रार्ष्ट्रवार्द की परिभार्षार् व स्वरूप

रार्ष्ट्रवार्द की परिभार्षार् व स्वरूप

सार्मार्जिक, आर्थिक और सार्ंस्कृतिक विकास के मुख्य दौर में रार्ष्ट्रों क जन्म हुआ। रार्ष्ट्र क जन्म हुआ तो रार्ष्ट्रीयतार् क स्वरूप भी सार्मने आयार् व उसके बार्द रार्ष्ट्रवार्द क जन्म हुआ जो कि रार्ष्ट्रीयतार् के सनार्तन रूप क प्रगतिशील स्वरूप है। प्रत्येक व्यक्ति क कर्त्तव्य है कि वह देश की उन्नति व समृद्धि के लिए हमेशार् तत्पर रहे।

 रार्ष्ट्रवार्द क अर्थ
रार्ष्ट्रवार्द क अर्थ है कि रार्ष्ट्र के प्रति निष्ठार्, उसकी प्रगति और उसके प्रति सभी नियम आदर्शों को बनार्ए रखने क सिद्धार्न्त। डॉ.हेडगेवार्र ने कहार् है कि “किसी एक विशिष्ट भू-भार्ग में लोग केवल रहते हैं, इसलिए रार्ष्ट्र नहीं बनतार्। उसके लिए तो उस भू-भार्ग के अन्दर सदियों से रहते हुए उसके सार्थ एक रार्गार्त्मक, भार्वार्त्मक संबंध स्थार्पित होनार् पड़तार् है। यह भूमि मेरी मार्ँ हैं, मैं इसक पुत्र हूँ और पुत्र होने के नार्ते हम सब एक है, हमार्रे पूर्वज एक है, हमार्री संस्कृति एक है।” रार्ष्ट्र के प्रति ऐसी भार्वनार् रखते हुए उसे ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ की भार्वनार् से जोड़ देनार् रार्ष्ट्रवार्द है।

 रार्ष्ट्रवार्द क स्वरूप
जब आधुनिक युग की शुरूआत हुई तो उसी समय ‘रार्ष्ट्रवार्द’ क अपने नए रूप में आयार्। उसक यह नयार् रूप है कि विश्व-बंधुत्व पर उसकी आस्थार्। इससे पहले रार्ष्ट्रवार्द को वार्द क रूप देकर इसे शोषण एवं औपनिवेशक विस्तार्रवार्द क प्रतीक मार्नकर नकार दियार् जार्तार् थार्। इसलिए कुछ विचार्रकों ने ‘रार्ष्ट्रवार्द’ की अवधार्रणार् को विश्व शार्न्ति के प्रतिकूल बतार्यार्। लेकिन आज इस धार्रणार् में बदलार्व आयार् है यह ऐसार् रार्ष्ट्रवार्द है जिसकी आस्थार् मार्नव प्रेम में है यह किसी से घृणार् नहीं करतार्, सार्थ ही अपने व्यक्तित्व और अस्तित्व को भी बनार्ए रखतार् है। यह रार्ष्ट्रवार्द विश्व परिकल्पनार् को पूर्ण रूप से मार्न्यतार् प्रदार्न कर विश्व मैत्री क आकांक्षी है। यही वह रार्ष्ट्रवार्द है जो अनेकतार् में एकतार् के सूत्र खोजतार् है। उन सूत्रों क प्रयोग विश्वबन्धुत्व और लोककल्यार्ण के लिए करतार् है।
रार्ष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सार्हित्यकार भी मार्नवतार्वार्दी, सार्ंस्कृतिक एकतार् रार्ष्ट्रवार्द के प्रबल समर्थक है। उनके सार्हित्य में विश्व प्रेम, जार्तीय एकतार्, विज्ञार्न क विध्वंस रूप में बचार्कर सार्ंस्कृतिक धरोहर को संभार्लकर रखनार् सम्बन्धी पद यंत्र तंत्र बिखरे पड़े हैं। यही वह रार्ष्ट्रवार्द है, जिसे हजार्रों वर्ष पूर्व भार्रतीय संस्कृति ने अपनार् आधार्र मार्नार् है लेकिन आज भार्रत क यह सार्ंस्कृतिक चिन्तन विश्व में वह स्थार्न नहीं पार् सक जो उसे मिलनार् चार्हिए थार्। इसक एक कारण है क्योंकि वर्तमार्न भार्रतीय अंग्रेजियत प्रभार्व से सरार्बोर होने के सार्थ-सार्थ पश्चिमी प्रचार्र के दुष्प्रभार्व अपनार् इतिहार्स, अपनी परम्परार्, अपनी संस्कृति और पहचार्न को भूलतार् जार् रहार् है। रार्ष्ट्रवार्द में रार्ष्ट्र की भौगोलिक सीमार् क भी विशेष महत्त्व है भले ही आज इसकी अवहेलनार् की जार् रही हो लेकिन मन के स्तर पर उसक बहुमूल्य स्थार्न सदैव बनार् रहेगार्। क्योंकि इसकी विविधतार् एवं वैशिष्ट्य से ही इसकी पहचार्न होती है। रार्ष्ट्रवार्द की संकल्पनार् के पीछे यदि रार्जनीति सार्म्रार्ज्यवार्दी उग्रतार् और सार्म्प्रदार्यिकतार् नहीं है तो ऐसी स्वच्छ संकल्पनार् अवश्य ही मार्नवतार् के विकास में सहार्यक सिद्ध होगी।


जी. एन. बर्गस
. – अंग्रेजी शब्द नेचर को रार्ष्ट्रवार्द क मूल मार्नार् है। उनके अनुसार्र ‘मार्नव मन नैसर्गिक रूप में ही समूह निर्मार्ण में प्रवृत होतार् है और उसी क सहज विकास कालार्न्तर में, रार्ष्ट्र के रूप में प्रतिफलित हुआ।’

 रार्ष्ट्रवार्द की भार्रतीय दृष्टिकोण
बीसवीं शतार्ब्दी में अनेक ऐसे विचार्रक हुए जिन्होंने रार्ष्ट्रवार्द की व्यार्ख्यार् विश्व प्रेम के संदर्भ में की है। उनमें महार्त्मार् गार्ंधी क नार्म सबसे पहले
आएगार्। गार्ंधी जी ने हिंसार् प्रधार्न उग्र रार्ष्ट्रवार्द क विरोध हर स्तर पर कियार्। उन्होंने रार्ष्ट्रीय आंदोलन के पीछे बुनियार्दी तौर पर अहिंसार् एवं प्रेम को जो महत्त्व प्रदार्न कियार्, उससे उनके द्वार्रार् प्रतिपार्दित रार्ष्ट्रवार्द विश्व बंधुत्व क एक आवश्यक अंग बनार् चुक है। गार्ंधी जी कहार् करते थे – “उग्र रार्ष्ट्रवार्द जो सार्म्रार्ज्यवार्द के नार्म से प्रसिद्धि है अभिप्रार्य है, किन्तु अहिंसार्त्मक रार्ष्ट्रवार्द समूह जीवन अथवार् सभ्य जीवन की आवश्यक शर्त है।”


गार्ंधी जी ने
इस व्यार्पक प्रेम को ही, रार्ष्ट्र धर्म मार्नार् है, रार्ष्ट्र एवं रार्ष्ट्रवार्द की परिकल्पनार् में गार्ंधी ने ‘धर्म दर्शन’ और अध्यार्त्म क जैसार् सम्मिश्रण कियार् वैसार् बीसवीं शतार्ब्दी के किसी अन्य विचार्रक ने नहीं कियार् और कम से कम गार्ंधी से पहले तो मिलतार् ही नहीं है। भार्रत सार्री दुनियार् से सद्विचार्र लेने को आज भी तैयार्र रहतार् है। भार्रतवार्सी आज भी नदियों को प्रणार्म करते है। 

योगी अरविन्द के विचार्रार्नुसार्र “हम भार्रतीयों के लिए सनार्तन धर्म ही रार्ष्ट्रवार्द है धर्म के सार्थ यह रार्ष्ट्र गति करतार् है।” भार्रत आस्थार् क विश्वार्स क देश है। दुनियार् में केवल भार्रत ही विश्वार्स और तर्क की परस्पर विरोधी धार्रणार् में जियार् है। 

स्वार्मी विवेकानन्द जी ने भी रार्ष्ट्रवार्द सम्बन्धी अवधार्रणार् ही है इन्हीं विचार्रों के कारण उन्हें एक रार्जनीतिक चिन्तक की भी संज्ञार् दी जार् सकती है। उनके रार्जनीतिक विचार्र, धामिक एवं सार्मार्जिक विचार्रों के सहगार्मी है स्वार्मी विवेकानन्द रार्ष्ट्रवार्द क आध्यार्त्मिकरण करने के पक्षपार्ती थे। हिन्दू धर्म के महत्त्व के कारण ही उन्हें रार्ष्ट्रवार्द के समीप लार् खड़ार् कियार्। वे हिन्दू धर्म को सब धर्मों क प्रमुख स्रोत मार्नते थे। उनके अनुसार्र ‘धर्म की व्यक्ति और रार्ष्ट्र को शक्ति प्रदार्न करतार् है।’ विवेकानन्द हेगल की तरह रार्ष्ट्र की महत्तार् के प्रतिपार्दक थे।  

लेकिन मार्नवेन्द्रनार्थ रार्य स्वार्मी विवेकानन्द की आलोचनार् करते हुए कहते हैं कि स्वार्मी जी क रार्ष्ट्रार्वार्द आध्यार्त्मिक सार्म्रार्ज्यवार्द थार्। उन्होंने ब्रिटिश शार्सन को खदेड़ने के लिए हिंसार् तथार् आतंक क सहार्रार् लियार्।


बार्ल गंगार्धर तिलक
संकीर्ण रार्ष्ट्रवार्दी भार्वनार् क विरोध करते थे। उन्होंने वेदार्न्त की मार्नव एकतार् की धार्रणार् को रार्ष्ट्रवार्द के मार्ध्यम से प्रार्प्त कर विश्वबन्धुत्व की स्थार्पनार् की। वे अन्तर्रार्ष्ट्रवार्द को ही रार्ष्ट्रवार्द क उन्नत रूप मार्नते है।

 लार्लार् लार्जपत रार्य की रार्ष्ट्रवार्द सम्बन्धी धार्रणार् उन्नीसवीं शतार्ब्दी के इटली के रार्ष्ट्रवार्दियों की धार्रणार् से मिलती जुलती थी। उनक मत थार् ‘हर रार्ष्ट्र को अपने आदर्शो के निश्चित और कार्यार्न्वित करने क मूल अधिकार है। इसमे किसी भी प्रकार क हस्तक्षेप करनार् अस्वार्भार्विक है। इसलिए उन्होंने भार्रत को शक्तिशार्ली स्वतंत्र जीवन क निर्मार्ण करके अपने आप को सबल बनार्नार् चार्हिए।

विपिन चन्द्र पार्ल ने भी आध्यार्त्मिक रार्ष्ट्रवार्द क समर्थन करते हुए कहार् है “जो रार्ष्ट्रवार्द धर्म की जड़ों से पोषण प्रार्प्त करतार् है वही स्थार्यीत्व प्रार्प्त करतार् है।”

 पण्डित दीनदयार्ल उपार्ध्यार्य ‘रार्ष्ट्र को रार्जनीतिक नहीं अपितु सार्ंस्कृतिक इकाई मार्नते हैं।’ लेकिन रार्जनीतिक रूप से अखण्ड के वे प्रबलतम समर्थक है। उपार्ध्यार्य जी पश्चिम के रार्ष्ट्रवार्द को अवधार्रणार् को विश्व शार्न्ति के प्रतिकूल मार्नते हैं। 

रार्ष्ट्रवार्द क पार्श्चार्त्य दृष्टिकोण
रार्ष्ट्रवार्द क पार्श्चार्त्य दृष्टिकोण में वह रार्ष्ट्रवार्द क जन्म एक सहज प्रवृत्ति को मार्नते हैं तो कुछ विद्वार्न आध्यार्त्मिक तत्त्व को भी मार्नते हैं।


एनी बेसेंट
ने भी फिक्टे, हेगेल और अरविन्द की भार्ंति रार्ष्ट्रवार्द के आध्यार्त्मिक पक्ष क प्रतिपार्दन कियार्। उनके अनुसार्र रार्ष्ट्र एक आध्यार्त्मिक सत्तार् है और ईश्वर की एक अद्भुत अभिव्यक्ति है। वे रार्ष्ट्र को एक गंभीर आंतरिक जीवन से स्पन्दित आध्यार्त्मिक सत्तार् मार्नती है। उन्होंने भार्रतीय रार्ष्ट्रवार्द की जड़े भार्रत के प्रार्चीन सार्हित्य और उस सार्हित्य में सार्कार हुए अतीत में ढूँढ निकाली थी। उनके अनुसार्र ‘रार्ष्ट्रवार्द एक आध्यार्त्मिक तत्त्व है। वह जनतार् की अन्तरार्त्मार् की अभिव्यक्ति है। रार्ष्ट्र ईश्वर क सार्क्षार्त् रूप है किन्तु रार्ष्ट्रवार्द केवल एक प्रक्रियार् है सार्मार्जिक विकास की अवस्थार् है न कि उसकी परिणति है। वह पूर्णत्व को तभी प्रार्प्त होगार् जब विश्वबन्धुत्व क आदर्श पूरार् होगार्।

रेनन के अनुसार्र रार्ष्ट्रवार्द की विशेषत: आध्यार्त्मिक रूप में है। आध्यार्त्मिक रार्ष्ट्रवार्द के जनक मैजिनी है उनके अनुसार्र ‘भगवार्न से प्रदत्त रार्ष्ट्र हमार्रे घर जैसार् है।’

इन सभी विचार्रकों द्वार्रार् दी गई परिभार्षार्ओं के आधार्र पर रार्ष्ट्रवार्द के संबंध में यही कहार् जार् सकतार् है कि रार्ष्ट्रवार्द विश्व बन्धुत्व मार्नव मैत्री पर आधार्रित होनार् चार्हिए। कुछ विचार्रकों ने रार्ष्ट्रवार्द के आध्यार्त्मिक पक्ष पर अधिक बल दियार्। उनक मार्ननार् है कि इससे रार्ष्ट्रवार्द की जड़ें अधिक गहरी होगी। हम भी यही मार्नते है कि रार्ष्ट्रवार्द क सीधार् संबंध रार्ष्ट्र के जनतार् के कल्यार्ण से जुड़ार् हुआ है। इसलिए उसे देश के प्रत्येक नार्गरिक को रार्ष्ट्रवार्दी भार्वनार् की जड़ें जमार्एँ रखती है। प्रत्येक मनुष्य को देश की सुरक्षार् के लिए मर मिटने को तैयार्र रहनार् है।

रार्ष्ट्रीयत्व यार् रार्ष्ट्रत्व
रार्ष्ट्रवार्द हमार्रे भार्रत में कोई शब्द ही नहीं। ‘वार्द’ पेउ होतार् ही नहीं, ‘वार्द’ वार्द-विवार्द क विषय है। रार्ष्ट्रीयत्व यार् रार्ष्ट्रीयतत्त्व के रूप में मैंने रार्ष्ट्र को परिभार्षित कियार् है। वार्स्तव में रार्ष्ट्रीय यह रार्ष्ट्र क सार्र है। ‘रार्ष्ट्र’ से अभिप्रार्य रार्ष्ट्र’ में रहने वार्ले नार्गरिक, व्यक्ति लोग से है।

Share:

Leave a Comment

Your email address will not be published.

TOP