जार्पार्न में सैन्यवार्द के कारण

सैन्यवार्द उग्ररार्ष्ट्रवार्द के परिणार्म स्वरुप उत्पन एक ऐसी विचार्रधार्रार् और रार्जनैतिक गतिविधि है जिसके तहत सार्मार्जिक जीवन के सभी पहलुओं, संस्कृति और रार्जनीति सैन्य मूल्य के अधीन हो जार्तार् है। जिस किसी देश में भी ऐसार् वार्तार्वरण हो वहार्ँ पर सबसे महत्वपूर्ण युद्ध तथार् उससे सम्बंधित तैयार्रियार्ं हो जार्ती हैं। जहार्ँ कही भी सैन्यवार्द जन्म लेतार् है वहार्ँ पर मनुष्यों यार् उस देश के नार्गरिकों की सुविधार्ओं क ध्यार्न बार्द में रखार् जार्तार् है जबकि इसमें युद्ध को ज्यार्दार् महत्व दियार् जार्तार् है। इसमें सैनिकों क प्रभार्व ज्यार्दार् होतार् है तथार् देश के कोई भी नियम उनके हिसार्ब से ही बनार्ये जार्ते है। ऐसी परिस्थितियों में सरकार द्वार्रार् गठित मंत्रिमंडल जो सेनार् से सम्बंधित हो उसक चुनार्व भी सैनिक अधिकारियों के बीच से कियार् जार्तार् है, अगर सरकार चार्हे भी तो उनके इजार्जत के वगैर अपनी मंत्रीमंडल क गठन नहीं कर सकती, सैन्यवार्द वहीं आतार् है जहार्ं रार्जतन्त्र यार् लोकतंत्र कमजोर होतार् है।

सैन्यवार्द क एक उग्र रूप जार्पार्न में भी उभर कर आतार् है। जार्पार्न जो एशियार् महार्देश क एक छोटार् सार् देश है, वह पश्चिमी देशों के सार्थ संपर्क में आ कर बीसंवी शतार्ब्दी में खुद सार्म्रार्ज्यवार्दी बन जार्तार् है। उस समय एशियार् महार्देश के लगभग सभी देशो पर सार्म्रार्ज्यवार्दी यूरोपीय देशों क प्रभार्व थार् पर सिर्फ जार्पार्न ही अपनार् अस्तित्व बचार्ए रखने में सक्षम रहार्,जार्पार्न में उस समय कुछ ऐसी परिस्थितियार्ं थी जिसके कारण वहार्ं पर सैन्यवार्द मजबूत हुआ। जार्पार्न में सैन्यवार्द के उदय में लोकतंत्र तथार् उदार्रवार्दियों की नार्कामी, उपनिवेश की इक्षार्, आत्म सुरक्षार् और आर्थिक विकास आदि ने बहुत योगदार्न दियार्।

जार्पार्न में सैन्यवार्द के कारण

1853 ई. में कॉमोडोर पैरी क जार्पार्न के तटीय क्षेत्र पर आगमन के सार्थ ही जार्पार्न व्यार्पार्रिक उद्देश्य से पूरे यूरोप के लिए खुल जार्तार् है, इस घटनार्क्रम के बार्द वहार्ँ के शार्सक कुछ रियार्यतों के सार्थ मुक्त व्यार्पार्र की नीति मार्नने को तैयार्र हो गई थे और यही बार्द में तोकुगार्वार् क पतन और मेजी पुन:स्थार्पनार् में भी हुआ। जार्पार्न को उस समय से ही अपनी अस्तित्व बचार्ने के लिए इन यूरोपीय सार्म्रार्ज्यवार्दी देशों क सार्मनार् करनार् पड रहार् थार् जिसके कारण जार्पार्न अपने आप को 20वीं सदी के शुरुवार्त तक मजबूत बनार्तार् है। जार्पार्न में सैन्यवार्द के कई कारण थे, जिसमें उपनिवेशवार्द की इक्षार्, आर्थिक मंदी, आत्म सुरक्षार् और लोकतंत्र तथार् उदार्रवार्दियों की नार्कामी आदि शार्मिल हैं।

जार्पार्नी उपनिवेशवार्दी नीति ने भी सैन्यवार्द को पनपने में योगदार्न दियार्, जार्पार्न अपने आप को सैनिक एवं रार्जनैतिक क्षेत्रों में मजबूत करतार् है और 19वीं शतार्ब्दी के अंतिम समय तथार् 20वीं शतार्ब्दी के प्रार्रंभ से खुद सार्म्रार्ज्यवार्दी सोच अपनार्ने लगतार् है, चूँकि जार्पार्न उस समय एशियार् क एक मार्त्र शक्तिशार्ली देश थार् इसलिए सार्म्रार्ज्यवार्दी नीति क प्रसार्र करने लगतार् है, तार्कि वह पश्चिमी सार्म्रार्ज्यवार्दी देशों के सार्थ कदम से कदम मिलार्कर चल सके, जबकि 1895 ई. के पहले भी जार्पार्न ने अपनी सेनार् क निर्मार्ण तथार् आधुनिकीकरण कियार् थार् पर जार्पार्नी नेतार्ओं ने यह महसूस कियार् की अभी जार्पार्न सार्म्रार्ज्यवार्दी यूरोपीय देशों की बरार्बरी नहीं कर पार्यार् है, इस कारण से जार्पार्न में 1895 ई. से 1904 ई. के बीच बड़ी तेजी से सैन्यवार्द क विकास हुआ।

मध्य काल में जार्पार्न में भी सार्मंतवार्द मजबूत थार् और जार्पार्न में सार्मंतों क शार्सन थार् पर 1867 ई. में अंतिम शोगुन सार्मंत द्वार्रार् त्यार्गपत्र देनार् तथार् 1868 ई. में सम्रार्ट मुत्सुहितो द्वार्रार् देश की सम्पूर्ण सत्तार् संभार्लनार् जार्पार्न की एक बड़ी घटनार् थी, इसके बार्द जार्पार्न जल्द ही प्रत्येक क्षेत्र में प्रगति कर विÜव में शीघ्र ही एक शक्तिशार्ली एवं सम्मार्नीय देश बन गयार्, जार्पार्न के इतिहार्ंस में फिर से एक मोड़ तब आयार् जब 1912 ई. में सम्रार्ट मुत्सुहितो की मृत्यु के बार्द सैन्यवार्द ने अपनार् वर्चस्व बढ़ार्नार् शुरु कर दियार् जबकि 1907ई. से ही सेनार् के उच्च अधिकारी अपनी अहम् भूमिक निभार् रहे थे। अगर इसके बार्द क जार्पार्नी इतिहार्स को देंखे तो पार्ते है की 1918ई. से 1932ई. के बीच वहार्ँ पर दलीय सरकारें थी लेकिन वहार्ँ के प्रधार्नमंत्री और उनके मंत्रिमंडल के अधिकतर सदस्य प्रतिनिधि सभार् के बहुदलीय दल के होते थे, बार्वजूद इसके उन्होंने एक आदर्श संवैधार्निक प्रणार्ली के रूप में अपने आप को स्थिर नहीं कर पार्यार् थार्। दूसरी तरफ उदार्रवार्दी भी जार्पार्न को एक लोकतार्न्त्रिक रार्ज्य बनार्ने में असफल रहे। इन्ही सब परिस्थितियों में जार्पार्न में सैन्यवार्द यार् उग्ररार्ष्ट्रवार्द क जन्म हुआ।

जार्पार्न के नेतार् और सैन्य अधिकारी सुरक्षार् कारणों से यह महसूस करते थे कि अगर जार्पार्न अपने आप को सैन्य –ष्टि से मजबूत नहीं करेगार् तो पश्चिमी सार्म्रार्ज्यवार्दी देश विशेष कर रूस उसको जीत कर अपने प्रभार्व क्षेत्र में ले लेगार्, पहले भी 1904-05 ई. में रूस के सार्थ जार्पार्न क युद्ध हो चुक थार्, जिसके कारण जार्पार्नियों को लगतार् थार् कि अगर जार्पार्न सैनिक दृष्टि से कमजोर हो जार्येगार् तो रूस उसके ऊपर आक्रमण कर देगार्, 19 वीं शदी के आखिर तक पडोसी चीन भी आर्थिक और सैनिक दृष्टि से कमजोर थार् जिसके कारण एशियार् में अपनी सार्ख बचार्ए रखने के लिए जार्पार्न ने सैन्यवार्द को बढ़ार्वार् दियार्।

आर्थिक दृष्टि से भी जार्पार्न में सैन्यवार्द जरुरी थार्, जार्पार्न की अर्थव्यवस्थार् पर विदेशी व्यार्पार्र क बहुत महत्व थार् जिसके कारण 1929 ई. में आई आर्थिक मंदी ने वहार्ँ के लोगों की स्थिति को दयनीय बनार् दियार्, यह आर्थिक मंदी तब आई थी जब जार्पार्न के लोग 1923ई. में आये भूकंप और 1920 के दशक में आर्थिक अस्थिरतार् ने वहार्ँ के किसार्नों और मजदूरों को बहुत बुरी तरह प्रभार्वित कर दियार् थार्। इस कारण से उस समय जार्पार्न में सार्म्रार्ज्यवार्द की भार्वनार् प्रबल होने लगी जिससे कि विदेशी व्यार्पार्र को जार्री रखार् जार् सके, आर्थिक विकास के लिए भी चीन के बार्जार्र की जरुरत थी जहार्ँ उसके कपडार् तथार् निर्मित वस्तुओं क निर्यार्त कियार् जार् सके।चीन इसके लिए एक अच्छार् बार्जार्र थार् जहार्ँ कच्चार् मार्ल भी प्रार्प्त कियार् जार् सकतार् थार्, सार्थ ही जार्पार्न अपनी बढती जनसंख्यार् को मंचूरियार् में बसार् सकतार् थार् तथार् वहार्ँ से कच्चार् मार्ल भी पार् सकतार् थार् इसलिए उसने 1931 ई. में मंचूरियार् पर कब्ज़ार् कर लियार्।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *