प्रधार्नमंत्री के कार्य एवं शक्तियार्ँ

भार्रत क प्रधार्नमंत्री मंत्रि-मण्डल रूपी मेहरार्ब की आधार्रशिलार् (Key-stone of the Cabinet Arch) हैं। इंग्लैण्ड के प्रधार्नमंत्री की भार्ंति उसको इतनी व्यार्पक शक्तियार्ँ प्रार्प्त हैं कि उसको देश में शार्सन प्रबन्ध क केन्द्र कहार् जार् सकतार् है।

प्रधार्नमंत्री के कार्य एवं शक्तियार्ँ

देश के शार्सन में कोई भी ऐसार् व्यक्ति नहीं, जिसकों इतनी शक्तियार्ँ प्रार्प्त हो। इसके कार्य तथार् शक्तियार्ँ हैं-

मंत्रि-परिषद् क निर्मार्ण

मंत्रि-परिषद् के निर्मार्ण में प्रधार्नमंत्री को केन्द्रीय स्थिति प्रार्प्त है। संवैधार्निक दृष्टि से भी रार्ष्ट्रपति अन्य मन्त्रियों की नियुक्ति प्रधार्नमंत्री की सिपफार्रिश पर करतार् है। अपनी नियुक्ति के पश्चार्त् प्रधार्नमंत्री क पहलार् कार्य यह होतार् है कि वह अपने सार्थी मन्त्रियों को चुने। वह मन्त्रियों के नार्मों की सूची तैयार्र करतार् है तथार् नियुक्ति करने के लिए रार्ष्ट्रपति के पार्स भेजतार् है। मंत्रि-परिषद् के निर्मार्ण में प्रधार्नमंत्री को पर्यार्प्त स्वतंत्रतार् प्रार्प्त होती है। वही ही इस बार्त क निर्णय करतार् है कि मंत्रि-परिषद् में कितने सदस्य होंगे, उनमें विभिन्न प्रकार के मिन्न्त्रयों की संख्यार् क्यार् होगार् तथार् कौन-कौन से व्यक्ति मंत्रि-परिषद् में लिये जार्एँगे। इस बार्रे में रार्ष्ट्रपति अपनी रुचि व अरुचि के अनुसार्र प्रधार्नमंत्री को किसी व्यक्ति को मंत्रि-परिषद् में शार्मिल करने यार् न करने के लिए बार्ध्य नहीं कर सकतार्। उसक अपनार् दल भी इस बार्रे में उसे निर्देश देने की कोशिश नहीं करतार् है। प्रधार्नमंत्री क निर्णय अन्तिम निर्णय होतार् है। परन्तु व्यवहार्र में मन्त्रिमण्डल क निर्मार्ण करते समय प्रधार्नमंत्री को कई बार्तें ध्यार्न में रखनी पड़ती है। उसे अपने दल के सभी प्रमुख व प्रभार्वशार्ली सदस्यों को मंत्रि-परिषद् में शार्मिल करनार् पड़तार् है। उसे यह भी देखनार् होतार् है कि मंत्रि-परिषद् में सभी रार्ज्यों, धर्मों, सम्प्रदार्यों आदि को उचित प्रतिनिधित्व प्रार्प्त हो। कई बार्र मंत्रि-परिषद् में योग्य और अनुभवी प्रशार्सक भी शार्मिल किए जार्ते हैं। वह नवयुवक वर्ग के सदस्यों को भी कुछ स्थार्न देतार् है। तार्कि उन्हें प्रशिक्षण देकर भविष्य में शार्सन को संभार्लने के योग्य बनार्यार् जार् सके।

विभार्गों क बंटवार्रार्

मंत्रियों की नियुक्ति के पश्चार्त् प्रधार्नमंत्री उनमें प्रशार्सकीय विभार्गों को बार्ँटतार् है। वह ही यह निर्णय करतार् है कि किस मन्त्री को किस विभार्ग क अध्यक्ष बनार्ये जार्ए, कौन-सार् मन्त्री केबिनेट मन्त्री हो, कौन-सार् रार्ज्य मन्त्री व कौन-सार् उपमन्त्री। वह यह देखतार् है कि कौन-सार् मन्त्री किस विभार्ग को कुशलतार्पूर्वक चलार् सकतार् है। विभार्गों क बँटवार्रार् करते समय वह अपने दल के वरिष्ठ सदस्यों को सन्तुष्ट करने क यत्न करतार् है, उनके रार्जनैतिक महत्व को ध्यार्न में रखतार् है व विभिन्न रार्ज्यों, प्रदेशों व सम्प्रदार्यों की ओर विशेष ध्यार्न देतार् है, परन्तु एक लोकप्रिय व शक्तिशार्ली प्रधार्नमंत्री अपनी इच्छार्नुसार्र मंत्रि-परिषद् की बनार्वट निश्चित करतार् है।

मंत्रियों को हटार्ने की शक्ति

सैद्वार्न्तिक रूप में मन्त्री रार्ष्ट्रपति के प्रसार्द-पर्यन्त पद पर बने रहते हैं परन्तु रार्ष्ट्रपति को पद से अलग करने क निर्णय प्रधार्नमंत्री के कहने पर ही होतार् है। अत: व्यवहार्र में मंत्री प्रधार्नमंत्री के प्रसार्द-पर्यन्त अपने पद पर रहते हैं। अन्यथार् प्रधार्नमंत्री रार्ष्ट्रपति को कहकर उसे पदच्युत करवार् सकतार् है। वार्स्तव में इस बार्त की नौबत नहीं आती।

लोक सभार् क नेतृत्व करतार् है

इंग्लैण्ड की भार्ँति भार्रत क प्रधनमंत्री लोक सभार् क नेतृत्व करतार् है। वह सदन में सरकार की नीति से संबंधित महत्त्वपूर्ण घोषणार्एँ करतार् है और प्रश्नों क उत्तर देतार् है। वह लोक सभार् में वार्द-विवार्द को आरंभ करतार् है तथार् मंत्रियों क सदन में आलोचनार् से सुरक्षार् करतार् है। वह अपने दल के सदस्यों को सचेतक द्वार्रार् आदेश तथार् निर्देश भेजतार् है तथार् उन पर निगरार्नी और नियन्त्रण रखतार् है। सदन के वैधार्निक कार्यों पर उसक विशेष प्रभार्व होतार् है। वह स्पीकर के सार्थ मिलकर सदन क कार्य करतार् है तथार् सदन में अनुशार्सन बनार्ए रखने के लिए स्पीकर की सहार्यतार् करतार् है।

रार्ष्ट्रपति तथार् मन्त्रिमण्डल में कड़ी क काम करतार् है

प्रधार्नमंत्री रार्ष्ट्रपति तथार् मन्त्रिमण्डल के मध्य कड़ी क काम करतार् है। वह रार्ष्ट्रपति को मन्त्रिमण्डल के द्वार्रार् किए निर्णय की सूचनार् देतार् है तथार् रार्ष्ट्रपति के विचार्र मन्त्रिमण्डल के समक्ष रखतार् है। रार्ष्ट्रपति उसे किसी एक मन्त्री द्वार्रार् व्यक्तिगत रूप में किए गये निर्णयों पर मन्त्रिमण्डल क निर्णय लेने के लिए कह सकतार् है। वह रार्ष्ट्रपति क मुख्य सलार्हकार होतार् है। यदि रार्ष्ट्रपति प्रधार्नमंत्री के परार्मर्श से सहमत न हो तो भी उसे परार्मर्श मार्ननार् पड़तार् है।

केबिनेट क नेतृत्व

प्रधार्नमंत्री केबिनेट क नेतार् होतार् है। वह केबिनेट की बैठकों की प्रधार्नतार् करतार् है। रार्ष्ट्रपति केबिनेट की कार्यवार्ही में भार्ग नहीं लेतार्। प्रधार्नमंत्री के नेतृत्व में केबिनेट सभी कार्य करती है। वही केबिनेट की बैठक बुलार्तार् है, उसमें विचार्र किए जार्ने वार्ले विषयों की सूची बनार्तार् है, केबिनेट में विभिन्न विषयों पर बहस को संचार्लित करतार् है तथार् अगर उचित समझे तो उन पर मतदार्न करवार्तार् है। अधिकतर किसी नीति पर सहमति तभी होती है जब उस नीति को प्रधार्नमंत्री की सहमति प्रार्प्त हो जार्ए। संक्षिप्त में हम कह सकते हैं कि केबिनेट की संपूर्ण कार्यवार्ही प्रधार्नमंत्री की देख-रेख में होती है।

विभिन्न विभार्गों में एक कड़ी

केबिनेट क प्रधार्न होने के नार्ते वह एक अन्य महत्त्वपूर्ण कार्य करतार् है। अत: विभिन्न विभार्गों में उत्पन्न होने वार्ली समस्यार्ओं, झगड़ों तथार् मतभेदों को इस तरह सुलझार्नार् जिससे प्रशार्सिक कुशलतार् बनी रही। कुशल प्रशार्सन के लिये ये आवश्यक है कि सरकार के विभिन्न विभार्गों में आपसी सहयोग तथार् सार्धनों क समन्वय हो। ऐसे उद्देश्य के लिए प्रधार्नमंत्री विभिन्न विभार्गों में कड़ी की तरह कार्य करतार् है। वह अन्तर विभार्गीय मतभेदों को दूर करने के लिए मध्यस्थ तथार् निर्णार्यक के रूप में कार्य करतार् है।

रार्ष्ट्रपति क मुख्य सलार्हकार

प्रधार्नमंत्री रार्ष्ट्रपति क मुख्य सलार्हकार है। रार्ष्ट्रपति प्रत्येक मार्मले पर प्रधार्नमंत्री की सलार्ह लेतार् है और उसके द्वार्रार् दी गई सलार्ह के अनुसार्र ही कार्य करतार् है, वह उसकी सलार्ह को मार्नने के लिए बार्ध्य है। रार्ष्ट्रपति को प्रशार्सन के बार्रे में किसी भी प्रकार की सूचनार् प्रार्प्त करनी हो, तो वह किसी अन्य मन्त्री से सीधार् बार्त न करके प्रधार्नमंत्री से ही बार्त करतार् है तथार्सूचनार् प्रार्प्त करतार् है।

रार्ष्ट्र क नेतार्

प्रधार्नमंत्री संसद में बहुमत प्रार्प्त रार्जनैतिक दल क नेतार् ही नहीं, रार्ष्ट्र क भी नेतार् है। वह अपनी उच्च पदवी के कारण रार्ष्ट्र क सबसे महत्त्वपूर्ण अधिकारी बन जार्तार् है। उसे वह गौरव प्रार्प्त होतार् है जो किसी अन्य मंत्री को प्रार्प्त नहीं होतार्। वह रार्ष्ट्र क एकमार्त्र प्रतिनिधि है। संकट के समय सार्रार् रार्ष्ट्र उसके नेतृत्व को स्वीकार करतार् है। संकटकालीन समस्यार्ओं क सार्मनार् करने के लिए विरोधी दल भी उसे अपनार् पूर्ण सहयोग देते हैं। दूसरे देश में प्रधार्नमंत्री क सम्मार्न एक रार्ष्ट्र के नेतार् के रूप में कियार् जार्तार् है।

दल क नेतार्

प्रधार्नमंत्री संसद में बहुमत प्रार्प्त रार्जनैतिक दल क नेतार् ही नहीं होतार्, वह अपने दल क सर्वोच्च नेतार् होतार् है। उसक समस्त दल उसके सहार्रे ही चलतार् है। आम चुनार्व वार्स्तव में प्रधार्नमंत्री क ही चुनार्व होतार् है। दल को भली-भार्ंति संगठित करने, दल की नीतियार्ँ निर्धार्रित करने व कार्यक्रम तैयार्र करने, चुनार्व संबंधी प्रचार्र करने में प्रधार्नमंत्री क प्रमुख हार्थ होतार् है। चुनार्व के समय जितने भार्षण देतार् है तथार् उनक लोगों पर जितनार् प्रभार्व पड़तार् है, वैसार् दल के किसी और नेतार् क नहीं होतार्। आम चुनार्व में उसके दल की विजय वार्स्तव में प्रधार्नमंत्री की ही विजय होती है।

सरकार की योग्यतार् के लिए उत्तरदार्यी

प्रधार्नमंत्री को सदार् यह ध्यार्न रखनार् पड़तार् है कि उसकी सरकार तथार् पाटी की देश में सार्ख बनी रहे। इस उत्तरदार्यित्व को निभार्ने के लिए वह अपने मन्त्रिमण्डल में मौके-मौके पर परिवर्तन भी कर सकतार् है। नवीन मन्त्रियों को नियुक्त कर सकतार् है तथार् यदि ऐसार् अनुभव करे कि किसी विशेष मन्त्री क मन्त्रिमण्डल में होने सरकार के हित में अथवार् भार्व में नहीं हैं तो वह ऐसे मन्त्री को पद से हटार् सकतार् है। लार्स्की के शब्दों में, फ्प्रधार्नमंत्री जैसे भी चार्हे अपनी मण्डली में परिवर्तन कर सकतार् है। (“He can shuffle his pack whenever he so likes”) डॉ. अम्बेडकर ने संविधार्न सभार् में कहार् थार्, प्रधार्नमंत्री केबिनेट रूपी मेहरार्ब क बीच वार्लार् स्तम्भ है, जब तक हम उसे वैधार्निक आधार्र पर मन्त्रिमण्डल के सदस्यों को नियुक्ति करने तथार् पद्च्युत करने क अधिकार नहीं देते, सार्मूहिक उत्तरदार्यित्व क सिद्वार्न्त लार्गू नहीं कियार् जार् सकतार्।

सरकार क मुखियार्

भार्रत में संसदीय सरकार है जिसमें रार्ष्ट्र क मुखियार् रार्ष्ट्रपति है तथार् सरकार क वार्स्तविक मुखियार् प्रधार्नमंत्री है। रार्ष्ट्रपति की कार्यपार्लिका, न्यार्यपार्लिका, आपार्तकालीन आदि समस्त शक्तियों क प्रयोग प्रधार्नमंत्री करतार् है तथार् रार्ष्ट्रपति केवल परार्मर्श अथवार् उत्सार्ह दे सकतार् है और अवसर पड़ने पर चेतार्वनी भी दे सकतार् है। (“The President like the British Crown can advise, encourage or warn.”) वह गृह तथार् विदेशी नीति क निर्मार्ण करतार् है। वह समस्त महार्न् नीतियों की मन्त्रिमण्डल की ओर से घोषणार् भी करतार् है। बजट भी उसकी देखरेख में तैयार्र होतार् है। संवैधार्निक रूप में उफँचे पदों पर नियुक्तियार्ँ करने तथार् उपार्धियार्ँ (Titles) देने क अधिकार रार्ष्ट्रपति को है, परन्तु प्रयोग में रार्ष्ट्रपति प्रधार्नमंत्री की सम्मति के बिनार् न कोई नियुक्ति करतार् है तथार् न ही कोई उपार्धि देतार् है। इन उच्च अधिकारों क प्रयोग प्रधार्नमंत्री द्वार्रार् ही कियार् जार्तार् है।

विदेशी नीति में सरकार क मुख्य प्रवक्तार्

प्रधार्नमंत्री विदेशी मार्मलों में विशेष रुचि रखतार् है तथार् उन पर नियंत्रण रखतार् है। विदेशी नीति के निर्मार्ण में उसक महत्त्वपूर्ण भार्ग होतार् है। वहीं विदेशी मार्मलों में संबंधी महत्त्वपूर्ण घोषणार्एं करतार् है। वैसे विदेशी मार्मलों क विभार्ग विदेश मन्त्री के अधीन होतार् है, परन्तु विदेश मन्त्री प्रधार्नमंत्री की सलार्ह के बिनार् कोई महत्त्वपूर्ण कार्य नहीं करतार्। विदेश मन्त्री उसक अत्यन्त विश्वार्स प्रार्प्त मन्त्री होतार् है। जितनार् गहरार् संबंध प्रधार्नमंत्री और विदेश मंत्री में होतार् है, उतनार् शार्यद ही प्रधार्नमंत्री और किसी अन्य मंत्री में हो।

लोक सभार् को भंग करवार्ने क अधिकार

रार्ष्ट्रपति लोक सभार् को प्रधार्नमंत्री की सलार्ह से ही भंग करतार् है। परन्तु यदि रार्ष्ट्रपति यह समझे कि लोक सभार् को भंग करनार् रार्ष्ट्र के हित में नहीं है तो वह प्रधार्नमंत्री की सलार्ह को मार्नने से इनकार कर सकतार् है। दिसम्बर 1970 में रार्ष्ट्रपति वी.वी. गिरी ने प्रधार्नमंत्री की सलार्ह पर लोक सभार् भंग की। 18 जून, 1977 को रार्ष्ट्रपति श्री फखरूद्दीन अली अहमद ने प्रधार्नमंत्री श्रीमती इन्दिरार् गार्ँधी की सलार्ह पर लोक सभार् भंग की। 22 अगस्त, 1979 को रार्ष्ट्रपति संजीवार् रेड्डी ने प्रधार्नमंत्री चौधरी चरण ¯सह की सलार्ह पर लोक सभार् को भंग कियार्, जिस पर जनतार् पाटी के द्वार्रार् रार्ष्ट्रपति के इस कार्य की कड़ी आलोचनार् की गई। जनतार् पाटी क कहनार् थार् कि रार्ष्ट्रपति के इस कार्य की कड़ी आलोचनार् की गई। जनतार् पाटी क कहनार् थार् कि रार्ष्ट्रपति को प्रधार्नमंत्री चौ. चरण ¯सह की सलार्ह मार्नने से इनकार करनार् चार्हिए थार् और जनतार् पाटी के नेतार् जगजीवन रार्म को सरकार बनार्ने क निमन्त्रण देनार् चार्हिए।

प्रधार्नमंत्री रार्ष्ट्रमंडल के देशों से अच्छे संबंध स्थार्पित करतार् है

भार्रत रार्ष्ट्रमंडल क सदस्य है, जिस कारण रार्ष्ट्रमंडल के देशों के सार्थ मैत्री पूर्ण संबंध स्थार्पित करनार् प्रधार्नमंत्री क कार्य है। प्रधार्नमंत्री रार्ष्ट्रमंडल की बैठकों में भार्ग लेतार् है। भूतपूर्व प्रधार्नमंत्री मोरार्र जी देसार्ई रार्ष्ट्रमंडल की बैठकों में भार्ग लेते थे। इन्होंने रार्ष्ट्रमंडल की बैठक जो इंग्लैण्ड में 8 जून, 1977 को हुई थी, में भार्ग लियार् थार्।

प्रधार्नमंत्री और सुरक्षार्

रार्ष्ट्र की सुरक्षार् क उत्तरदार्यित्व प्रधार्नमंत्री पर ही होतार् है। इस कारण उसक रक्षार् विभार्ग पर पूरार् नियन्त्रण होतार् है। रार्ष्ट्र की सुरक्षार् के लिए जो भी आवश्यक व्यवस्थार्एँ होती हैं, उनक वह पूरी तरह से ध्यार्न रखतार् है। रार्ष्ट्र की सुरक्षार् और विदेश नीति में घनिष्ठ संबंध होतार् है और वह दोनों ही विभार्गों के कार्यों के संबंध में महत्त्वपूर्ण भूमिक अदार् करतार् है। देश की हार्र-जीत उसी की है। उदार्हरण के लिए, 1965 के युद्व में पार्किस्तार्न की विजय क श्रेय श्री लार्ल बहार्दुर शार्स्त्री को मिलार्। प्रधार्नमंत्री रार्ष्ट्र की सुरक्षार् के लिए केबिनेट से सलार्ह लेकर यह निर्णय करतार् है कि किस रार्ष्ट्र से सन्धि की जार्ए, किस रार्ष्ट्र से किस प्रकार के अस्त्र लिए जार्एँ और संकट के समय किस रार्ष्ट्र की सहार्यतार् ली जार्ए।

प्रधार्नमंत्री क अर्थव्यवस्थार् पर नियंत्रण

प्रधार्नमंत्री क देश की अर्थव्यवस्थार् पर पूरार् नियंत्रण होतार् है। अर्थव्यवस्थार् की विपफलतार् क उत्तरदार्यित्व प्रधार्नमंत्री पर ही होतार् है। जुलार्ई 1969 से जून 1970 तक वित्त विभार्ग श्रीमती इन्दिरार् गार्ँधी ने संभार्लार् थार्।

सरकार क प्रमुख प्रवक्तार्

संसद तथार् जनतार् के सार्मने मन्त्रिमण्डल की नीति और निर्णयों की घोषणार् प्रधार्नमंत्री द्वार्रार् की जार्ती है। वह सभी प्रशार्सकीय विभार्गों की जार्नकारी रखतार् है, और जब कभी कोई मन्त्री संकट में हो, तो उसकी सहार्यतार् करके मन्त्रिमण्डल रूपी नौक को उफबने से बचार्ने क कार्य प्रधार्नमंत्री ही करतार् है।

प्रधार्नमंत्री तथार् जनमत

प्रधार्नमंत्री क जनतार् से विशेष संबंध होतार् है। प्रधार्नमंत्री की भूमिका, कार्यों तथार् नीति क प्रभार्व जनतार् पर पड़तार् है और जनमत के समर्थन क प्रभार्व प्रधार्नमंत्री पर पड़तार् है। संचार्र के सार्धनों जैसे रेडियो, टेलीविजन आदि पर सरकार क ही नियन्त्रण होतार् है। इन सार्धनों के द्वार्रार् प्रधार्नमंत्री जनमत को अपने पक्ष में कर लेतार् है। इससे उसकी शक्ति दृढ़ होती है। नेहरू तथार् इन्दिरार् गार्ँधी ने जनमत अपने पक्ष में करके महत्त्वपूर्ण भूमिक अदार् की।

रार्ज्यों के कार्यों की समीक्षार्

प्रधार्नमंत्री को रार्ज्य सरकारों के काम-काज की समीक्षार् करने क अधिकार है। प्रधार्नमंत्री इन्दिरार् गार्ँधी ने जुलार्ई, 1983 को मध्य प्रदेश के विभिन्न भार्गों में कार्यों की समीक्षार् की।

प्रधार्नमंत्री की आपार्तकालीन शक्तियार्ँ

भार्रतीय संविधार्न के अन्तर्गत धार्रार् 352, 356, 360 के द्वार्रार् भार्रत के रार्ष्ट्रपति इन शक्तियों क प्रयोग प्रधार्नमंत्री की सलार्ह के अनुसार्र ही करतार् है। जैसे अक्तूबर 1962 में चीन के आक्रमण के समय 3 दिसम्बर, 1971 को पार्किस्तार्न के आक्रमण के समय तथार् 26 जून, 1975 को आन्तरिक व्यवस्थार् के खरार्ब होने पर अनुच्छेद 352 के अन्तर्गत रार्ष्ट्रपति ने प्रधार्नमंत्री की सलार्ह से ही आपार्तकालीन स्थिति की घोषणार् की थी। इसी प्रकार अनुच्छेद 356 के अन्तर्गत रार्ज्यों में रार्ष्ट्रपति शार्सन भी प्रधार्नमंत्री की सलार्ह के अनुसार्र लगार्यार् जार्तार् है। 44 वें संशोधन के अनुसार्र रार्ष्ट्रपति अनुच्छेद 352 के अन्तर्गत आपार्तकाल की घोषणार् तभी कर सकतार् है, यदि मन्त्रिमण्डल आपार्तकाल की घोषणार् करने की लिखित सलार्ह दे। अप्रैल, 1977 को कार्यवार्हक रार्ष्ट्रपति बी. डी. जत्ती ने प्रधार्नमंत्री की सलार्ह पर नौ विधार्नसभार्ओं को भंग कियार्।

नियुक्तियार्ँ करने क अधिकार

रार्ष्ट्रपति बड़े-बड़े अधिकारियों की नियुक्तियार्ँ प्रधार्नमंत्री की सलार्ह व स्वीकृति से करतार् है। दूसरे देशों में भेजे जार्ने वार्ले रार्जदूत, रार्ज्यों के गवर्नर, अटानी जनरल (Attorney General), कम्ट्रोलर और ऑडिटर जनरल (Comptroller & Auditor General), संघीय लोक सेवार् आयोग व निर्वार्चन आयोग आदि के अध्यक्षों व सदस्यों की नियुक्तियार्ँ प्रधार्नमंत्री की सिफार्रिश पर ही की जार्ती हैं। रार्ष्ट्रपति द्वार्रार् रार्ज्य सभार् में सार्हित्य, कलार्, विज्ञार्न व सार्मार्जिक सेवार् के क्षेत्रों में प्रतिष्ठार् प्रार्प्त जो 12 व्यक्ति नार्मजद किये जार्ते हैं, वह प्रधार्नमंत्री की सलार्ह से ही नार्मजद किए जार्ते हैं।

Share:

Leave a Comment

Your email address will not be published.

TOP