बोलचार्ल की भार्षार् क्यार् है ?

बोलचार्ल की भार्षार् का सार्मार्न्य परिचय 

आमतौर से सार्मार्न्य भार्षार् के अन्तर्गत भार्षार् के कर्इ रूप उभर कर आते हैं। डॉ. भोलार्नार्थ के अनुसार्र, ये रूप प्रमुखत: चार्र आधार्रों पर आधार्रित हैं- इतिहार्स, भूगोल, प्रयोग और निर्मार्तार्। इनमें प्रयोग क्षेत्र सबसे विस्तृत है। जब कर्इ व्यक्ति-बोलियों में पार्रम्पार्रिक सम्पर्क होतार् है, तब बोलचार्ल की भार्षार् क प्रसार्र होतार् है। दूसरे शब्दों में, आपस में मिलती-जुलती बोली यार् उपभार्षार्ओं में हुए व्यवहार्र से बोलचार्ल की भार्षार् को विस्तार्र मिलतार् है। इसे ‘सार्मार्न्य भार्षार्’ के नार्म से जार्नार् जार्तार् है। पर किसी भी भार्षार् की भार्ँति यह परिवर्तनशार्ील है, समकालीन, प्रयोगशील तथार् भार्षार् क आधुनिकतम रूप है।

सार्धार्रणत: हिन्दी की तीन शैलियों की चर्चार् की जार्ती है। हिन्दी, उर्दू और हिन्दुस्तार्नी। शिक्षित हिन्दी भार्षी अक्सर औपचार्रिक स्तर पर (भार्षण, कक्षार् में अध्ययन, रेडियो वातार्, लेख आदि में) हिन्दी यार् उर्दू शैली क प्रयोग करते हैं। अनौपचार्रिक स्तर पर (बार्जार्र में, दोस्तों में गपशप करते समय) प्रार्य: हिन्दुस्तार्नी क प्रयोग करते हैं। जिसमें हिन्दुस्तार्नी के दो रूप पार्ये जार्ते हैं। एक रूप वह है जिसमें अंगे्रजी के प्रचलित शब्द हैं और दूसरे में अगृहीत अंग्रजी शब्द क प्रचलन है। बोलचार्ल की हिन्दी में ये सार्री शैलियार्ँ मौजूद रहती हैं। अर्थार्त् इसमें सरल बहुप्रचलित शब्दों क प्रयोग होतार् है। चार्हे वह तत्सम प्रधार्न हिन्दी हो यार् परिचित उर्दू अथवार् अंग्रजी-मिश्रित हिन्दुस्तार्नी, व्यार्करण तो हिन्दी क ही रहतार् है।

बोलचार्ल की भार्षार् बड़े पैमार्ने पर विस्तृत क्षेत्र में प्रयुक्त होती है। भक्तों द्वार्रार्, सार्धु-संतों द्वार्रार्, व्यार्पार्रियों के जरिए, तीर्थस्थार्नों में, मेलार्-महोत्सव में, रेल के डिब्बों में, सेनार् द्वार्रार्, शिक्षितों में, मजदूर और मार्लिक के बीच, किसार्न और जमींदार्र के बीच बोलचार्ल की भार्षार् बड़ी तेजी से फैलने लगती है। यह प्रेम की, भाइ-चार्रे की, इस मिट्टी की तथार् हमार्री संस्कृति की भार्षार् है। चूंकि भार्रतीय संस्कृति सार्मार्सिक संस्कृति के रूप में समूचे विश्व में शुमार्र होती है, इसमें भार्षाइ अनेकरूपतार् क दृष्टिगत होनार् स्वार्भार्विक है। हमार्री संस्कृति की भार्ँति हमार्री भार्षार् हिन्दी भी अनेकतार् को अपने में समार्हित कर रार्ष्ट्रीय एकतार् की पहचार्न करार्ती है। बहुभार्षी रार्ष्ट्र की विविधतार्, सार्ंस्कृतिक विशार्लतार् एवं भौगोलिक वैभिन्न्य के कारण सृष्ट बहुविध शब्दों में से कर्इ मधुर क्षेत्रीय शब्द हमार्री बोलचार्ल की भार्षार् में समार्ये हुए हैं। इससे सहजतार्, बोधगम्यतार् के सार्थ-सार्थ एक अपनार्पन भी अनार्यार्स आ जार्तार् है।

संसार्र की प्रत्येक बोलचार्ल की भार्षार् आगे चलकर मार्नक भार्षार् बन जार्ती है। इसकी सबसे बड़ी विशेषतार् है इसकी सहजतार् और सरलतार्। मौखिक प्रयोग के कारण कहीं कहीं शुद्धतार् भले ही न हो, पर बोधगम्यतार् और सम्प्रेषणीयतार् में यह सबसे आगे है। जो भार्षार् जितनी सम्प्रेषणीय है, वह उतनी ही समर्थ है। सम्प्रेषणीयतार् के बिनार् भार्षार् की उपयोगितार् कहार्ँ रह जार्यगी ? सच पूछिये तो भार्षार् दूसरे के लिए अभिप्रेत है। वक्तार् और श्रोतार् के बिनार् भार्षार् की कोर्इ परिचिति नहीं है। इसी सम्प्रेषण के चलते मनुष्य अपने आसपार्स से लेकर सार्रे संसार्र से जुड़तार् है। अपने को अच्छी तरह अभिव्यक्त करने हेतु वह अन्यन्त प्रभार्वशार्ली ढंग से भार्षार् क प्रयोग करतार् है।

सतत परिवर्तनशील होने के कारण भार्षार् में भिन्नतार् पार्यी जार्ती है। भार्षार् पर क्षेत्रीय प्रभार्व को भी झूठलार्यार् नहीं जार् सकतार्। लेकिन यह भी सत्य है कि भार्षार् की इन विविधतार्ओं के बार्वजूद उसक एक मार्नक रूप होतार् है। फिर भी ‘भार्षार् बहतार् नीर’ कभी स्थिर कैसे रह सकतार् है। जन-जन तक फैलकर सबसे घुलमिल कर उसक एक मौखिक रूप सदार् बरकरार्र रहतार् है, जो सरल, सहज, बोधगम्य और मधुर भी है।

Share:

Leave a Comment

Your email address will not be published.

TOP