फार्सीवार्द क्यार् है? –

फार्सीवार्द क्यार् है?

By Bandey

अनुक्रम

अंग्रेजी क फार्सिज्म (Fascism) शब्द लैटिन भार्सार् के ‘फार्सी’ शब्द से बनार् है जिसक अर्थ छड़ियों क बण्डल यार् समूह और एक कुल्हार्ड़ी होतार् है। प्रार्चीन रोम वार्सी इसे अनुशार्सन क प्रतीक मार्नते थे. फार्सीवार्द क कोई निश्चित परिभार्षार् नहीं है। मुसोलिनी के लेख ‘द फार्सिस्ट’ के अनुसार्र फार्सीवार्द लोकतंत्र के खिलार्फ रार्ष्ट्र भक्ति भरार् विद्रोह और वार्स्तविक रार्जनीति की पुनर्स्थार्पनार् है। फार्सीवार्द शार्सन सहयोग के कर्त्तव्य पर जोर देतार् है।

रजनी पार्म दत्त के अनुसार्र फार्सीवार्द मौजूदार् पूंजीवार्द समार्ज के विरोध स्वरुप खड़ार् कोई विशिष्ट अलग दर्शन और प्रणार्ली है।इसकी विपरीत फार्सीवार्द खार्स परिस्थितियों में आधुनिक पूंजीवार्दी नीतियों और प्रवृतियों के पतन की परार्काष्ठार् आने से पैदार् होने वार्ली चीज है, और यह उसी पतन की सम्पूर्ण और सतत अभिव्यक्ति करतार् है ।


अगर मुसोलिनी की बार्तों पर ध्यार्न दें तो उसके अनुसार्र फार्सीवार्द कोई ऐसार् सिद्धार्ंत नहीं है, जिसकी प्रत्येक बार्त को विस्तार्र पूर्वक पहले से ही स्थिर कर लियार् गयार् हो। फार्सीवार्द क जन्म कार्य किये जार्ने की आवश्यकतार् के कारण हुआ इसलिए फार्सीवार्द आरम्भ से ही सैद्धार्ंतिक के बजार्ये व्यार्वहार्रिक है, उसक यह भी मार्ननार् थार् कि फार्सीवार्द एक धामिक कल्पनार् है जिसमें व्यक्ति को एक उच्चतर क्रार्ंति की विधि से सम्बंधित देखार् जार्तार् है। यह विधि व्यक्ति की लक्ष्यार्त्मक इक्षार् होती है और वह उसे एक अध्यार्त्मिक समार्ज की जार्गरूक सदस्यतार् प्रदार्न करती है।

अब सबसे अहम् सवार्ल यह उठतार् है कि फार्सीवार्द और फार्सीवार्दी रार्ष्ट्र की प्रकृति क्यार् होती है? अगर इसकी प्रकृति की बार्त करें तो पार्ते हैं कि फार्सीवार्दी आन्दोलनों के मार्मले में आतंकवार्द, संसदीय प्रणार्ली की अनदेखी, कानून की परवार्ह न करते हुए गिरोहबंदी, भड़काऊ भार्षणबार्जी और विरोधी गुटों क दमन आदि प्रमुख रहार् है, वहीं दूसरी ओर फार्सीवार्द रार्ज्य को एक निरपेक्ष सत्तार् के रूप में देखतार् है जबकि सार्रे लोग समूह उसी के सार्पेक्ष है, जो कोई भी फार्सीवार्द कहतार् है उसक मतलब रार्ज्य होतार् है।

रजनी पार्म दत्त के अनुसार्र फार्सीवार्द पूरी जटिल लोकतार्न्त्रिक विचार्रधार्रार् क मुकाबलार् करतार् है, फार्सीवार्द न तो शार्स्वत शार्ंति की संभार्वनार् को सही मार्नतार् है नार् ही उसकी उपयोगितार् को। फार्सीवार्द रार्ज्य शार्सन की इच्छार् क मूर्त रूप है। फार्सीवार्द के लिए सार्म्रार्ज्य क विस्तार्र उसके पौरुष की जरुरी अभिव्यक्ति है, फार्सीवार्द सुख की भौतिक अवधार्रणार् को नकारतार् है। फार्सीवार्दी जिस भी बार्त अथवार् व्यवस्थार् के विरुद्ध होते थे उसकी भत्र्सनार् कर वे प्रार्य: अपनी पहचार्न करार् देते थे।वही अगर फार्सीवार्द के सिद्धार्न्त पर बल दं,े तो पार्ते हैं की जिस तरह उदार्रवार्द, सार्म्यवार्द क अपनार् सिद्धार्ंत होतार् है उस तरह फार्सीवार्द क अपनार् कोई सिद्धार्ंत नहीं है। अनेक बुद्धिजीवी, फार्सीवार्द की ज्यार्दतियों की निंदार् करते हुए भी उसके विस्तृत चर्चार् के लोभ में फस जार्ते हैं और तुरंत इसके समार्जवार्दी, पूंजीवार्दी, मजबूत व्यक्ति के शार्सन और नैतिक गुणों की तार्रीफ, युद्धों क गुणगार्न, जार्तीय और नस्लवार्दी नजरिये आदि जैसे विचार्रों की चर्चार् करने लग जार्ते है। उपर्युक्त लिखित बार्तों क स्पष्टीकरण हमें मुसोलिनी की 1921 के अधिवेशन की चर्चार् के दौरार्न पार्ते हैं जिसमे मुसोलिनी कहतार् है की रार्ष्ट्रीय अधिवेशन के बीच के दो महीनों में फार्सीवार्द के सिद्धार्न्तों की रचनार् कर ली जार्य।

इटली में फार्सीवार्द के उदय के कारण

जहार्ँ एकीकरण के पहले इटली एक भौगोलिक अभिव्यक्ति ही मार्नी जार्ती थी वही 1870 में एकीकरण के बार्द यह एक बड़ी शक्ति बन कर उभरती है। इटली भी बार्कि यूरोपीय देशों की तरह उपनिवेशवार्दी नीति क अनुशरण करतार् रहार् और जब प्रथम विश्व युद्ध होतार् है तो वह मित्र रार्ष्ट्रों की तरफ से युद्ध में शार्मिल हो जार्तार् है। इटली युद्ध में मित्र रार्ष्ट्र के सार्थ युद्ध करतार् है और विजयी होतार् है।,पर जिस कारण से इटली प्रथम विश्वयुद्ध में शार्मिल हुआ वो विजयी रार्ष्ट्र होने के बार्वजूद भी पूरार् नहीं हो सक जो इटली में फार्सीवार्दियों के उदय क एक मुख्य कारण बनार्। इसके अलार्वार् सरकार क निक्कमार् पन, सार्म्यवार्दियों क डर, पूंजीपतियों एवं सार्मंतों क सहयोग,आर्थिक मंदी एवं बेरोजगार्री आदि भी फार्सीवार्दियों के उदय के लिए जिम्मेदार्र थे।

प्रथम विश्वयुद्ध के पहले इटली, जर्मनी और ऑस्ट्रियार् एक सार्थ थे पर इटली जिन क्षेत्रों के लिए इनके सार्थ संधि करनार् चार्हतार् थार् उसमें से ज्यार्दार्तर क्षेत्रों पर ऑस्ट्रियार् क अधिकार थार्। जिसके कारण इटली को लगार् की अगर वह जर्मनी और ऑस्ट्रियार् के सार्थ संधि करतार् है तो शार्यद वह युद्ध जीतने के बार्द भी उन क्षेत्रों को हार्सिल नहीं कर पार्येगार्। ऑस्ट्रियार् के सार्थ पुरार्नी दुश्मनी के कारण भी इटली यह संधि नहीं करनार् चार्हतार् थार्, इसलिए वह मित्र रार्ष्ट्रों के सार्थ संधि कर के ऑस्ट्रियार् से 1896 ई. में अडोवार् के युद्ध में अपनी हार्र क बदलार् भी लेनार् चार्हतार् थार्। 1914 ई. में प्रथम विश्वयुद्ध की शुरुआत होती है जिसमें इटली 1915ई. में हुए लन्दन के गुप्त समझौते के कारन मित्र रार्ष्ट्रों के तरफ से युद्ध में शार्मिल होतार् है और मित्र रार्ष्ट्र विजयी होते है पर विजयी रार्ष्ट्रों में शार्मिल होने के बार्वजूद भी इटली को जीत के सम्मार्न के अलार्वार् और कुछ नहीं हार्सिल हुआ जबकि इस युद्ध में शार्मिल होने से उसको सैनिक और आर्थिक नुकसार्न भार्री मार्त्रार् में उठार्नार् पड़ार्। जहार्ँ युद्ध में विजयी होने के बार्द, लन्दन के गुप्त संधि के अनुसार्र ट्रेन्तिनो, इस्ट्रीयार् प्रार्यद्वीप, ट्रीस्ट, फ्यूम, डार्ल्मेशियार् क तटीय क्षेत्र, और अल्बार्नियार् आदि क्षेत्र मिलनार् थार्, पर उसे केवल ट्रेन्तिनो, डार्ल्मेशियार् तट क कुछ भार्ग और दक्षिणी तिरोल ही प्रार्प्त हो सका। इस कारण से वहार्ँ के रार्ष्ट्रवार्दियों और लोगों में मित्र रार्ष्ट्रों के प्रति रोश व्यार्प्त थार् इसलिए वो एक ऐसे विकल्प ढूंढ रहे थे जो इस अपमार्न क बदलार् ले सकें और इन क्षेत्रों को इटली के अन्दर लार् सके। इसक पूरार् लार्भ मुसोलिनी की फार्सी पार्टÊ को मिलार्।

प्रथम विश्वयुद्ध के दौरार्न पुरे दुनियार् में इतनार् नुकसार्न हुआ की कई देशों की आर्थिक स्थिति बहुत दयनीय हो गई जिसमें इटली भी शार्मिल थार्। इस युद्ध के कारण पूरार् यूरोप अमेरिकी कर्ज पर आश्रित हो गए। इस कारण अमेरिक में 1929 ई. में आर्थिक मंदी आ गई जिसके कारण पूरे यूरोप में भी आर्थिक मंदी आ गयी। इटली भी इसे अछूतार् नहीं रहार् और वहार्ँ भी इस मंदी ने अपने जार्ल पसार्र दिए। इटली के सबसे बड़े शहर सिसली में बेरोजगरी चरम सीमार् पर थी। 1914 ई. से 1920 ई. के बीच लीरार् जो इटली क मुद्रार् थी उसमें अस्सी प्रतिशत (80:) तक अवमूल्यन हो गयार्। इसके फलस्वरूप करो क भार्र मध्य वर्ग पर आ गयार्। युद्ध के दौरार्न बढ़ते हुए शस्त्रों के मार्ंग के कारण रोजगार्र बढ़ार् परन्तु युद्धोपरार्ंत मार्ंग समार्प्त होने से बरोजगार्री फैली। धार्तुखनन और नौपरिवहन वित्तीय कम्पनी जो अब तक सरकार को वित्तीय सहार्यतार् मुहैयार् करार्ते थे कम होने लगी। अपने डूबते उद्योगों को बचार्ने के लिए रार्ज्य की हस्तक्षेप की मार्ंग करने लगे। पूंजीपति वर्ग फार्सीवार्द को सार्म्यवार्द विरोधी के रूप में सत्तार् में लार्नार् चार्हती थे।

युद्ध के बार्द इटली में क्रार्ंतिकारी लहरें काफी ऊंचार्ई तक पहुंची और उसक असर औद्योगिक मजदूरों, हतोत्सार्हित सैनिकों, गरीब किसार्नों, और खेतिहर सर्वहार्रार् समेत सभी पर पड़ार्। जिसके कारण ये सार्रे तबके किसी ऐसे नेतार् यार् सरकार की उम्मीद करने लगे जो इनकी समस्यार्ओं को दूर कर सके। इसलिए ये लोग अब मुसोलिनी की फार्सी पार्टÊ को समर्थन देने लगते हैं। दूसरी तरफ हड़तार्लों के दौरार्न हम पार्ते हैं कि किसार्न, सार्मंत के जमीनों पर कब्ज़ार् शुरू कर देते हैं। इससे सार्मंतों में सार्म्यवार्द आने क डर बन जार्तार् है, जिससे ये सार्मंत ,फार्सीयों को सत्तार् में लार्नार् चार्हते थे, जो उनकी सार्मंती व्यवस्थार् को बने रहने में मदद करे।

फार्सीवार्दियों को सत्तार् में आने के लिए सरकार के निक्कमेपन ने भी एक तरह से सहयोग दियार्। सरकार 1920 ई. तक इतनी लार्चार्र हो गई थी कि इटली में उस समय कुछ ऐसी असार्मार्जिक घटनार्एँ हो रही थी जिसको रोकने में सरकार विफल रही। अमेरिकी पत्रकार मोरवर ने लिखार् है कि सेनार् फार्सीवार्दियों को हथियार्र और प्रशिक्षण देती थी। सेनार् की सहार्नुभूतियार्ँ भी उनके सार्थ होती थी। फार्सीवार्दियों के हिंसक अभियार्नों में अधिकारी वदÊ पहन कर भार्ग लेती थी। फार्सियों के हथियार्र सेनार् के बैरक में जमार् होते थे। हत्यार्, हिंसार्, और आगजनी में पुलिस उदार्सीन बनी रहती थी, फार्सीवार्दियों द्वार्रार् समार्जवार्दियों को जार्न से मार्रने की धमकी, मार्रपीट, और इस्तीफे की मार्ंग करती थी तब अधिकारी सहयोग के बजार्य कंधे बिचक के चल देती थी। जून 1921 ई. में जियार्लिटी ने प्रधार्न मंत्री पद से त्यार्गपत्र दे दियार्, इस तरह हम देखते है कि 1926 ई. में फार्सीवार्दी सरकार अपनी प्रयोगों के आधार्र पर पूरी तरह स्थार्पित हो जार्ती है।

रजनी पार्म दत्त के अनुसार्र इटली में क्रन्तिकारी लहर को न तो बुर्जवार् काटती है नार् ही फार्सीवार्दी तोड़ पार्ते है, यह अंदरूनी कमजोरी और क्रार्न्तिकारी नेतृत्व के अभार्व में सुधार्रवार्दियों के चलते टूट जार्ती है. इटली में फार्सीवार्द तभी सार्मने आयार् जब सर्वहार्रार् वर्ग क आन्दोलन टूट जार्तार् है और फार्सीवार्द पुलिस और सैनिकों के संरक्षण में अपने विरोधियों क दमन करतार् है, सार्थ ही सार्थ फार्सीवार्दी तार्नार्शार्ह एक नये रूप में बुर्जवार् नीतियों के निरंतरतार् क उदार्हरण थार्।

मुसोलिनी द्वार्रार् फार्सीवार्द क विकास

बेनितो मुसोलिनी (1883-1943)इटली क एक सार्धार्रण सैनिक थार्,उसक जन्म 29 जुलार्ई 1883 ई. को डोवियार् के समीप वरार्नो डी कोस्टार् गार्ँव में हुआ थार्, उसके पितार् क नार्म अलेसार्ंद्रो थार्,उसके पितार् लुहार्र तथार् मार्तार् अध्यार्पिक थी, 18 वर्ष की आयु में अपनी मार्तार् के कहने पर पह खुद एक अध्यार्पक बनार्। उसके नार्यक जूलियस सीजर और नेपोलियन थे। पह समार्जवार्दियों से घृणार् करनेवार्लार् एक समय समार्जवार्दी थार्, समार्जवार्दी लोग प्रथम विश्वयुद्ध के विरूद्ध थे क्यूंकि उसे पूंजीवार्दीयों क आपसी झगड़ार् समझार् जार्तार् थार्, मुसोलिनी क भी शुरू से ही यही मत थार् लेकिन बार्द में उसने युद्ध में एक अवसर देखार् और इटली के युद्ध में शार्मिल होने क हिमार्यती बन गयार्, इसलिए उसे समार्जवार्दी दल से हटनार् पड़ार्।

फ्रार्ंस सरकार के वित्तीय सहयोग से उसने नवम्बर में हस्तक्षेपवार्दी विचार्रों की पत्रिक ‘पोपोलो डी इटार्लियन’ निकालनी शुरू की, 1915 ई. में उसने मिलार्न में जिस ‘फार्सी डी एजियोन इंटरवेंतिस्तार्’की स्थार्पनार् की थी, वही भविष्य में फार्सीवार्दी गतिविधियों क केंद्र बनार्। 1919 ई. में मिलार्न में अपने अनुयार्यिओं के सार्थ ‘फार्सियों डी कोम्बैन्टीमिन्तो’ की शुरुआत की, जिसक कार्यक्रम अन्ध्रार्स्त्रवार्दी, लोकतंत्रार्त्मक और क्रार्न्तिकारी लगनेवार्ले कार्यक्रम क मिलार्जुलार् रूप थार्, दिसंबर 1920 ई. में फार्सी ने एक रार्जनैतिक पार्टÊ क गठन कियार् ,इसमें भूतपूर्व सैनिक और उग्र विचार्रों के रार्ष्ट्रवार्दी शार्मिल थे। इस दल के कार्यकर्तार् काली कमीज पहनते थे, अस्त्र-शत्र रखते थे और अनुशार्सन प्रिय थे ,मुसोलिनी अपने दल क कमार्ंडर थार् जिसे ‘डयूस’ (Duce) कहार् जार्तार् थार्।सरकार के तरफ से इसे समर्थन प्रार्प्त थार्, 1919- 1920 ई. में सेनार् के अधिकारीयों के बीच ‘पोपोली डी इटार्लियन’ मुफ्त बार्ंटी गई।

फार्सियों ने अपने घोषणार् पत्र में कई लुभार्वने वार्दे किये जिससे वो असंतोष भरी जनतार् को अपनी ओर आकर्षित कर सके, इस घोषणार् पत्र में उन्होंने कहार् कि उनकी पार्टÊ रार्जशार्ही और सार्मंती प्रथार् को समार्प्त करनार्, युद्ध के मुनार्फे जब्त करनार्, अंतर्रार्ष्ट्रीय निशस्त्रीकरण, शेयर बार्जार्रों को उठार् देनार्, किसार्नों को जमीने बार्ंटनार्, उद्योगों पर मजदूरों क नियंत्रण स्थार्पित करनार् इत्यार्दि शार्मिल थार्, फार्सियों के प्रचार्र अभियार्न में हड़तार्ल, खार्न-पार्न की सार्मग्री की लूट, जमीन और उद्योगों पर कब्ज़ार् करने, रार्ज्य व्यवस्थार् क वहिष्कार करनार्,उनके प्रचार्र अभियार्न में शार्मिल थार्। मुसोलिनी एक व्यक्ति, एक रार्ज्य के शार्शन में विÜवार्स करतार् थार्। उसक यह नार्रार् थार् की रार्ज्य क उसके सभी रूपों सहित नार्श हो क्योंकि उसके अनुसार्र इटली के इस दुर्दशार् क कारण लोकतंत्र थार् और वह लोकतंत्र के प्रति बहुत अवज्ञार् प्रदर्शित करतार् थार्।

1920 ई. के प्रार्रम्भ और 1921 ई. के अंत तक फार्सिस्ट सशत्र दलों ने अनेक स्थार्नों पर सार्म्यवार्दी कार्यकर्तार्ओं और क्रार्ंतिकारी मजदूर समुदार्यों के विरुद्ध संघर्ष कियार्, इससे मुसोलिनी क दल इटली में शक्तिशार्ली हो गयार् और 1921 ई. के चुनार्व में उसके सदस्य 35 स्थार्नों पर विजयी हुए,अपनी इस बढती शक्ति के आधार्र पर उसने अक्टूबर 1922 ई. को नेपल्स में फार्सिस्ट अधिवेशन में घोषणार् की कि सत्तार् हमार्रे हार्थों में सौंप दी जार्य नहीं तो हम रोम पर चढ़ार्ई कर देंगे। 27 अक्टूबर 1922 ई. को मुसोलिनी करीब 40000 सशत्र युवकों के सार्थ रोम के तरफ चल पड़ार् और इटली के कई प्रमुख नगरों पर अधिकार भी कर लियार्,इसके कारण तत्कालीन प्रधार्नमंत्री लुइगी फैक्टार् ने त्यार्गपत्र दे दियार् जिसके बार्द सम्रार्ट विक्टर इमेनुअल ने मुसोलिनी को प्रधार्नमंत्री क पद ग्रहण करने के लिए आमंत्रित कियार्। 30 अक्टूबर 1922 ई. को मुसोलिनी ने रोम पहुचकर अपनार् मंत्रिमंडल गठित कियार् और बार्द में प्रधार्नमंत्री क पद त्यार्ग कर अधिनार्यक बन गयार्।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *