भार्षार् क अर्थ, परिभार्षार् एवं मार्ध्यम

भार्षार् : सार्मार्न्य परिचय 

भार्षार् एक सार्मार्जिक क्रियार् है, किसी व्यक्ति की कृति नहीं। समार्ज में यह विचार्र-विनिमय क सार्धन है। मनुष्य और मनुष्य के बीच, वस्तुओं के विषय में अपनी इच्छार् और मति क आदार्न-प्रदार्न करने के लिए व्यक्त ध्वनि-संकेतों क जो व्यवहार्र होतार् है, उसे भार्षार् कहते हैं। भार्षार् किसी-न-किसी वस्तु के बार्रे में कहती है। वह समार्ज सार्पेक्ष होती है। उसक कोर्इ प्रयोजन होतार् है और विकसित होते-होते वह मनुष्य के विचार्र और अभिव्यक्ति क सार्धन बन जार्ती है। मार्नव जार्ति की प्रत्येक पीढ़ी नर्इ भार्षार् उत्पन्न नहीं करती। वह अपने पूर्वज से उसे सीखती है और इस प्रकार भार्षार् परम्परार्गत सम्पत्ति है। उसकी धार्रार् अविच्छिन्न चलती रहती है। सार्थ ही यह अर्जित सम्पत्ति है अर्थार्त् आपस के यार् सार्मार्जिक सार्हचर्य द्वार्रार् वह सीखनी पडत़ी है।

भार्षार् से न केवल विषयगत जार्नकारी प्रार्प्त होती है, बल्कि इसके मार्ध्यम से हमार्रार् संवेगार्त्मक विकास होतार् है। भार्षार् के मार्ध्यम से मार्नव अपने विचार्रों के सृजनार्त्मकतार् क जार्मार् पहनार् कर सार्हित्य क निर्मार्ण करतार् है। भार्षार् न केवल सार्हित्य-सृजन के लिए होती है, बल्कि अन्य विषयों की जार्नकारी के लिए भी मार्ध्यम क कार्य करती है।

भार्षार् मनुष्य के लिए र्इश्वर क अनोखार् वरदार्न है। भार्षार् के बिनार् मनुष्य-समार्ज की कल्पनार् नहीं की जार् सकती। सभ्यतार् और संस्कृति के सोपार्न पर आरोहण करने के लिए भार्षार् की भूमिक इतनार् महत्त्वपूर्ण है कि भार्षार् के बिनार् किसी प्रकार की उन्नति करनार् सम्भव नहीं। मैक्समुलर के शब्दों में ‘‘भार्षार् यदि प्रकृति की देन है तो निसन्देह यह प्रकृति की अन्तिम और सर्वश्रेष्ठ रचनार् है, जिस प्रकृति ने केवल मनुष्य के लिए ही सुरक्षित कर रखार् थार्।’’

ऊपर कहार् जार् चुक है कि भार्षार् एक सार्मार्जिक क्रियार् है। अर्थार्त् आपस के यार् सार्मार्जिक सार्हचर्य द्वार्रार् वह सीखनी पडत़ी है। वह सार्मार्जिक और सार्ंकेतिक संस्थार् है। ध्वनियों, स्वर-विकार, मुख-विकृति, बल-प्रयोग, आचरण क वेग आदि भार्षार् के आवश्यक गौण अंग मार्ने जार्ते हैं। विशेषकर अविकसित जार्तियों की भार्षार्ओं में। सार्हित्यिक पद पर आसीन होने के लिए प्रत्येक भार्षार् को इन अंगो क बहुत कुछ त्यार्ग करनार् पडत़ार् है। उस समय भार्षार् के चार्र अंग ही प्रधार्न हो जार्ते हैं- शब्द, वार्क्य, ध्वनि और अर्थ। शब्दों के अर्थ शार्श्वत नहीं होते। स्थार्न, समार्ज, व्यक्ति आदि के भेद से उनमें परिवर्तन होते रहते हैं। सभ्यतार् के विकास, मार्नसिक और भौतिक परिवर्तनों के सार्थ-सार्थ फलत: जटिलतार्ओं और दुरूहतार्ओं के विकास के सार्थ-सार्थ अथवार् एक जार्ति के दूसरी जार्ति के सम्पर्क में आने से भार्षार् क विकास भी होतार् है। कहार् जार्तार् है, ‘‘चार्र कोस पर पार्नी बदले, आठ कोस पर बार्नी।’’ अर्थार्त् थोड़ी-थोड़ी दूर पर समार्ज की भार्षार् में बदलार्व आ ही जार्तार् है, जो स्वार्भार्विक है। यही कारण है कि अलग-अलग क्षेत्रों में क्षेत्रीय भार्षार्एँ एक वृहत्तर परिवेश की मार्नक भार्षार् से जुड़ी रहती हैं। ‘‘विश्व में कोर्इ भार्षार् ऐसी नहीं होगी जिसक प्रयोग उसके पूरे क्षेत्र में सभी स्तरों पर एक-सार् हो। तत्त्वत: भार्षार् की एकरूपतार् यार् उसके मार्नकीकरण की बार्त सैद्धार्न्तिक ही अधिक है, व्यार्वहार्रकि कम।’’

 मनुष्य की शार्रीरिक और मार्नसिक रचनार् इस प्रकार हुर्इ है कि वह विभिन्न प्रकार की ध्वनियार्ँ उत्पन्न करने में समर्थ है। उसकी वार्गेन्द्रियार्ँ अन्य प्रार्णियों से भिन्न हैं। यहि कारण है कि वह बार्ºय वार्तार्वरण और परिस्थितियों के प्रभार्व से प्रभार्वित विभिन्न वस्तुओं के लिए प्रतीकात्मक शब्दों क निर्मार्ण कर सका। इसी प्रकार क्रमश: मौखिक फिर लिखित भार्षार् की उत्पत्ति हुर्इ और वह धीरे-धीरे विकसित होती गर्इ। ज्ञार्नाजन क आधार्र होने के कारण भार्षार् शिक्षार् के समस्त क्रियार्कलार्पों क भी आधार्र है। उसके बिनार् शिक्षार् के किसी भी क्रियार्-कलार्प की कल्पनार् नहीं की जार् सकती। भार्षार् के स्वरूप को समझने के लिए हम निम्नलिखित संकल्पनार्ओं क ज्ञार्न प्रार्प्त करेंगे।

भार्षार् : अर्थ एवं परिभार्षार् 

‘भार्षार्’ शब्द भार्ष् धार्तु से निष्पन्न हुआ है। शार्स्त्रों में कहार् गयार् है- ‘‘भार्ष् व्यक्तार्यार्ं वार्चि’’ अर्थार्त् व्यक्त वार्णी ही भार्षार् है। भार्षार् स्पष्ट और पूर्ण अभिव्यक्ति प्रकट करती है।

भार्षार् क इतिहार्स उतनार् ही पुरार्नार् है जितनार् पुरार्नार् मार्नव क इतिहार्स। भार्षार् के लिए सार्मार्न्यत: यह कहार् जार्तार् है कि- ‘भार्षार् मनुष्य के विचार्र-विनिमय और भार्वों की अभिव्यक्ति क सार्धन है।’ भार्षार् की परिभार्षार् पर विचार्र करते समय रवीन्द्रनार्थ श्रीवार्स्तव की यह बार्त ध्यार्न देने योग्य है कि- ‘भार्षार् केवल अपनी प्रकृति में ही अत्यन्त जटिल और बहुस्तरीय नहीं है वरन् अपने प्रयोजन में भी बहुमुखी है।’ उदार्हरण के लिए अगर भार्षार् व्यक्ति के निजी अनुभवों एवं विचार्रों को व्यक्त करने क मार्ध्यम है; तब इसके सार्थ ही वह सार्मार्जिक सम्बन्धों की अभिव्यक्ति क उपकरण भी है, एक ओर अगर वह हमार्रे मार्नसिक व्यार्पार्र(चिन्तन प्रक्रियार्) क आधार्र है तो दूसरी तरफ वह हमार्रे सार्मार्जिक व्यार्पार्र(संप्रेषण प्रक्रियार्) क सार्धन भी है। इसी प्रकार संरचनार् के स्तर पर जहार्ँ भार्षार् अपनी विभिन्न इकाइयों में सम्बन्ध स्थार्पित कर अपनार् संश्लिष्ट रूप ग्रहण करती है जिनमें वह प्रयुक्त होती है। प्रयोजन की विविधतार् ही भार्षार् को विभिन्न सन्दर्भों मे देखने के लिए बार्ध्य करती है। यही कारण है कि विभिन्न विद्वार्नों ने इसे विभिन्न रूपों में देखने और परिभार्षित करने क प्रयत्न कियार् है :

  1. डॉ. कामतार् प्रसार्द गुरु :‘भार्षार् वह सार्धन है जिसके द्वार्रार् मनुष्य अपने विचार्र दूसरों तक भलीभार्ँति प्रकट कर सकतार् है और दूसरों के विचार्र स्पष्टतयार् समझ सकतार् है।’ -हिन्दी व्यार्करण 
  2. आचाय किशोरीदार्स :‘विभिन्न अर्थों में संकेतित शब्दसमूह ही भार्षार् है, जिसके द्वार्रार् हम अपने विचार्र यार् मनोभार्व दूसरों के प्रति बहुत सरलतार् से प्रकट करते हैं।’’-भार्रतीय भार्षार्विज्ञार्न 
  3. डॉ. श्यार्मसुन्दर दार्स :‘मनुष्य और मनुष्य के बीच वस्तुओं के विषय में अपनी इच्छार् और मति क आदार्न-प्रदार्न करने के लिए व्यक्त ध्वनि-संकेतों क जो व्यवहार्र होतार् है उसे भार्षार् कहते हैं।’ -भार्षार्विज्ञार्न 
  4. डॉ. बार्बूरार्म सक्सेनार् :‘जिन ध्वनि-चिह्नों द्वार्रार् मनुष्य परस्पर विचार्र-विनिमय करतार् है, उनको समष्टि रूप से भार्षार् कहते हैं।’ -सार्मार्न्य भार्षार्विज्ञार्न 
  5. डॉ. भोलार्नार्थ : ‘भार्षार् उच्चार्रणार्वयवों से उच्चरित यार्दृच्छिक(arbitrary) ध्वनि-प्रतीकों की वह संचरनार्त्मक व्यवस्थार् है, जिसके द्वार्रार् एक समार्ज-विशेष के लोग आपस में विचार्रों क आदार्न-प्रदार्न करते हैं ।’ -भार्षार्विज्ञार्न 
  6. रवीन्द्रनार्थ : ‘भार्षार् वार्गेन्द्रिय द्वार्रार् नि:स्तृत उन ध्वनि प्रतीकों की संरचनार्त्मक व्यवस्थार् है जो अपनी मूल प्रकृति में यार्दृच्छिक एवं रूढ़िपरक होते हैं और जिनके द्वार्रार् किसी भार्षार्-समुदार्य के व्यक्ति अपने अनुभवों को व्यक्त करते हैं, अपने विचार्रों को संप्रेषित करते हैं और अपनी सार्मार्जिक अस्मितार्, पद तथार् अंतवर्ैयक्तिक सम्बन्धों को सूचित करते हैं।’ -भार्षार्विज्ञार्न : सैद्धार्न्तिक चिन्तन 

इस प्रकार भार्षार् यार्दृच्छिक वार्क् प्रतीकों की वह व्यवस्थार् है, जिसे मुख द्वार्रार् उच्चार्रित कियार् जार्तार् है और कानों से सुनार् जार्तार् है, और जिसकी सहार्यतार् से मार्नव-समुदार्य परस्पर सम्पर्क और सहयोग करतार् है। उपर्युक्त परिभार्षार्ओं के आधार्र पर हम कह सकते हैं कि- ‘‘मुख से उच्चरित ऐसे परम्परार्गत, साथक एवं व्यक्त ध्वनि संकेतों की समष्टि ही भार्षार् है जिनकी सहार्यतार् से हम आपस में अपने विचार्रों एवं भार्वों क आदार्न-प्रदार्न करते हैं।’’

भार्षार् : अभिव्यक्ति क मार्ध्यम 

अपने भार्वों को अभिव्यक्त करके दूसरे तक पहुँचार्ने हेतु भार्षार् क उद्भव हुआ। भार्षार् के मार्ध्यम से हम न केवल अपने, भार्वों, विचार्रों, इच्छार्ओं और आकांक्षार्ओं को दूसरे पर प्रकट करते हैं, अपितु दसू रों द्वार्रार् व्यक्त भार्वों, विचार्रों और इच्छार्ओं को ग्रहण भी करते हैं। इस प्रकार वक्तार् और श्रोतार् के बीच अभिव्यक्ति के मार्ध्यम से मार्नवीय व्यार्पार्र चलते रहते हैं। इसलिए सुननार् और सुनार्नार् अथवार् जार्ननार् और जतार्नार् भार्षार् के मूलभूत कौशल हैं जो सम्प्रेषण के मूलभूत सार्धन हैं। अभिव्यक्ति के मार्ध्यम के रूप में भार्षार् के अन्यतम कौशल है पढ़नार् और लिखनार् जो विधिवत् शिक्षार् के मार्ध्यम से विकसित होते हैं।

भार्षार् : चिन्तन क मार्ध्यम 

विद्यार्थ्री बहुत कुछ सुने, बोले यार् लिखें-पढे़, इतनार् पर्यार्प्त नहीं है, अपितु यह बहुत आवश्यक है कि वे जो कुछ पढे़ं और सुनें, उसके आधार्र पर स्वयं चिन्तन-मनन करें। भार्षार् विचार्रों क मूल-स्रोत है। भार्षार् के बिनार् विचार्रों क कोर्इ अस्तित्व नहीं है और विचार्रों के बिनार् भार्षार् क कोर्इ महत्त्व नहीं। पार्णिनीय शिक्षार् में कहार् गयार् है कि ‘‘बुद्धि के सार्थ आत्मार् वस्तुओं को देखकर बोलने की इच्छार् से मन को प्रेरित करती है। मन शार्रीरिक शक्ति पर दबार्व डार्लतार् है जिससे वार्यु में प्रेरणार् उत्पन्न होती है। वार्यु फेफड़ों में चलती हुर्इ कोमल ध्वनि को उत्पन्न करती है, फिर बार्हर की और जार्कर और मुख के ऊपरी भार्ग से अवरुद्ध होकर वार्यु मुख में पहुँचती है और विभिन्न ध्वनियों को उत्पन्न करती है। ‘‘अत: वार्णी के उत्पन्न के लिए चेतनार्, बुद्धि, मन और शार्रीरिक अवयव, ये चार्रों अंग आवश्यक हैं। अगर इन चार्रों में से किसी के पार्स एक यार् एकाधिक क अभार्व हो तो वह भार्षार्हीन हो जार्तार् है।

भार्षार् : संस्कृति क मार्ध्यम 

भार्षार् और संस्कृति दोनों परम्परार् से प्रार्प्त होती हैं। अत: दोनों के बीच गहरार् सम्बन्ध रहार् है। जहार्ँ समार्ज के क्रियार्-कलार्पों से संस्कृति क निर्मार्ण होतार् है, वहार्ँ सार्स्कृतिक अभिव्यक्ति के लिए भार्षार् क ही आधार्र लियार् जार्तार् है। पौरार्णिक एवं सार्हसिक कहार्नियार्ँ, पर्व-त्यौहार्र, मेलार्-महोत्सव, लोक-कथार्एँ, ग्रार्मीण एवं शहरी जीवन-शैली, प्रकृति-पर्यार्वरण, कवि-कलार्कारों की रचनार्एँ, महार्न विभूतियों की कार्यार्वली, रार्ष्ट्रप्रेम, समन्वय-भार्वनार् आदि सार्मार्जिक-सार्ंस्कृतिक गतिविधियों क प्रभार्व भी भार्षार् पर पड़तार् है। दरअसल, किसी भी क्षेत्र विशेष के मार्नव समुदार्य को परखने के लिए उसकी भार्षार् को समझनार् आवश्यक है। किसी निर्दिष्ट गोष्ठी के ऐतिहार्सिक उद्भव तथार् जीवन-शैली की जार्नकारी प्रार्त्प करने हेतु उसकी भार्षार् क अध्ययन जरूरी है। संपृक्त जन-समुदार्य के चार्ल-ढार्ल, रहन-सहन, वेशभूषार् ही नहीं, अपितु उसकी सच्चाइ, स्वच्छतार्, शिष्टार्चार्र, सेवार्-भार्व, सार्हस, उदार्रतार्, निष्ठार्, श्रमशीलतार्, सहिष्णुतार्, धर्मनिरपेक्षतार्, कर्त्तव्यपरार्यणतार् आदि उसकी भार्षार् के अध्ययन से स्पष्ट हो जार्ते हैं।

भार्षार् : सार्हित्य क मार्ध्यम 

भार्षार् सार्हित्य क आधार्र है। भार्षार् के मार्ध्यम से ही सार्हित्य अभिव्यक्ति पार्तार् है। किसी भी भार्षार् के बोलनेवार्लों जन-समुदार्य के रहन-सहन, आचार्र-विचार्र आदि क यथाथ चित्र प्रस्तुत करने वार्लार् उस भार्षार् क सार्हित्य होतार् है। सार्हित्य के जरिए हमें उस निर्दिष्ट समार्ज के सार्मार्जिक एवं सार्ंस्कृतिक जीवन क परिचय मिलतार् है। केवल समकालीन जीवन क ही नहीं, बल्कि सार्हित्य हमें अपने अतीत से उसे जोड़कर एक विकसनशील मार्नव-सभ्यतार् क पूर्ण परिचय देतार् है। सार्थ ही सार्हित्य के अध्ययन से एक उन्नत एवं उदार्त्त विचार्र को पनपने क अवसर मिलतार् है तो उससे हम अपने मार्नवीय जीवन को उन्नत बनार्ने की प्रेरणार् ग्रहण करते हैं। अत: भार्षार् क सार्हित्यिक रूप हमार्रे बौद्धिक एवं भार्वार्त्मक विकास में सहार्यक होतार् है और सार्हित्य की यह अनमोल सम्पत्ति भार्षार् के मार्ध्यम से ही हम तक पहुँच पार्ती है। उत्तम सार्हित्य समृद्ध तथार् उन्नत भार्षार् की पहचार्न है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *