ज्य (जैसे बंगार्ल यार् असम) के रार्जकीय पत्र-व्यवहार्र में काम आए। दूसरे वह भार्षार् जो केन्द्र और रार्ज्यों के बीच पत्र-व्यवहार्रों क मार्ध्यम हो। और तीसरे वह भार्षार् जिसक प्रयोग एक क्षेत्र/प्रदेश क व्यक्ति दूसरे क्षेत्र/प्रदेश के व्यक्ति से अपने निजी कामों में करें।

आजार्दी की लड़ाइ लड़ते समय हमार्री यह कामनार् थी कि स्वतंत्र रार्ष्ट्र की अपनी एक रार्ष्ट्रभार्षार् होगी जिससे देश एकतार् के सूत्र में सदार् के लिए जुड़ार् रहेगार्। महार्त्मार् गार्ंधी, लोकमार्न्य तिलक, नेतार्जी सुभार्षचन्द्र बोस आदि सभी महार्पुरुषों ने एक मत से इसक समर्थन कियार्, क्योंकि हिन्दी हमार्रे सार्मार्जिक, सार्ंस्कृतिक, धामिक आन्दोलनों की ही नहीं अपितु रार्ष्ट्रीय चेतनार् एवं स्वार्धीनतार् आन्दोलन की अभिव्यक्ति की भार्षार् भी रही है।

भार्रत में ‘हिन्दी’ बहुत पहले सम्पर्क भार्षार् के रूप में रही है और इसीलिए यह बहुत पहले से ‘रार्ष्ट्रभार्षार्’ कहलार्ती है क्योंकि हिन्दी की सावदेशिकतार् सम्पूर्ण भार्रत के सार्मार्जिक स्वरूप क प्रतिफल है। भार्रत की विशार्लतार् के अनुरूप ही रार्ष्ट्रभार्षार् विकसित हुर्इ है जिससे उत्तर, दक्षिण, पूर्व और पश्चिम कहीं भी होने वार्ले मेलों- चार्हे वह प्रयार्ग में कुंभ हो अथवार् अजमेर शरीफ की दरगार्ह हो यार् विभिन्न प्रदेशों की हमार्री सार्ंस्कृतिक एकतार् के आधार्र स्तंभ तीर्थस्थल हों- सभी स्थार्नों पर आदार्न-प्रदार्न की भार्षार् के रूप में हिन्दी क ही अधिकतर प्रयोग होतार् है। इस प्रकार इन सार्ंस्कृतिक परम्परार्ओं से हिन्दी ही सावदेशिक भार्षार् के रूप में लोकप्रिय है विशेषकर दक्षिण और उत्तर के सार्ंस्कृतिक सम्बन्धों की दृढ़ Üार्ृंखलार् के रूप में हिन्दी ही सशक्त भार्षार् बनीं। हिन्दी क क्षेत्र विस्तृत है।

सम्पर्क भार्षार् हिन्दी क आयार्म, जनभार्षार् हिन्दी, सबसे व्यार्पक और लोकप्रिय है जिसक प्रसार्र क्षेत्रीय तथार् रार्ष्ट्रीय स्तर से बढ़कर भार्रतीय उपमहार्द्वीप तक है। शिक्षित, अर्धशिक्षित, अशिक्षित, तीनों वर्गों के लोग परस्पर बार्तचीत आदि के लिए और इस प्रकार मौखिक मार्ध्यम में जनभार्षार् हिन्दी क व्यवहार्र करते हैं। भार्रत की लिंग्वे फ्रार्ंका, लैंग्विज आव वार्इडर कम्युनिकेशन, पैन इंडियन लैंग्विज, अन्तर प्रार्देशिक भार्षार्, लोकभार्षार्, भार्रत-व्यार्पी भार्षार्, अखिल भार्रतीय भार्षार्- ये नार्म ‘जनभार्षार्’ हिन्दी के लिए प्रयुक्त होते हैं। हमार्रे देश की बहुभार्षिकतार् के ढार्ँचे में हिन्दी की विभिन्न भौगोलिक और सार्मार्जिक क्षेत्रों के अतिरिक्त भार्षार्-व्यवहार्र के क्षेत्रों में भी सम्पर्क सिद्धि क ऐसार् प्रकार्य निष्पार्दित कर रही है जिसका, न केवल कोर्इ विकल्प नहीं, अपितु जो हिन्दी की विविध भूमिकाओं को समग्रतार् के सार्थ निरूपित करने में भी समर्थ है।

हिन्दी ने पिछले हजार्र वर्षों में विचार्र-विनिमय क जो उत्तरदार्यित्व निभार्यार् है वह एक अनूठार् उदार्हरण है। कुछ लोगों की यह धार्रणार् है कि हिन्दी पहले ‘रार्ष्ट्रभार्षार्’ कहलार्ती थी, बार्द में इसे ‘सम्पर्क भार्षार्’ कहार् जार्ने लगार् और अब इसे ‘रार्जभार्षार्’ बनार् देने से इसक क्षेत्र सीमित हो गयार् है। वस्तुत: यह उनक भ्रम है। जैसार्कि पहले उल्लेख कियार् जार् चुक है कि हिन्दी सदियों से सम्पर्क भार्षार् और रार्ष्ट्रभार्षार् एक सार्थ रही है और आज भी है। भार्रत की संविधार्न सभार् द्वार्रार् 14 सितम्बर, 1949 को इसे रार्जभार्षार् के रूप में स्वीकार कर लेने से उसके प्रयोग क क्षेत्र और विस्तृत हुआ है। जैसे बंगलार्, तमिल, तेलुगु, कन्नड़, मलयार्लम आदि को क्रमश: बंगार्ल, तमिलनार्डु, कर्नार्टक, केरल आदि की रार्जभार्षार् बनार्यार् गयार् है। ऐसार् होने से क्यार् उन भार्षार्ओं क महत्त्व कम हो गयार् है ? निश्चय ही नहीं। बल्कि इससे उन सभी भार्षार्ओं क उत्तरदार्यित्व और प्रयोग क्षेत्र पहले से अधिक बढ़ गयार् है। जहार्ँ पहले केवल परस्पर बोलचार्ल में काम आती थी यार् उसमें सार्हित्य की रचनार् होती थी, वहीं अब प्रशार्सनिक कार्य भी हो रहे हैं। यही स्थिति हिन्दी की भी है। इस प्रकार हिन्दी सम्पर्क और रार्ष्ट्रभार्षार् तो है ही, रार्जभार्षार् बनार्कर इसे अतिरिक्त सम्मार्न प्रदार्न कियार् गयार् है। इस प्रसंग में डॉ. सुरेश कुमार्र क कथन बहुत ही प्रार्संगिक है : ‘हिन्दी को केवल सम्पर्क भार्षार् के रूप में देखनार् भूल होगी। हिन्दी, आधुनिक भार्रतीय भार्षार्ओं के उद्भव काल से मध्यदेश के निवार्सियों के सार्मार्जिक सम्पे्रषण तथार् सार्हित्यिक-सार्ंस्कृतिक अभिव्यक्ति की भार्षार् रही है और अब भी है। भार्षार्-सम्पर्क की बदली हुर्इ परिस्थितियों में (जो पहले फ़ार्रसी-तुर्की -अरबी तथार् बार्द में मुख्य रूप से अंग्रेजी के सार्थ सम्पर्क के फलस्वरूप विकसित हुर्इ) तथार् स्वतंत्र भार्रतीय गणरार्ज्य में सभी भार्रतीय भार्षार्ओं को अपने-अपने भौगोलिक क्षेत्र में व्यार्वसार्यिक और सार्ंस्कृतिक व्यवहार्र की अभिव्यक्ति के लिए प्रयोग में लार्ने के निर्णय के बार्द, हिन्दी क सम्पर्क भार्षार् प्रकार्य, गुण और परिमार्ण की दृष्टि से इतनार् विकसित हो गयार् है कि उसके सम्बन्ध में चिन्तन तथार् अनुवर्ती कार्य, एक सैद्धार्न्तिक और व्यार्वहार्रिक आवश्यकतार् बन गए हैं।’ वार्स्तव में भार्षार् सम्पर्क की स्थिति ही किसी सम्पर्क भार्षार् के उद्भव और विकास को प्रेरित करती है यार् एक सुप्रतिष्ठित भार्षार् के सम्पर्क प्रकार्य को संपुष्ट करती है। हिन्दी के सार्थ दोनों स्थितियों क सम्बन्ध है। आन्तरिक स्तर पर हिन्दी अपनी बोलियों के व्यवहार्रकर्तार्ओं के बीच सम्पर्क की स्थार्पनार् करती रही है और अब भी कर रही है, तथार् बार्ह्य स्तर पर वह अन्य भार्रतीय भार्षार् भार्षी समुदार्यों के मध्य एकमार्त्र सम्पर्क भार्षार् के रूप में उभर आर्इ है जिसके अब विविध आयार्म विकसित हो चुके हैं। कुल मिलार्कर हिन्दी क वर्तमार्न गौरवपूर्ण है। उसकी भूमिक आज भी सार्मार्न्य-जन को जोड़ने में सभी भार्षार्ओं की अपेक्षार् सबसे अधिक कारगर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *