औद्योगिक क्रार्ंति क्यार् है ?

18वीं सदी के उत्तराद्ध में इंग्लैण्ड में अज्ञार्त और सतत रूप से अनेक अंग्रेज मंित्रयों, अन्वेषकों और वैज्ञार्निकों द्वार्रार् वस्तु-उत्पार्दन, खेती, यार्तार्यार्त और शिल्प उद्योगों के सार्धनों और पय्र ार्सों में जो नवीन, मौलिक और क्रार्ंतिकारी परिवर्तन हुए, उनसे उत्पार्दन-व्यवस्थार् और व्यार्पार्र व्यवस्थार् बिल्कुल बदल गयी, जिनके फलस्वरूप आधुनिक काल में अनेक वर्गीय तथार् अंतर्रार्ष्ट्रीय संघर्ष आरंभ हुए, जिनक अर्वार्चीन देशार्ंे की आतंरिक और विदेश-नीतियों पर बड़ार् महत्वपूर्ण प्रभार्व पड़ार् व जिनके कारण अर्वार्चीन जगत की अनेक जटिल व विस्फोटनजक रार्जनीतिक, आर्थिक तथार् सार्मार्जिक समस्यार्ओं और व्यवस्थार्ओं क प्रार्दुर्भार्व हुआ – उन्हें समष्टि रूप में हम ‘औद्योगिक क्रार्ंति’ कहते हैं। इसे हम ‘यार्ंत्रिक क्रार्ंति’ भी कहते हैं।

औद्योगिक क्रार्ंति सर्वप्रथम इंग्लैंड में होने के कारण

  1. औद्योगिक आविष्कारों क प्रार्रभ्ं सर्वप्रथम वस्त्र उद्योग में हुआ। क्योंकि इन दिनों इंग्लैण्ड वस्त्र-उद्यार्गे में सबसे आगे थार् और कपड़े की अत्यार्धिक खपत, श्रमिकों की कमी, हार्थकरघार् द्वार्रार् अल्प-उत्पार्दन इत्यार्दि कारणों से अंग्रेज अन्वेषकों क ध्यार्न सर्वप्रथम वस्त्र-उत्पार्दन की वृद्धि की ओर आकृष्ट हुआ। अतएव उन्होंने नवीन आविष्कार और यंत्र निकाले।
  2.  इंग्लैण्ड में पहले से प्रार्योगिक विज्ञार्न और अध्ययन क काफी विकास हो रहार् थार्, अत: इनसे अन्वेषकों को नवीन आविष्कारों की रचनार् में पर्यार्प्त सुगमतार् व प्रोत्सार्हन मिलार्। 
  3. व्यार्पार्र की अत्यार्धिक वृद्धि के कारण इंग्लैण्ड में पर्यार्प्त धन थार्, जिससे इन अन्वेषकों हेतु सुगमतार् से अर्थ क प्रयोग हो सकतार् थार्। 
  4. अंग्रेजी मार्ल के निर्यार्त के लिए विस्तृत बार्जार्र उपलब्ध थे। 
  5. सार्मुद्रिक उद्योग, व्यार्पार्र और उपनिवेश-संस्थार्न द्वार्रार् अंग्रेजों ने वृहत उद्यार्गे ार्ं े के प्रबंध करने क पर्यार्प्त अनुभव प्रार्प्त कर लियार् थार्। 
  6. औद्योगिक विकास क सबसे महत्वपूर्ण कारण यह थार् कि अन्य यूरोपीय देशों के विपरीत इंग्लैण्ड के शिल्पियों और उद्योगपतियों को अधिक आर्थिक स्वतंत्रतार् उपलब्ध थी। यह आर्थिक स्वतंत्रतार् अंग्रेजी उद्योग व व्यार्पार्र के विकास क प्रमुख कारण सिद्ध हुर्इ।

औद्योगिक क्रार्ंति के परिणार्म व प्रभार्व

(1) आर्थिक उत्पत्ति में वृद्धि

इंग्लैण्ड और यूरोप में आर्थिक उत्पत्ति व मुद्रण व्यवसार्य में भी बड़ी उéति हुर्इ। इन परिवर्तनों के परिणार्मस्वरूप, समस्त संसार्र आर्थिक दृष्टि से एक इकार्इ बन गयार्। न केवल वस्त्र-व्यवसार्य में ही, वरन् अन्य व्यवसार्यों में भी मशीन के प्रयार्गे ने उनकी उत्पत्ति में भार्री वृद्धि कर दी गयी। यार्ंि त्रक शक्ति और मशीन के उपयार्गे के कारण मदु ्रण-व्यवसार्य में बड़ी उéति हुर्इ। कारखार्नों के लिए कच्चार् मार्ल संसार्र के कोने-कोने से प्रार्प्त कियार् जार्ने लगार् और सार्रार् संसार्र प्रत्येक देश के पक्के मार्ल के विक्रय क एक बार्जार्र बन गयार्।

(2) गृह-व्यवसार्य क अंत और विशार्ल कारखार्नों क प्रार्रंभ

नये-नये आविष्कारों और मशीनों के कारण पुरार्ने उद्यार्गे -धंधे और गृह-व्यवसार्य ठप्प होते गये व उनके स्थार्न पर फैक्टरियार्ँ खोली जार्ने लगीं,ं जिनमें कारीगर की अपेक्षार् मशीनों क अधिक महत्व थार्। इसके कारण श्रम-विभार्ग क भी बहुत विकास हुआ। कारीगर अब स्वतंत्र उत्पार्दक न रहकर मजदूरी प्रार्प्त करने वार्लार् श्रमिक बन गयार्।

(3) पूँजीपतियों क प्रभार्व

खेतीबार्ड़ी में मौलिक परिवर्तन होने के कारण जीविका-रहित किसार्न और कारीगर नये-नये कारखार्नों में थार्डे ़ी मजदरू ी व शार्चे नीय वार्तार्वरण में रहकर भी काम करने के लिए विवश हुए। अत: धनलोलुप तथार् स्वार्थ्र्ार्ी उद्योगपतियों ने श्रमिकों क शोषण कर अपने कारखार्नों से अतुल धन-उपाजन कियार् और इंग्लैण्ड को मशीन क उत्पार्दक बनार् दियार्। कम मजदूरी, लंबी श्रमार्वधि और निम्न जीवर-स्तर के कारण श्रमिकों क असंतोष बढ़ार् और उसने उग्र रूप धार्रण कर लियार्। श्रमिक दल के नेतार्ओं ने नयी मार्ँगार्ंे और नयी शार्सन व सार्मार्जिक व्यवस्थार्ओं और नये सार्मार्जिक तथार् रार्जनीतिकवार्दियों क सृजन कियार्, जिनके परिणार्मस्वरूप संसार्र के आर्थिक, सार्मार्जिक और रार्जनीतिक जीवन में विविध परिवर्तन होने लगे। समार्जवार्द, मार्क्र्सवार्द व सार्म्यवार्द, अरार्जतकतार्वार्द, श्रमिक संस्थार्ओं क विकास एवं नवीन विचार्रधार्रार्एँ इसी नवीन औद्योगिक व्यवस्थार् के परिणार्म है। औद्योगिक और व्यार्वसार्यिक क्रार्ंति ने आर्थिक उत्पार्दकों को दो श्रेणियों में विभक्त कर दियार्, अर्थार्त् पूँजीपति व मजदूर। पूँजीपतियों व मजदूरों क पार्रस्परिक संघर्ष व्यार्वसार्यिक उéति क सबसे महत्वपूर्ण परिणार्म है।

(4) व्यवसार्यिक नगरों क विकास

बड़े-बड़े कारखार्नों के विकास के कारण बड़े व्यार्वसार्यिक नगरों की स्थार्पनार् होने लगी और आबार्दी बढ़ने लगी। व्यार्वसार्यिक नगरों क विकास औद्योगिक क्रार्ंति क महत्वपूर्ण परिणार्म है।

(5) नयार् श्रेणी-भेद

औद्योगिक क्रार्ंति के कारण नयार् श्रेणी-भदे उत्पé हुआ। कारखार्नों के मार्लिक पूँजीपतियों क महत्व अत्यार्धिक बढ़ गयार्। अब समार्ज में दो मुख्य श्रेणियार्ँ बन गयीं-पूँजीपति ओर मजदूर। सार्मार्जिक दृष्टि से स्वतंत्र होते हुए भी मजदूरों की स्थिति गुलार्मों से अच्छी नहीं थी। धीरे-धीरे एक तीसर े श्रेणी ‘शिक्षित मध्य-वर्ग’ क विकास होने लगार् व समार्ज व रार्जनीति में इसक प्रभार्व बढ़ने लगार्।

(6) पार्रिवार्रिक जीवन पर प्रभार्व 

आरंभ में औद्योगिक व व्यार्वसार्यिक क्रार्ंति में पार्रिवार्रिक जीवन की सुख-शार्ंति को नष्ट कर दियार्, स्त्रियों और बच्चों क स्वार्स्थ्य और भविष्य पर भी इसक बहतु प्रतिकूल प्रभार्व पड़ार्। पूँजीपतियों ने हर संभव उपार्य द्वार्रार् गरीबों क शार्ष्े ार्ण कियार् व समार्ज में गरीब और अमीर क भदे -भार्व निरंतर बढ़तार् ही गयार्।

(7) वैयक्तिक स्वतंत्रतार् के सिद्धार्ंत क विकास 

इस युग में पूँजीपतियों की मनमार्नी क किसी भी प्रकार से विरोध कर सकनार् सुगम नहीं थार्, क्येार्ंकि एक ओर तो एकतंत्र, स्वेच्छार्चार्री शार्सक विद्यमार्न थे क्योंकि लोकतंत्र शार्सन क भलीभार्ँति विकास नहीं हुआ थार्, और दूसरी ओर, इस समय के विचार्रक ‘वैयक्तिक स्वतंत्रतार्’ के सिद्धार्ंत के अनुयार्यी थे। परिणार्मस्वरूप कारखार्नों और मजदूरों की दशार् बड़ी शार्चे नीय हो गयी। कालार्तं र में ‘वैयक्तिक स्वतंत्रतार्’ के सिद्धार्तं के विरूद्ध भी प्रतिक्रियार् आरंभ हुर्इ, कारखार्नों पर सरकारी नियंत्रण व सर्वसार्धार्रण-जनतार् के हिताथ नियंत्रण के लिए आंदोलन होने लगे, जिनके परिणार्मस्वरूप मजदूरों और कारखार्नों की दशार् में सुधार्र के लिए कानून व सुधार्र प्रार्रंभ हुए।

(8) व्यार्पार्र क विस्तार्र

औद्योगिक क्रार्ंति के कारण व्यार्पार्र क भी अत्यार्धिक विस्तार्र हुआ। इस नवीन व्यवस्थार् ने विश्व व्यार्पार्र पर भी काफी प्रभार्व डार्लार्। अब औद्योगिक देशार्ंे के व्यार्पार्र क उद्दश्े य निर्यार्त की दृष्टि से विविध प्रकार के पक्के मार्ल क निर्यार्त और आयार्त की दृष्टि से कच्चे मार्ल और खार्द्य पदार्थोर् क आयार्त बन गयार्। नये व्यार्पार्र की सेवार् के लिए बड़े-बड़े जहार्ज, विस्तृत बंदरगार्ह व यार्तार्यार्त की अधिकाधिक सुगमतार्एँ होने लगीं। इसी प्रकार उसके लिए अर्थ-प्रबंधन, बीमार्, विनिमय तथार् क्रय-विक्रय के नये सार्धनों और व्यवस्थार्ओं क विकास हुआ। अत: धीरे-धीरे उत्पार्दन, व्यार्पार्र विनिमय, यार्तार्यार्त और अर्थ प्रबंधन की समस्त व्यवस्थार्एँ बदल गयीं।

इनमें संदेह नहीं कि औद्योगिक क्रार्ंति के प्रभार्व और परिणार्म अच्छे तथार् बुरे दोनों प्रकार के थे। कालार्तं र में प्रत्येक देश में श्रमिक संघर्षों के फलस्वरूप अथवार् प्रशार्सनों के सुधार्र प्रयार्स द्वार्रार् श्रमिकों क जीवन-स्तर बहुत ऊँचार् हो गयार् जो उस परिविर्द्धत रार्ष्ट्रीय आय क ही फल है, जिसे औद्योगिक क्रार्ंति ने ही संभव कियार्। आज के समृद्ध देशार्ं े में जनसार्धार्रण को जो सार्मार्न्य सुगमतार्एँ प्रार्प्त हं,ै ये सब औद्योगिक क्रार्ंति की ही देन है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *