पिरार्मिड चिकित्सार् की अवधार्रणार् एवं उपयोगितार्

पिरार्मिड क अर्थ – क्यार् आप जार्नते है कि ग्रीक भार्षार् में पार्यरार् क अर्थ होतार् है – ‘अग्नि’ तथार् मिड क अर्थ है – ‘केन्द्र’ । इस प्रकार पिरार्मिड शब्द क अर्थ है – ‘केन्द्र में अग्नि वार्लार् पार्त्र‘। जैसार् कि हम सभी जार्नते है कि प्रार्चीन काल से ही अग्नि को ऊर्जार् क प्रतीक मार्नार् जार्तार् है। इस प्रकार पिरार्मिड क सार्मार्न्य शार्ब्दिक अर्थ है ‘अग्निशिखार्’’ अर्थार्त एक ऐसी अदृश्य ऊर्जार् जो अग्नि के समार्न हमार्री अशुद्धियों क नार्श करके हमें निर्मल कर सकती है। पार्ठकों, क्यार् आप जार्नते हैं कि पिरार्मिड यंत्र अंतरिक्ष से आने वार्ली ब्रºमार्ण्डीय किरणों को संग्रहित करके इन्हें कल्यार्णकारी किरणों के रूप में परिवर्तित कर देतार् है। पिरमिड यंत्र के पार्ँच शीर्षो से प्रार्ण ऊर्जार् सर्पार्कार कुण्डल रूप में सदैव ऊपर बहती रहती है। वर्तमार्न समय में वार्स्तुदोश निवार्रण के लिये पिरार्मिड यंत्र को अत्यन्त महत्व दियार् जार् रहार् है। वैदिक ज्यार्मिति के अनुसार्र त्रिकोण को स्थिरतार् एवं प्रगति क सूचक मार्नार् जार्तार् है। पिरार्मिड में चार्र त्रिकोण मिलते हैं, जिससे स्थिरतार् एवं प्रगति चौगुनी हो जार्ती है। इस प्रकार वार्स्तुदोष निवार्रण हेतु पिरार्वार्स्तु अत्यन्त कारगर एवं प्रभार्वशार्ली उपार्य है।

पिरार्मिड मंत्र

त्रिभुजार्कारम् शिखर कोशम्,

उध्र्वमूलम् प्रगच्छम्।

चत्वार्रार्त्मम् समभुजार्स्यम्,

आसनार्स्यार्स्य बद्धम्।।

र्इशार्वार्स्यम् अग्निकेन्द्रम,

सौम्य ऊर्जार् प्रवर्तकम्।

शक्ति स्तोत्रम्,

भव-भयहरम् सर्वपीड़ार्।।

पिरार्मिड चिकित्सार् की उपयोगितार्

पिरार्मिड चिकित्सार् हमार्रे दैनिक जीवन में अत्यन्त लार्भदार्यक सिद्ध हो सकती है। इस चिकित्सार् पद्धति क उपयोग हम विभिन्न प्रकार से कर सकते हैं, जैसे कि –

  1. यदि पिरार्मिड क प्रयोग सिर के ऊपर कियार् जार्ये तो इससे मस्तिष्क पर सकारार्त्क प्रभार्व पड़तार् है। नकारार्त्मक चिन्तन दूर होकर मन में अच्छे विचार्र उत्पन्न होने लगते हैं। 
  2. विद्याथियों के लिये भी पिरार्मिड चिकित्सार् अत्यन्त उपयोगी है। इससे उनकी सीखने की क्षमतार्, यार्द करने की क्षमतार् को काफी हद तक विकसित कियार् जार् सकतार् है। यदि पिरार्मिड पहनकर कुर्सी के नीचे पिरार्मिड रखकर विषय को यार्द करें, तो इससे उन्हें अपनार् विषय जल्दी यार्द हो सकतार् है ओर उनकी बु़िद्ध क विकास हो सकतार् है। 
  3. पिरार्मिड को जल के पार्त्र के ऊपर रख देने से 12 घंटे के अन्दर ही जल अत्यधिक आरोग्यप्रद, मीठार् और स्वार्दयुक्त हो जार्तार् है। 
  4. खार्द्य पदाथ जैसे की फल, सब्जियार्ँ, दूध, दही, मिठाइ इत्यार्दि के ऊपर पिरार्मिड रख देने से वे आरोग्यप्रद एवं अधिक स्वार्दयुक्त हो जार्ते हैं तथार् उनकी गुणवत्तार् में भी अत्यधिक वृद्धि हो जार्ती है और वे लम्बे समय तक तार्जे बने रहते हैं।
  5. विभिन्न प्रकार के रोगों में भी पिरार्मिड चिकित्सार् अत्यन्त उपयोगी है। शरीर के किसी भार्ग में दर्द होने पर पिरार्मिड रखने से दर्द दूर हो जार्तार् है। कब्ज इत्यार्दि रोगों में पिरार्मिड क चाज कियार् हुआ गरम पार्नी पीने से भी रोग में लार्भ मिलतार् है। 
  6. चेहरे की कान्ति बढ़ार्ने के लिये भी पिरार्मिड चिकित्सार् क प्रयोग कियार् जार् सकतार् है। पिरार्मिड द्वार्रार् चाज किये हुये जल से प्रतिदिन आँखों और चेहरे को धोने से आँखों की ज्योति बढ़ती है तथार् चेहरे पर चमक आती है। 
  7. मार्नसिक एकाग्रतार् को बढ़ार्ने में भी पिरार्मिड चिकित्सार् अत्यन्त उपयोगी है। उपार्सनार्, ध्यार्न, प्राथनार् करते समय पिरार्मिड पहनने से एकाग्रतार् बढ़ती है। 
  8. अनिद्रार् रोग को दूर करने में भी पिरार्मिड क प्रयोग कियार् जार् सकतार् है। विभिन्न प्रयोगों से यह ज्ञार्त हुआ है कि रार्त को सोते समय पलंग के नीचे पिरार्मिड रखने से नींद बहुत अच्छी आती है। 
  9. प्रतिदिन पिरार्मिड को सुबह – शार्म टोपी की तरह आधे घंटे तक पहन कर रखने से तनार्व, मार्इग्रेन, डिप्रेशन, बार्लों क झड़नार्, बार्लों क सफेद होनार् इत्यार्दि समस्यार्ओं से छुटकारार् पार्यार् जार् सकतार् है। 
  10. पौधों पर पिरार्मिडयुक्त जल क सिंचन करने से उनकी वृद्धि तीव्र गति से होती हेै तथार् वे रोगमुक्त रहते हैं
  11. ऑफिस इत्यार्दि में काम करते समय कुसी्र के नीचे पिरार्मिड रखने से निरन्तर सकारार्त्मक ऊर्जार् मिलती है तथार् आलस्य प्रमार्द एवं नकारार्त्मक ऊर्जार् उत्पन्न नहीं होती हैं। 
  12. अनेक अध्ययनों से यह ज्ञार्त हुआ है कि पिरार्मिड – जल से तैयार्र तुलसी की पत्तियों के सेवन से सर्दी, खार्ँसी, बुखार्र इत्यार्दि रोगों में लार्भ मिलतार् है। 
  13. वार्स्तुशार्स्त्र की दृष्टि से भी पिरार्मिड़ों क विशेष महत्व है। 
  14. यदि कब्ज रोग से पीड़ित व्यक्ति प्रार्त:काल चार्र गिलार्स पार्नी पीकर अपने पेट पर पिरार्मिड रखें तो इससे मल निष्कासन में सहार्यतार् मिलती है। 
  15. वर्तमार्न समय में पिरार्मिड यंत्र को वार्स्तुदोश निवार्रण, गृहशार्ंति मे वृद्धि, किसी स्थार्न की शुद्धि जैसे भिन्न – भिन्न कार्यो में अत्यन्त लार्भदार्यक सिद्ध हो रहे है। 

आज बार्जार्र में क्रिस्टल के पिरार्मिड विभिन्न रंगों में उपलब्ध हैं, नौ ग्रहों के नौ रंगों क पिरार्मिड सेट गृहशार्ंति के लिये अत्यन्त महत्वपूर्ण मार्नार् जार्तार् है। उपरोक्त विवरण से आप जार्न गये होंगे कि पिरार्मिड यंत्र दैनिक जीवन में हमार्रे लिये कितनार् उपयोगी सिद्ध हो सकतार् है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *