परार्मर्श की परिभार्षार् एवं विशेषतार्एँ

परार्मर्श शब्द एक प्रार्चीन शब्द है फलत: इसकी अनेक परिभार्षार्यें हैं।

  1. रार्बिन्सन के अनुसार्र-’परार्मर्श शब्दो व्यक्तियों के सम्पर्क में उन सभी स्थितियों क समार्वेश करतार् है जिसमें एक व्यक्ति को उसके स्वयं के एवं पर्यार्वरण के बोध अपेक्षार्कृत प्रभार्वी समार्योजन प्रार्प्त करने में सहार्यतार् की जार्ती है।’
  2. कार्ल रोजर्स ने परार्मर्श को आत्मबोध की प्रक्रियार् में सहार्यक बतार्ते हुये लिखार् है कि-’परार्मर्श एक निर्धार्रित रूप से स्वीकृत ऐसार् सम्बन्ध है जो परार्मर्श प्रार्थ्री को, स्वयं को समझने में पर्यार्प्त सहार्यतार् देतार् है जिससे वह अपने नवीन जीवन के प्रकाशन हेतु निर्णय ले सकें।
  3. हैरमिन के अनुसार्र- परार्मर्श मनोपचार्रार्त्मक सम्बन्ध है जिसमें एक प्रार्थ्री एक सलार्हकार से प्रत्यक्ष सहार्यतार् प्रार्प्त करतार् है यार् नकारार्त्मक भार्वनार्ओं को कम करने क अवसर और व्यक्तित्व में सकारार्त्मक वृद्धि के लिये माग प्रशस्त होतार् है।
  4. मार्यर्स ने लिखार् है- परार्मर्श से अभिप्रार्य दो व्यक्तियों के बीच सम्बन्ध है जिसमें एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को एक विशेष प्रकार की सहार्यतार् करतार् है।
  5. विलि एवं एण्ड्र ने कहार् कि परार्मर्श पार्रस्परिक रूप से सीखने की प्रक्रियार् है। इसमें दो व्यक्ति सम्मिलित होते है सहार्यतार् प्रार्प्त करने वार्लार् और दूसरार् प्रशिक्षित व्यक्ति जो प्रथम व्यक्ति की सहार्यतार् इस प्रकार करतार् है कि उसक अधिकतम विकास हो सकें।
  6. काम्बस  ने परार्मर्श को पूरी तरह से परार्मर्श प्राथी केन्द्रित मार्नार् है।
  7. ब्रीवर  ने परार्मर्श को बार्तचीत करनार्, विचार्र-विमर्ष करनार् तथार् मित्रतार्पूर्वक वातार्लार्प करनार् बतार्यार् है। वही जोन्स के अनुसार्र परार्मर्श प्रक्रियार् में समस्त तत्वों को एकत्रित कियार् जार्तार् है जिसमें छार्त्रों के समस्त अनुभवों क अध्ययन कियार् जार्तार् है। छार्त्रों की योग्यतार्ओं को एक विशेष परिस्थिति के अनुसार्र देखार् जार्तार् है
  8. इरिक्सन ने लिखार् कि – ’परार्मर्श सार्क्षार्त्कार व्यक्ति से व्यक्ति क सम्बन्ध है जिसमें एक व्यक्ति अपनी समस्यार्ओं तथार् आवश्यकतार्ओं के सार्थ दूसरे व्यक्ति के पार्स सहार्यताथ जार्तार् है।
  9. स्ट्रैगं के अनुसार्र –’’परार्मर्श प्रक्रियार् एक सम्मिलित प्रयार्स है छार्त्र की जिम्मेदार्री अपने आपकों जिम्मेदार्री समझने की चेष्टार् करनार् तथार् उस माग क पतार् लगार्नार् है जिस पर उसे आनार् है तथार् जैसे ही समस्यार् उत्पन्न हो उसके समार्धार्न हेतु आत्मविश्वार्स जगार्नार् है।’’ विभिन्न परिभार्षार्ओं से परार्मर्श के निम्न तत्वों के सम्मिलित होने क आभार्स मिलतार् है।
  1. दो व्यक्तियों में पार्रस्परिक सम्बन्ध आवश्यक है। 
  2. परार्मर्शदार्तार् व प्राथी के मध्य विचार्र-विमर्ष के अनेक सार्धन हो सकते हैं।
  3. प्रत्येक परार्मर्शदार्तार् अपनार् काम पूर्णज्ञार्न से करतार् है।
  4. परार्मर्श प्राथी की भार्वनार्ओं के अनुसार्र परार्मर्श क स्वरूप परिवर्तित होतार् है।
  5. प्रत्येक परार्मर्श सार्क्षार्त्कार-निर्मित होतार् है।

परार्मर्श की विशेषतार्ए

  1. परार्मर्श मूलत: समस्यार्परक होतार् है।
  2. यह दो व्यक्तियों के मध्य वातार्लार्प क एक स्वरूप है।
  3. परार्मर्श क मूल परस्पर विश्वार्स है।
  4. परार्मर्शक परार्मर्शेच्छु को उसके हित में सहार्यतार् प्रदार्न करतार् है।
  5. मैत्रीपूर्ण अथवार् सौहादपूर्ण वार्तार्वरण में परार्मर्श अधिक सफल होतार् है।
  6. जे0 ए0 केलर कहतार् है कि परार्मर्श क सम्बन्ध अधिगम से होतार् है। जिस प्रकार अधिगम से व्यक्ति के आचरण में परिमाजन होतार् है उसी प्रकार परार्मर्श से भी व्यक्ति के आचरण में परिमाजन होतार् है।
  7. परार्मर्श सम्पूर्ण निर्देशन प्रक्रियार् क एक सशक्त अंश है।
  8. परार्मर्श क स्वरूप प्रजार्तार्न्त्रिक होतार् है। परार्मर्शेच्छु परार्मर्शक के सम्मुख अपने विचार्र रखने में स्वतन्त्र रहतार् है।
  9. परार्मर्श क आधार्र प्रार्य: व्यार्वसार्यिक होतार् है। विलियम कॉटिल ने परार्मर्श की विशेषतार्ओं की चर्चार् की हैं-
    1. दो व्यक्तियों के मध्य परस्पर सम्बन्ध आवश्यक है।
    2. परार्मर्शक एवम् परार्मर्शेच्छु के मध्य वातार्लार्प के अनेक स्रोत हो सकते हैं।
    3. परार्मर्शक पूर्ण जार्नकारी के सार्थ परार्मर्श देतार् हैं।
    4. परार्मर्शेच्छु की रूचि को देखते हुए परार्मर्श की प्रकृति में परिवर्तन सम्भव होतार् है।
    5. प्रत्येक परार्मर्श में सार्क्षार्त्कार आवश्यक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *