समार्जवार्द क अर्थ, परिभार्षार्, सिद्धार्ंत यार् विशेषतार्एं

हम्प्री के अनुसार्र – ‘‘समार्जवार्द एक सार्मार्जिक व्यवस्थार् है जिसके अन्तर्गत जीवन के सार्धनो पर सम्पूर्ण समार्ज क स्वार्मित्व होतार् है और पूरार् समार्ज सार्मार्न्य कल्यार्ण की वृध्दि करने के उददेश्य से उनक विकास और प्रयोग करतार् है।’’

समार्जवार्द क अर्थ एवं परिभार्षार् 

समार्जवार्द अंग्रेजी भार्षार् के सोशलिज्म (socialism) शबद क हिन्दी पर्यार्यवार्ची है। सोशलिज्म शब्द की उत्पत्ति सोशियस socious शब्द से हुर्इ जिसक अर्थ समार्ज होतार् है। इस प्रकार समार्जवार्द क समबन्ध समार्ज और उसके सुधार्र से है। अर्थार्त समार्जवार्द मलू त: समार्ज से सम्बन्धित है और न्यार्यपूर्ण समार्ज की स्थार्पनार् के लिए प्रयत्नशील है। समार्जवार्द शब्द मुख्य रूप से तीन अर्थो में प्रयुक्त कियार् जार्तार् है –

  1. यह एक रार्जनीतिक सिद्धार्ंत है। 
  2. यह एक रार्जनीतिक आंदोलन है। 
  3. इसक प्रयोग एक विशेष प्रकार की समार्जिक व आर्थिक व्यवस्थार् के लिये कियार् जार्तार् है। 

1. एनसार्इक्लोपीडियार् ब्रिटेनिक – 

  1. वेकर कोकर के अनुसार्र – ‘‘समार्जवार्द वह नीति यार् सिध्दार्ंत है जिसक उददेश्य एक लोकतार्ंत्रिक केन्द्रीय सत्तार् द्वार्रार् प्रचलित व्यवस्थार् की अपेक्षार् धन क श्रेष्ठ कर वितरण और उसके अधीन रहते हुए धन क श्रेृठतर उत्पार्दन करनार् है।’’ 
  2. बर्नाड शॉ के अनुसार्र – ‘‘समार्जवार्द क अभिप्रार्य संपत्ति के सभी आधार्रभूत सार्धनो पर नियंत्रण से है। यह नियंत्रण समार्जवार्द के किसी एक वर्ग द्वार्रार् न होकर स्वयं समार्ज के द्वार्रार् होगार् और धीरे धीरे व्यवस्थित ढंग से स्थार्पित कियार् जार्येगार्।’’

परिभार्षार् के अध्ययन से स्पष्ट है कि समार्जवार्द क ध्येय रार्ज्य के समस्त नार्गरिको क कल्यार्ण है। जिस प्रकार व्यक्तिवार्द स्वतंत्रतार् पर आधार्रित है उसी प्रकार समार्जवार्द समार्नतार् आधार्रित है।

समार्जवार्द के मूल सिद्धार्ंत यार् विशेषतार्एं – 

  1. व्यक्ति की अपेक्षार् समार्ज को अधिक महत्व –समार्जवार्द व्यक्तिवार्द के विपरीत विचार्र है जो व्यक्ति की अपेक्षार् समार्ज को अधिक महतव देतार् है इस विचार्रधार्रार् की मार्न्यतार् है कि समार्ज के मार्ध्यम से ही व्यक्ति क सम्पूर्ण विकास हो सकतार् है। 
  2. पूंजीवार्द क विरोधी – समार्जवार्द पूंजीवार्द क विरोधी है समार्जवार्द के अनुसार्र समार्ज में असमार्नतार् तथार् अन्यार्य क कारण पूंजीवार्द की विद्यमार्नतार् है। पूंजीवार्द में उत्पार्दन क समार्न वितरण न होने के कारण संपत्ति पर पूंजीवार्द क अधिकार होतार् है समार्जवार्दियो के विचार्र में पूंजीपति व श्रमिको में सघंर्ष अनिवाय है। अत: समार्जवार्द उत्पार्दन व वितरण के सार्धनो को पूंजीपति के हार्थो से समार्ज को सौंपनार् चार्हतार् है। 
  3. सहयोग पर आधार्रित – समार्जवार्द प्रतियोगितार् क विरोध करतार् है और सहयोग में वृध्दि करने पर बल देतार् है रार्ष्ट्रीय तथार् अन्तर्रार्ष्ट्रीय स्तर पर सहयोग करके अनार्वश्यक प्रतिस्पध को समार्प्त कियार् जार् सकतार् है। 
  4. आर्थिक समार्नतार् पर आधार्रित –समार्जवार्द सभी व्यक्तियो के लिये आर्थिक समार्नतार् प्रदार्न करने क पक्षपार्ती है। समार्जवार्दी विचार्रको क मत है कि आर्थिक असमार्नतार् अधिकाश देशो क मूल कारण है। 
  5. उत्पार्दन तथार् वितरण के सार्धनो पर रार्ज्य क नियंत्रण –समार्जवार्दी विचार्रको क मत है कि सम्पूर्ण देश की सम्पत्ति पर किसी व्यक्ति विशष क नियंत्रण न होकर सम्पूर्ण समार्ज क नियंत्रण होनार् चार्हिए। उत्पार्दन तथार् वितरण के सार्धन यदि रार्ज्य के नियंत्रण में रहेंग े तो सभी व्यक्तियो की आवश्यक्तार्ए पूरी हो जार्येंगी। 
  6. लोकतार्ंत्रीय शार्सन में आस्थार्-समार्जवार्दी विचार्रक रार्जय के लोकतंत्रीय स्वरूप में विश्वार्स रखते है। ये मतार्धिकार क विस्तार्र करके संसद को उसकी व्यवस्थार् चलार्ने के लिये एक महत्वपूर्ण सार्धन मार्नते है। इस व्यवस्थार् से व्यक्तियो को रार्जनीतिक सत्तार् की प्रार्प्ति होती है। 

समार्जवार्द के पक्ष में तर्क यार् गुण – 

  1. शोषण क अन्त – समार्जवार्द श्रमिको एवं निर्धनो के शोषण क विरोध करतार् है। समार्जवार्दियो ने स्पष्ट कर दियार् है कि पूंजीवार्दी व्यवस्थार् में पूंजीपतियो के शडयंत्रो के कारण ही निर्घनो व श्रमिको क शोषण होतार् है। यह विचार्रधार्रार् शोषण के अन्त में आस्थार् रखने वार्ली है। इसलिये विश्व के श्रमिक किसार्न निर्घन इसक समर्थन करते है। 
  2. सार्मार्जिक न्यार्य पर आधार्रित – समार्जवार्दी व्यवस्थार् में किसी वर्ग विशेष के हितो को महत्व न देकर समार्ज के सभी व्यक्तियो के हितो को महत्व न देकर समार्ज के सभी व्यक्तियो के हितो को महत्व दियार् जार्तार् है यह व्यवस्थार् पूंजीपतियो के अन्यार्य को समार्प्त करके एक ऐसे वर्गविहीन समार्ज की स्थपनार् करने क समर्थन करती है जिसमें विषमतार् न्यनू तम हो। 
  3. उत्पार्दन क लक्ष्य सार्मार्जिक आवश्यक्तार् – व्यक्तिवार्दी व्यवस्थार् में व्यक्तिगत लार्भ को ध्यार्न में रखकर किये जार्ने वार्ले उत्पार्दन के स्थार्न पर समार्जवार्दी व्यवस्थार् में समार्जिक आवश्यक्तार् और हित को ध्यार्न में रखकर उत्पार्दन होगार् क्योंकि समार्जवार्द इस बार्त पर बल देतार् है कि जो उत्पार्दन हो वह समार्ज के बहुसख्ं यक लोगो के लार्भ के लिए हो। 
  4. उत्पार्दन पर समार्ज क नियंत्रण –समार्जवार्दियो क मत है कि उत्पार्दन और वितरण के सार्धनो पर रार्ज्य क स्वार्मित्व स्थार्पित करके विषमतार् को समार्प्त कियार् जार् सकतार् है। 
  5. सभी को उन्नति के समार्न अवसर – समार्जवार्द सभी लोगो को उन्नति के समार्न अवसर प्रदार्न करने के पक्षपार्ती है इस व्यवस्थार् में कोर्इ विशेष सुविधार् संपन्न वर्ग नही होगार्। सभी लोगो को समार्न रूप से अपनी उन्नति एव विकास के अवसर पार््रप्त होंगे। 
  6. सार्म्रार्ज्यवार्द क विरोधी – समार्जवार्द औपनिवेशिक परतत्रं तार् और सार्म्रार्ज्यवार्द क विरोधी है। यह रार्ष्ट्रीय स्वतंत्रतार् क समर्थक है। लेनिन के शब्दों में ‘‘सार्म्रार्ज्यवार्द पजूं ीवार्द क अंतिम चरण है।’’ समार्जवार्दियो क मत है कि जिस प्रकार पूंजीवार्द में व्यक्तिगत शोषण होतार् है ठीक उसी प्रकार सार्म्रार्ज्यवार्द मे रार्ज्यो को रार्जनीतिक एवं आर्थिक रूप से परतंत्र बनार्कर शोषण कियार् जार्तार् है। 

समार्जवार्द के विपक्ष में तर्क अथवार् आलोचनार् 

  1. रार्ज्य के कार्य क्षेत्र में वृद्धि –समार्जवार्द मे आर्थिक तथार् रार्जनीतिक दोनो क्षेत्रो में रार्ज्य क अधिकार होने से रार्ज्य क कार्य क्षेत्र अत्यधिक विस्तृत हो जार्येगार् जिसके परिणार्मस्वरूप रार्ज्य द्वार्रार् किये जार्ने वार्ले कार्य समुचित रूप से संचार्लित और समपार्दित नही होंगे। 
  2. वस्तुओ के उत्पार्दन में कमी – समार्जवार्द के आलोचको की मार्न्यतार् है कि यदि उत्पार्दन के सार्धनो पर सपं ूर्ण समार्ज क नियंत्रण हो तो व्यक्ति की कार्य करने की पर्रे णार् समार्प्त हो जार्येगी और कार्यक्षमतार् भी धीरे धीरे घट जार्येगी। व्यक्ति को अपनी योग्यतार् क प्रदर्शन करने क अवसर नही मिलेगार् तो वस्तुओ के उत्पार्दन की मार्त्रार् घट जार्येगी। 
  3. पूर्ण समार्नतार् संभव नही- प्रकृति ने सभी मनुष्य को समार्न उत्पन्न नही कियार्। जन्म से कुछ बुद्धिमार्न तो कुछ मख्ूर् ार् कछु स्वस्थ कुछ परिश्रमी होते है। इन सबको समार्न समझनार् पार््रकृतिक सिध्दार्ंत की अवहेलनार् करनार् है। अत: पूर्ण समार्नतार् स्थार्पित नही की जार् सकती।
  4. समार्जवार्द प्रजार्तंत्र क विरोधी – प्रजार्तंत्र में व्यक्ति के अस्तित्व को अत्यंत श्रेष्ठ स्थार्न पार््र प्त है वही समार्जवार्द में वह रार्ज्य रूपी विशार्ल मशीन में एक निर्जीव पूर्जार् बन जार्तार् है।
  5. नौकरशार्ही क महत्व – समार्जवार्द में रार्ज्य के कार्यो में वृध्दि होने के कारण नौकरशार्ही क महत्व बढतार् है। आरै सभी निणर्य सरकारी कर्मचार्रियो द्वार्रार् लिये जार्ते है ऐसी स्थिति में भष्टार्चार्र बढतार् है। 
  6. समार्जवार्द हिंसार् को बढार्तार् है – समार्जवार्द अपने लक्ष्य की प्रार्प्ति के लिए क्रार्ंतिकारी तथार् हिंसार्त्मक मार्गं को अपनार्तार् है। वह शार्ंतिपूर्ण तरीको में विश्वार्स नही करतार्। वह वर्ग संघर्ष पर बल देतार् है। जिसके परिणार्मस्वरूप समार्ज में वैमनस्यतार् और विभार्जन की भार्वनार् फैलती है। 

उपर्युक्त आलोचनार्ओ के आधार्र पर समार्जवार्द पर अव्यार्वहार्रिक अमनो वैज्ञार्निक एवं अक्रियार्त्मक सिध्दार्ंत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *