प्रेस एवं पुस्तक रजिस्ट्रीकरण अधिनियम 1867 क्यार् है ?

समार्चार्र पत्रों, पत्रिकाओं, पुस्तक आदि के प्रकाशन में प्रेस यार्नि प्रिटिंग मशीन की प्रमुख भूमिक है। इसके सार्थ ही समार्चार्र पत्र आदि के प्रकाशन में संपार्दक, प्रकाशक व मुद्रक की महत्वपूर्ण भूमिक है। यदि किसी पत्र पत्रिक में कोर्इ अवार्ंछित सार्मग्री प्रकाशित हो जार्ती है तो ऐसे में प्रेस एवं पुस्तक रजिस्ट्रीकरण अधिनियम 1867 के तहत सम्बन्धित पत्र-पत्रिक के विरूद्ध कार्यवार्ही की जार् सकती है प्रकाशित सार्मग्री के प्रकाशन की जिम्मेदार्री किसकी है और वह जिम्मेदार्र व्यक्ति कौन हो यह तय करने के लिए किसी भी पुस्तक, पत्र-पत्रिक आदि में उसमें प्रकाशित सार्मग्री के लिये जिम्मेदार्र व्यक्तियों के नार्म क उल्लेख कियार् जार्तार् है। प्रेस एवं पुस्तक रजिस्ट्रीकरण अधिनियम 1867 ऐसे मार्मलों में कानून की सहार्यतार् करतार् है। प्रेस एवं पुस्तक रजिस्ट्रीकरण अधिनियम यह सुनिश्चित करतार् है कि हर पत्र पत्रिक में मुद्रक, प्रकाशक, संपार्दक क नार्म व प्रकाशन स्थल की जार्नकारी दी जार्य। इसी अधिनियम में भार्रत में समार्चार्र पत्रों के पंजीयक (Registrar of Newspapers in India) के अधिकार व भूमिक व समार्चार्र पत्र, पुस्तक, संपार्दक, मुद्रक, प्रकाशक आदि को परिभार्षित भी कियार् गयार् है। इनमें कानून क उल्लंघन किये जार्ने पर दी जार्ने वार्ली सजार् क भी वर्णन कियार् गयार् है।

अधिनियम के तहत प्रत्येक पुस्तक तथार् समार्चार्र पत्र में मुद्रक क नार्म व मुद्रण स्थल, प्रकाशक क नार्म व प्रकाशन स्थल क नार्म छार्पार् जार्नार् अनिवाय है जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि पत्र-पत्रिक यार् पुस्तक के मुद्रण व प्रकाशन क जिम्मेदार्र कौन व्यक्ति है। इसी प्रकार संपार्दक क नार्म छार्पार् जार्नार् भी अनिवाय है। समार्चार्र पत्र में प्रकाशित सार्मग्री के आपत्तिजनक पार्ए जार्ने पर फौजदार्री कानून की धार्रार् 124 (अ) के अन्तर्गत रार्जद्रोह (Treason), धार्रार् 292 के अन्तर्गत अश्लील सार्मग्री प्रकाशित करने तथार् धार्रार् 499 व 500 के अन्तर्गत संपार्दक पर मार्नहार्नि की कार्रवाइ की जार् सकती है।

इस अधिनियम के तहत यह व्यवस्थार् की गर्इ है कि देश भर में किसी भी भार्षार् में एक ही नार्म के दो समार्चार्र पत्र नहीं हो सकते तथार् किसी रार्ज्य में एक नार्म के दो समार्चार्र पत्र नहीं हो सकते भले ही वे अलग-अलग भार्षार्ओं में ही क्यों न हो लेकिन अलग-अलग रार्ज्यों में व अलग भार्षार्ओं में एक ही नार्म क समार्चार्र पत्र हो सकतार् है।
इस अधिनियम के तहत प्रमुख प्रार्वधार्न निम्न हैं:

  1. प्रत्येक समार्चार्र पत्र में मुद्रक, प्रकाशक व संपार्दक क नार्म, मुद्रण व प्रकाशन स्थल के नार्म क उल्लेख होनार् चार्हिए। 
  2. मुद्रण के लिये जिलार्धिकारी की अनुमति आवश्यक है।
  3. समार्चार्र पत्र के मार्लिक व संपार्दक क नार्म प्रत्येक अंक में प्रकाशित होनार् चार्हिए।
  4. समार्चार्र पत्र के नार्म, प्रकाशन की भार्षार्, अवधि, संपार्दक, प्रकाशक आदि के नार्म में परिवर्तन होने पर उसकी सूचनार् सम्बन्धित अधिकारियों को दी जार्नी आवश्यक है।
  5. एक वर्ष तक समार्चार्र पत्र क प्रकाशन न हो पार्ने की दशार् में जार्नकारी सम्बन्धी घोषणार् पत्र रद्द हो जार्एगार्। 
  6. प्रत्येक प्रकाशित समार्चार्र पत्र की एक प्रति रजिस्ट्रार्र आफ न्यूज पेपर्स इन इंडियार् को तथार् दो प्रतियार्ँ सम्बन्धित रार्ज्य सरकार को निशुल्क उपलब्ध कराइ जार्नी चार्हिए। 
  7. रजिस्ट्रार्र आफ न्यूज पेपर्स इन इंडियार् को वर्ष में एक बार्र समार्चार्र पत्र क पूरार् विवरण प्रेषित कियार् जार्य व इसे पत्र में भी प्रकाशित कियार् जार्य।

इसके अतिरिक्त अनेक अन्य प्रार्वधार्न भी इस अधिनियम में किये गए हैं जिनसे समार्चार्र पत्रों व पुस्तकों सम्बन्धी जार्नकारी क रिकार्ड रखार् जार् सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *