बवार्सीर के कारण, लक्षण एवं वैकल्पिक चिकित्सार्
बवार्सीर यार् अर्श जिसे अंग्रेजी मे (Piles) कहार् जार्तार् है, अर्श शब्द संस्कृत क है, इसे आयुर्वेद में अर्श, यूनार्नी चिकित्सार् बवार्सीर, अंग्रेजी मे होमोरार्यड्स यार् पार्इल्स, ये सभी एक ही रोग के पर्यार्यवार्ची शब्द हैं, अष्टार्ग हदय में अर्श के बार्रे में निम्न प्रकार से वर्णन मिलतार् है, – अखित प्रार्णिनो मार्ंसकीलक विशसन्तियत्। अर्शार्सि तस्मार्दुच्यते गुदमाग निरोधत:।। अर्थार्त जो मार्ंसार्कुर गुदार् माग क अवरोध कर शत्रु की भार्ँति पीड़ार् पहुॅचार्ते है, उन्हे अर्श कहते हैं। इस रोग मे शौच जार्नार्

बवार्सीर के कारण-

  1. कब्ज बवार्सीर रोग क प्रधार्न कारण है। 
  2. आनुवंशिकी भी इस रोग क एक प्रमुख कारण है। कर्इ व्यक्तियों में ये रोग उन्हे पैतृक रूप में मिलतार् है। 
  3. पुर:स्थ ग्रन्थि की सूजन भी बवार्सीर रोग क एक कारण है। 
  4. गरम, गरिष्ठ भोजन के अत्यधिक सेवन से भी यह रोग होतार् है। 
  5. कार्बोहार्इड्रेड युक्त मीठी चीजों क अधिक सेवन करने से भी बवार्सीर रोग हो जार्तार् है। 
  6. त्रिदोषो को संतुलित करने वार्ले आहार्र क लगार्तार्र अधिक मार्त्रार् में सेवन करने से भी यह रोग होतार् है। 
  7. समय पर भोजन नार् करनार् भी इस रोग क एक कारण है। 
  8. कर्इ व्यक्तियों में अत्यधिक उपवार्स करने से भी यह रोग हो जार्तार् है। 
  9. विकार ग्रस्त यकृत भी बवार्सीर रोग क एक कारण है। 
  10. बार्र-बार्र मल-मूत्र के वेग को रोकने से भी बवार्सीर रोग हो जार्तार् है। 
  11. सार्मथ्र्य से अधिक व्यार्यार्म कसरत करने से भी यह रोग हो जार्तार् है। 
  12. कब्ज की स्थिति में मल त्यार्ग के समय अत्यधिक जोर लगार्कर मल को बार्हर निकालने की कोशिश करने से भी यह रोग हो जार्तार् है। 
  13. स्त्रियों में अधिकतर यह रोग गर्भ के भार्र से हो जार्तार् है, प्रसव के उपरार्न्त स्वयं ठीक भी हो जार्तार् है।

बवार्सीर के लक्षण-

बवार्सीर की प्रार्रम्भिक अवस्थार् में गुदार्द्वार्र की भितरी व बहार्री भार्ग में खुजली व जलन अनुभव होती है। शौच में कठिनाइ होती है।

  1. वहॉ पर छोटी छोटी गार्ठे सी बन जार्ती है, जिन्हे मस्से कहते हैं, ये मस्से ही रोग बढ़ने पर बढ़ जार्ते है।
  2. रक्तहीन बवार्सीर जिसे वार्दी बवार्सीर कहते हैं, मे मस्सो में दर्द होतार् है। 
  3. रोगी क प्यार्स अधिक लगती है। 
  4. रोगी कमजोर हो जार्तार् है, शरीर शिथिल हो जार्तार् है। 
  5. कुछ रोगियों में हार्थ, पैर मुँह आदि पर भी सूजन आ जार्ती है। 
  6. कुछ रोगियों में ºदय तथार् पसलियों मे दर्द होतार् है, मूर्छार् तथार् कै तक हो जार्ती है, बुखार्र रहने लगतार् है। यह बवार्सीर की बहुत कष्टकारी स्थिति है।

बवार्सीर की वैकल्पिक चिकित्सार्

बवार्सीर रोग हेतु एलौपेथी क प्रयोग नार् करके विभिन्न वैकल्पिक चिकित्सार् द्वार्रार् उपचार्र कियार् जार् सकतार् है, ये वैकल्पिक चिकित्सार् निम्न है।

1. यौगिक चिकित्सार्-

बवार्सीर रोग के उपचार्र में यौगिक चिकित्सार् अत्यन्त महत्वपूर्ण भूमिक निभार्ती है। बवार्सीर रोग में यौगिक चिकित्सार् द्वार्रार् उपचार्र हेतु निम्न क्रियार्ओ क अभ्यार्स करार्नार् चार्हिए- यौगिक चिकित्सार् में सर्वप्रथम कब्ज के निरार्करण के लिए चिकित्सार् करनी आवश्यक है, यौगिक चिकित्सार् को दो भार्गो में विभार्जित कियार् जार्तार् है-

(i) कब्ज निवृत्ति हेतु चिकित्सार्-

कब्ज की चिकित्सार् उचित आहार्र-विहार्र व योग की क्रियार्ओं के अभ्यार्स के द्वार्रार् की जार् सकती है। यौगिक क्रियार्ओं में निम्न अभ्यार्स कब्ज से मुक्ति दिलार् सकते है।

  1. षट्कर्म- अग्निसार्र क्रियार्,वस्ति कर्म एवं नौलि क अभ्यार्स। आवश्यकतार्नुसार्र 15 दिन में एक बार्र लघु शंखप्रक्षार्लन भी कियार् जार् सकतार् है। शंखप्रक्षार्लन उचित मागदर्शन में ही करवार्यें। 
  2. आसन- पवनमुक्तार्सन, कौआचार्लार्सन, त्रिकोणार्सन, तार्ड़ार्सन, कटि चक्रार्सन, उदरार्कर्षण, तिर्यक भुजंगार्सन, मत्स्यार्सन, अर्द्ध मत्स्येन्द्रार्सन, हलार्सन आदि आसन कब्ज रोगियो के लिए अति उत्तम है। कब्ज के रोगी को भोजन के तुरन्त बार्द 10 मिनट तक वज्रार्सन में बैठनार् चार्हिए। सूर्यनमस्कार- सूर्यनमस्कार क प्रतिदिन सूर्योदय के समय 12 आवृतियो तक अभ्यार्स करनार् चार्हिए। 
  3. प्रार्णार्यार्म- प्रतिदिन भ्रस्त्रिक प्रार्णार्यार्म, सूर्यभेदी प्रार्णार्यार्म एवं नार्ड़ीशोधन प्रार्णार्यार्म क अभ्यार्स करनार् चार्हिए। 
  4. मुद्रार् एवं बध- कब्ज रोगियो के लिए योगमुद्रार्, पार्ार्नी मुद्रार्, अश्विनी मुद्रार् एवं बन्धो में उड्डियार्न बंध और महार्बन्ध क अभ्यार्स करनार् चार्हिए। 
  5. ध्यार्न- कब्ज के रोगियो को ध्यार्न के मार्ध्यम से अन्तमौन क अभ्यार्स करनार् चार्हिए।

(ii) बवार्सीर की यौगिक चिकित्सार्-

  1. षट्कर्म- षट्कर्मो के अन्तर्गत नौलि व मूलशोधन क अभ्यार्स करनार् चार्हिए। 
  2. आसन- सर्वार्ग आसन तथार् विपरीत करणी मुद्रार् क अभ्यार्स (यह अभ्यार्स रक्त को मलद्वार्र से हटार्ने में सहार्यतार् करते हैं)। 
  3. प्रार्णार्यार्म- नार्ड़ी शोधन अनुलोम विलोम, (भार्वनार् के सार्थ)। 
  4. मुद्रार् व बंध- अश्विनी मुद्रार् एवं मूल बंध क अभ्यार्स करनार् चार्हिए। 
  5. ध्यार्न- ध्यार्न के मार्ध्यम से मन को शार्न्त करने क प्रयार्स करनार् चार्हिए। 
  6. प्राथनार्- प्राथनार् के मार्ध्यम से सकारार्त्मक भार्व उत्पन्न होकर रोग से मुक्ति मिलती है।

2. प्रार्कृतिक चिकित्सार्-

बवार्सीर रोग के उपचार्र हेतु सर्वप्रथम् कब्ज को दूर करनार् अति आवश्यक है जब तक कब्ज दूर नहीं होगी बवार्सीर रोग भी दूर नहीं हो सकतार्, क्योंकि कब्ज बवार्सीर रोग क प्रधार्न कारण है।

  1. कब्ज दूर करने के लिए रोगी को तरल पदाथो क सेवन करनार् चार्हिए। अपने आहार्र में प्रतिदिन रेशो युक्त आहार्र क सेवन करनार् चार्हिए। 
  2. रोगी को प्रतिदिन एनिमार् देनार् चार्हिए। रोगी को पहले नींबू मिले गुनगुने पार्नी का, तत्पश्चार्त् ठण्डे पार्नी क एनिमार् देनार् चार्हिए। 
  3. रोगी को रार्त भर के लिए कटि-प्रदेश, जंघार् तथार् पेडू पर ऊनी कपड़े क पैक देनार् चार्हिए। 
  4. रोगी के पेट की हल्की मसार्ज करने के बार्द पेट पर गर्म-ठण्डार् सेंक करनार् चार्हिए, तत्पश्चार्त् गर्म-ठण्डार् कटि स्नार्न देनार् चार्हिए। 
  5. प्रतिदिन दो बार्र 15 मिनट के लिए मस्सो पर स्थार्नीय भार्प दी जार् सकती है। 
  6. मस्सो पर स्थार्नीय भार्प स्नार्न के पश्चार्त 3-5 मिनट तक गर्म कटि स्नार्न लेनार् चार्हिए।
  7. गर्म कटि स्नार्न लेने के तुरन्त बार्द 1-2 मिनट ठण्डार् कटि स्नार्न लेनार् चार्हिए। 
  8. रोगी को प्रतिदिन दो बार्र जुस्ट क प्रार्कृतिक स्नार्न भी लेनार् चार्हिए। 
  9. खूनी बवार्सीर में हरी रंग की बोतल क सूर्य तप्त जल 50 ग्रार्म और बार्दी बवार्सीर में नार्रंगी रंग की बोतल क सूर्य तप्त जल 50 ग्रार्म में पीनार् चार्हिए। 
  10. रोगी को नार्भि से लेकर मूत्रेन्द्रिय तक मिट्टी की पट्टी लगार्नी चार्हिए। सार्थ ही सार्थ गुदार् पर भी मिट्टी की पट्टी लगार्नी चार्हिए।

3. चुम्बक चिकित्सार्-

  1. रोगी को लौह चुम्बक युक्त गद्दी पर भी 20 से 30 मिनट तक बिठार्यार् जार् सकतार् है, अवश्य लार्भ होतार् है।
  2. प्रभार्वित भार्ग पर लौह चुम्बक क प्रयोग करनार् चार्हिए। 
  3. चुम्बक क दक्षिणी ध्रुव क प्रयोग 30 से 45 मिनट तक दिन में 3 से 4 बार्र करनार् चार्हिए। 
  4. पैर के टखने से 3-4 इंच ऊपर उत्तरी ध्रुव क प्रयोग करनार् चार्हिए। 
  5. चुम्बकीय जल (दोनो ध्रुवो से प्रभार्वित जल) क प्रयोग दिन में 4 से 5 बार्र करनार् चार्हिए। 
  6. एक बार्र में चुम्बकीय जल 50 मिली तक लियार् जार् सकतार् है, कम आयु के व्यक्तियों को कम से कम 25 मिली तक लियार् जार् सकतार् है,

सार्वधार्नी- चुम्बकीय जल, चुम्बकत्व आ जार्ने से वह औषधी बन जार्तार् है। इसलिए इस जल क प्रयोग बार्र बार्र एंव अधिक मार्त्रार् में नही पीनार् चार्हिए।

4. जड़ी बूटी चिकित्सार्-

  1. भोजन के सार्थ 3 ग्रार्म इसबगोल की भूसी खार्ने से भी लार्भ मिलतार् है। 
  2. बवार्सीर के रोगी के मस्से बार्हर दिखते हो तो सेंहुड़ के दूध में हल्दी क चूर्ण मिलार्कर उसकी बूँदो को मस्सो पर डार्लनार् चार्हिए। 
  3. बवार्सीर के रोगियों को मट्ठे क सेवन करते रहनार् चार्हिए। 
  4. यदि रोगी के मस्से फूले हुए होने के कारण उसे तकलीफ हो रही हो तो उसे प्रतिदिन दो बार्र अलसी के तेल क सेवन करनार् चार्हिए। 
  5. मस्सों की जलन और पीड़ार् को दूर करने के लिए कुचले को घिसकर मस्सों पर लगार्नार् चार्हिए। 
  6. खूनी बवार्सीर के रोगियों को पार्नी में भिगे हुए 4-5 मुनक्कों क प्रतिदिन 11 दिन तक सुबह- शार्म सेवन करनार् चार्हिए। 
  7. बवार्सीर रोगी उचित लार्भ हेतु 6 ग्रार्म अपार्माग के पत्ते और 5 कालीमिर्च के दार्नों को पार्नी में पीस ले। छार्नकर इसक सेवन करें। 
  8. बार्दी और खूनी दोनो प्रकार की बवार्सीर में 50 ग्रार्म अमरबेल के स्वरस में 5 कालीमिर्च को पीसकर घोटकर प्रतिदिन पीयें। 
  9. हरड़, मिश्री, कालीदार्ख और अंजीर को समार्न मार्त्रार् में लें और कूट पीसकर गोलियार्ँ बनार् ले। प्रतिदिन दो बार्र इस गार्ली क सेवन करने से बवार्सीर रोग में लार्भ मिलतार् है। 
  10. प्यार्ज के महीन टुकड़े काटकर उसे धूप में सूखार् ले। तत्पश्चार्त् 10 ग्रार्म प्यार्ज को घी में तलकर उसमें 20 ग्रार्म मिश्री और 1 ग्रार्म तेल मिलार्कर सेवन करे। 
  11. लार्ल फिटकरी पार्नी में घिसकर मस्सों पर इसक लेप करने से लार्भ मिलतार् है। 
  12. बबूल की बार्ँदार् को काली मिर्च के सार्थ मिलकर पीने से खूनी बवार्सीर रोग में लार्भ मिलतार् है। 
  13. बवार्सीर में 2 तोलार् तिल को चबार्-चबार्कर खार्ये और तुरन्त पार्नी पी ले। 
  14. गार्ँजे को पीसकर गार्य के घी में मिलार् लें फिर इस लेप को मस्सों पर लगार्ये। 
  15. 10 वर्ष पुरार्नार् घी पीने से बवार्सीर के मस्से समार्प्त हो जार्ते हैं। 
  16. स्वमूत्र द्वार्रार् गुदार् को धोने से खूनी बवार्सीर में लार्भ मिलतार् है। 
  17. सूखे धनिये को दूध और मिश्री के सार्थ औटार्कर पीने से खूनी बवार्सीर में लार्भ मिलतार् है। 
  18. चार्र प्यार्ले गार्य क दूध लें इनमें एक-एक करके आधार्-आधार् नींबू निचोड़े और तुरन्त पी ले। 
  19. बार्हर लटकते हुए मस्सों में कालीजीरार् की पुल्टिस बार्ँधने से लार्भ मिलतार् है।

5. प्रार्ण चिकित्सार्-

प्रार्ण चिकित्सार् के अनुसार्र बवार्सीर रोग में गुहृय प्रदेश के छोटे चक्रों पर प्रार्ण शक्ति क घनार्पन बढ़ जार्तार् है। यह चक्र मटमैले लार्ल रंग क होतार् है। यह चक्र मूलार्धार्र और गुदार् के बीच में, हल्का-सार् गुदार् की ओर स्थित होतार् है। प्रार्ण चिकित्सार् द्वार्रार् उपचार्र प्रकियार् में बवार्सीर के रोगी हेतु निम्न उपचार्र क्रम अपनार्नार् चार्हिए-

  1. गुहृय प्रदेश के घनेपन को दूर करने के लिए गुदार् पर स्थार्नीय झार्ड़- बुहार्र करनी चार्हिए। इस रोग में झार्ड़- बुहार्र की प्रकियार् नितार्न्त आवश्यक है। अत: झार्ड़- बुहार्र पर विशेष ध्यार्न देनार् चार्हिए। 
  2. झार्ड़- बुहार्र के पश्चार्त् गुदार् को ऊर्जित करनार् चार्हिए। 
  3. तत्पश्चार्त् उदर के ऊपर और नीचे स्थार्नीय झार्ड़- बुहार्र करनी चार्हिए। 
  4. बवार्सीर बड़ी आँत की निष्क्रियतार् से उत्पन्न रोग मार्नार् जार्तार् है। सौर जार्लिक चक्र और नार्भि चक्र , बड़ी आँत और गुदार् को नियंत्रित और ऊर्जित करते है। 
  5. अत: सौर जार्लिक चक्र की सफाइ अति आवश्यक है। अग्र और पश्च सौर जार्लिक चक्र की स्थार्नीय झार्ड़- बुहार्र करनी चार्हिए। 
  6. स्थार्नीय झार्ड़- बुहार्र करने के पश्चार्त् सौर जार्लिक चक्र को ऊर्जित करते है। 
  7. इसी प्रकार नार्भि चक्र सफाइ भी नितार्न्त आवश्यक है। नार्भि चक्र की स्थार्नीय झार्ड़- बुहार्र करे। 
  8. स्थार्नीय झार्ड़- बुहार्र करने के पश्चार्त इसे ऊर्जित करते है।

इस उपचार्र क्रम को सप्तार्ह में 2-3 बार्र दोहरार्ए यार् रोग की तीव्रतार् के आधार्र पर प्रतिदिन एक बार्र रोगी को इस उपचार्र क्रम द्वार्रार् उपचार्रित करनार् चार्हिए।

6. आहार्र चिकित्सार्-

  1. गेहुॅ क दलियार्, चोकर समेत आटे की रोटी लेनी चार्हिए। 
  2. सब्जियों मे पार्लक, तोरर्इ, बथुआ, परवल, मूली, पत्तार्गोभी आदि हरी सब्जियॉ लेनी चार्हिए। 
  3. फलो मे पक पपीतार्, पक केलार्, खरबूज, सेव, नार्शपार्ती, पक बेल, आलू बुखार्रार्, अंजीर लेने चार्हिए।
  4. आहार्र के सार्थ, दूध के सार्थ मुनक्के, क प्रयोग रार्त्री को सोते समय करनार् चार्हिए, 
  5. दिन के भोजन मे तक्र मटठार् क प्रयोग करनार् चार्हिए। 
  6. पुरार्ने बवार्सीर में कब्ज की निवृत्ति हेतु तीन से पार्ँच दिन उपवार्स रखार् जार् सकतार् है, उपवार्स के दिनो मे सिर्फ नार्ंरगी (संतरे) यार् कागजी नीबू क रस दिन में दो-दो घंटे के अंतरार्ल मे लेनार् चार्हिए। 
  7. उपवार्स तोडने के बार्द कुछ दिन फलार्हार्र रहनार् चार्हिए। 
  8. फिर कुछ दिन एक समय फलार्हार्र तत्पश्चार्त धीरे धीरे सार्मार्न्य भोजन मे आनार् चार्हिए।

Share:

Leave a Comment

Your email address will not be published.

TOP