एक्यूपंक्चर क अर्थ, परिभार्षार् एवं इतिहार्स

एक्युप्रेशर में शरीर के कुछ बिन्दुओं पर दबार्व देकर उपचार्र करते हैं। इन बिन्दुओं को Acupoints कहते हैं। इन्हीं बिन्दुओं पर जब सुर्इ डार्लकर उपचार्र कियार् जार्तार् है तो उसे Acupuncture कहते है। इन्हीं बिन्दुओं पर जब मेथी दार्नार् और अन्य seed लगार्कर उपचार्र करते हैं तो इसे Seed therapy कहते हैं। इन्हीं बिन्दुओं पर जब छोटे-छोटे magnet लगार्कर उपचार्र करते हैं तो उसे Magnet therapy कहते हैं। इन्हीं बिन्दुओं पर जब colour लगार्कर उपचार्र करते है तो इसे Colour therapy कहते हैं। उपचार्र क तरीक कोर्इ भी हो उपचार्र इन्हीं Acupoints पर दियार् जार्तार् है।

एक्यूपंक्चर

एक्युप्रेशर एवं एक्युपंक्चर चिकित्सार् पद्धति पुरार्तन भार्रत वर्श में पैदार् हुर्इ, चीन में पली बढ़ी तथार् पार्श्चार्त्य जगत में आधुनिक काल में लोकप्रिय हुर्इ। भार्रत वर्श में जहार्ँ महिलार्यें बिन्दी लगार्ती हैं, जहार्ँ मार्ँग भरती है, जहार्ँ नार्क, कान छेदे जार्ते हैं, जहार्ँ बिछियार्, अणत, चूड़ियार्ँ आदि पहने जार्ते हैं ये सब एक्युपंक्चर उपचार्र के महत्वपूर्ण बिन्दु हैं। महार्वत क छोटार् सार् लड़क विशार्लकाय हार्थी क नियंत्रण अंकुश द्वार्रार् हार्थी के Acupoints को दबार्कर करतार् है।

विगत पार्ंच हजार्र वर्षों से चीन में एक्युप्रेशर एवं एक्युपंक्चर चिकित्सार् पद्धति से सफलतार्पूर्वक उपचार्र कियार् जार् रहार् है। समय-समय पर एक्युपंक्चर के विद्वार्नों ने शोध ग्रन्थ लिखे। ये शोध ग्रन्थ आधुनिक एक्युपंक्चर चिकित्सार् क आधार्र है। चीन में 2500 वर्शों पूर्व Huang Di नार्मक सम्रार्ट हुए। सम्रार्ट Huang Di एक्युपंक्चर के मर्मज्ञ थे। सम्रार्ट अपने Court physian Bo से एक्युपंक्चर पर चर्चार् कियार् करते थे। ये चर्चार्एं अकबर बीरबल संवार्द की तरह चीन में बहुत प्रसिद्ध हुर्इ। सम्रार्ट Huang Di चीन में Yellow Emperor के नार्म से विख्यार्त हुए एवं court physion Bo के संवार्दों को चीन की गीतार् रार्मार्यण के समार्न है। इसी प्रकार एक्युपंक्चर के विद्वार्नों ने समय-समय पर अपने अनुभवों को ग्रन्थ रूप में लिखार्। भार्रत वर्श में Ayurvedic Acupuncture पर चरक, सुश्रुत आत्रेय आदि विद्वार्नों ने महत्वपूर्ण जार्नकारियार्ँ दी। वेदों में भी एक्युपंक्चर यार्नि मर्मभेदन क विस्तृत वर्णन मिलतार् है।Acupoints को आयुर्वेद में मर्म बिन्दु कहते हैं। ऊर्जार् प्रवार्ह पथ (Meridian) को आयुर्वेद में नार्ड़ी कहते हैं।

चीन में 1950 के दशक में चेयरमैन मार्ओं ने लार्खों लोगों को एक्युपंक्चर क प्रशिक्षण दिलवार्यार् तथार् एक्युपंक्चर किट देकर चीन के गार्ंव-गार्ंव में उपचार्र करने को भेज दियार्। इन एक्युपंक्चर के डार्क्टरों के पार्स पहनने को जूते तक न थे। पार्श्चार्त्य देशों के लोग इनको Bare footed doctors के नार्म से पुकारते थे। 1962 में अमेरिक के रार्श्ट्रपति निक्सन ने चीन की यार्त्रार् की। महार्महिम रार्श्ट्रपति के सार्थ गये एक पत्रकार के पेट में appendicitis क भयंकर दर्द होने लगार्। रार्श्ट्रपति के डार्क्टरों ने पत्रकार के एपेन्डिक्स क तत्काल आपरेशन करने की सलार्ह दी। चीन के प्रधार्नमंत्री की सलार्ह पर पत्रकार को एक्युपंक्चर क उपचार्र दियार् गयार्। St361/2 बिन्दु पर दार्हिने पैर में एक सुर्इ डार्लते ही पत्रकार क एपेन्डिक्स क दर्द आश्चर्यजनक रूप से ठीक हो गयार्। रार्श्ट्रपति निक्सन प्रभार्वित हुए। लेडी निक्सन ने यार्त्रार् के बार्की तीन दिनों तक एक्युपंक्चर के बार्रे में विस्तृत जार्नकारी ली। अमेरिक लैटते समय रार्श्ट्रपति निक्सन कुछ एक्युपंक्चर विद्वार्नों को अमेरिक अपने सार्थ ले गये। इसके बार्द धीरे-धीरे चीनी एक्युपंक्चर क ज्ञार्न पार्श्चार्त्य देशों में फैल गयार्। अंग्रजी में एक्युपंक्चर की पुस्तकें लिखी जार्ने लगी। एक्युपंक्चर क विशेश सार्हित्य पार्श्चार्त्य देशों के मार्ध्यम से भार्रत में भी आने लगार्।

प्रार्चीन काल से ही हमार्रे देश में एक्युप्रेशर, एक्युपंचर पद्धति क उपयोग स्वार्स्थ्य अर्जन हेतु किसी न किसी रूप में सदियों से होतार् रहार् है। ऋषि मुनियों द्वार्रार् शरीर के विभिन्न बिन्दुओं पर दबार्व देकर अथवार् मार्लिश द्वार्रार् उपचार्र कियार् जार्तार् रहार् है। इन बिन्दुओं क उल्लेख हमार्रे प्रचीन ग्रंथ आयुर्वेद में ‘मर्म’ के रूप में हुआ है। कालार्ंतर में सुची भेदन के द्वार्रार् भी उपचार्र होतार् रहार्, बार्द में यह पद्धति बौद्ध धर्म के अनुयार्यी द्वार्रार् लंका, चीन व जार्पार्न ले जाइ गर्इ और इसक सम्पूर्ण एवं सम्यक् विकास चीन देश में हुआ। आज विभिन्न देशों जैसे-अमेरिक में रिफलेक्सोलॉजी, जार्पार्न में शियार्त्सु, चीन में एक्युपंचर, जर्मनी में इलेक्ट्रो एक्युपंचर, कोरियार् एवं रूस में सर पाक जी द्वार्रार् प्रतिपार्दित सुजोक एक्युपंचर के रूप में।

एक्युपंचर दो शब्दों के योग से बनार् है। एक्यु ¾ सूचिक एवं पंचर ¾ भेदन। अर्थार्त शरीरस्थ विभिन्न बिन्दुओं क सूचिक भेदन द्वार्रार् स्वार्स्थ्य अर्जित करनार्। इन बिन्दुओं पर अंगुलियों क प्रयोग करके पंचर के स्थार्न पर दबार्व दियार् जार्नार् एक्युप्रेशर कहलार्तार् है तथार् इन्हीं बिन्दुओं पर केवल रंगों क प्रयोग कर उपचार्र करनार् ही रंग चिकित्सार् है।

एक्यूपंक्चर की परिभार्षार्

डॉ. पाक जे.वु. :- अपनी पुस्तक ‘सुक्ष्म अभिनव एक्युप्रेशर-एक्युपंचर’ में लिखते हैं कि प्रकृति ने हमार्रे हार्थों एवं पैरों की संरचनार् इस ढ़ग से की है कि उनमें शरीर के सभी अंगों एवं अवयवों से सार्दृश्यतार् है। इन सार्दृश्य केन्द्रों पर दबार्व देकर यार् अन्य मार्ध्यमों से शरीर की ऊर्जार् शक्ति को उद्वेलित करके शार्रीरिक असहजतार् क निवार्रण कियार् जार् सकतार् है।

डॉ0 फिट्जजेरार्ल्ट :- इनक मार्ननार् है कि पैरों के तलुवों और हथेलियों में स्थित ज्ञार्न तन्तु ढक जार्ते हैं जिससे शरीर की विद्युत चुम्बकीय शक्ति क भूमि से सम्पर्क नहीं हो पार्तार्, किन्तु इस विधि के उपचार्र से ज्ञार्न तन्तुओं के छोर पर हुआ जमार्व दूर हो जार्तार् है और शरीर की विद्युत चुम्बकीय तरंगों क पुन: मुक्त संचरण होने लगतार् है।

पं. श्रीरार्म शर्मार् आचाय :- शार्रीरिक स्वार्स्थ्य के लिए जीवनी शक्ति एक विशेष अदृश्य रेखार्ओं से आती है जिसक सम्बन्ध सम्पूर्ण शरीर से है। उन बिन्दुओं पर सुर्इ क स्पर्श (एक्युपंचर) यार् थोड़ार् सार् दबार्व (एक्युप्रेशर) से दर्द यार् रोग तुरंत समार्प्त हो जार्तार् है। जटिल शल्य चिकित्सार् से उत्पन्न दर्द को भी इन दबार्व से आरार्म मिल सकतार् है।

डॉ. जे. पी.अग्रवार्ल :- ‘एक्युप्रेशर/एक्युपंचर वह विधार् है जिसमें शरीर के किसी बिन्दु पर उपचार्र देकर ऊर्जार् क विनिमयन कियार् जार् सके।’

एम.पी. खेमक जी :- शरीर के रक्त (Blood), व Body fluids के स्थार्नार्न्तरण की विधार् को एक्युप्रेशर/एक्युपंचर कहते हैं।

शरीर के किसी निश्चित बिन्दुुओं पर उपचार्र देकर ऊर्जार् के रुकावट को नियमित करनार् व ऊर्जार् को सन्तुलित कर शरीर को ठीक करने की विधार् को एक्युप्रेशर/एक्युपंचर कहते हैं।

एक्युपंक्चर क इतिहार्स –

जब से मनुष्य क सभ्य समार्ज के रूप में विकास हुआ है तब से ही चिकित्सक लगार्तार्र इस कोशिश में हैं कि अधिक से अधिक प्रभार्वशार्ली चिकित्सार् पद्धतियों तथार् औशधियों की खोज की जार्ए तार्कि मनुष्य लम्बे समय तक निरोग रह सके और अगर रोगग्रस्त हो भी जार्ए तो शीघ्र स्वस्थ हो सके।

एक्यूपंक्चर सुई

पुरार्तन काल से लेकर आधुनिक समय तक शरीर के अनेक रोगों तथार् विकारों को दूर करने के लिए जितनी चिकित्सार् पद्धतियार्ँ प्रचलित हुर्इ है उनमें एक्युप्रेशर-एक्युपंक्चर सबसे पुरार्नी तथार् सबसे अधिक प्रभार्वशार्ली पद्धति है।

एक्युप्रेशर/एक्युपंक्चर चिकित्सार् पद्धति क उद्भव स्थल यार् प्रथम अविष्कारक भार्रतवर्ष ही है। प्रार्चीन काल से ऋषि-मुनि इस चिकित्सार् पद्धति क प्रयोग करते रहे हैं। एक्युप्रेशर चिकित्सार् पद्धति पूर्णतयार् प्रार्कृतिक चिकित्सार् है। मर्म चिकित्सार् यार् नार्ड़ी शार्स्त्र हमार्री संस्कृति की अनुपम देन है, इनमें नार्ड़ियों यार् मर्म बिन्दुओं के अंतिम, मध्य तथार् आरम्भिक बिन्दुओं पर दबार्व डार्लकर नार्ड़ी तंत्र को उत्तेजित व अनुत्तेजित कर सभी प्रकार के रोगों क इलार्ज कियार् जार्तार् थार्। मार्लिश चिकित्सार् पद्धति क मूल आधार्र एक्युप्रेशर/एक्युपंक्चर चिकित्सार् को ही मार्नार् जार्तार् है। इतिहार्स विदों क मार्ननार् है कि भगवार्न बुद्ध के समय में यह चिकित्सार् पद्धति अपनी उन्नति के चरम पर थी। बौद्ध धर्म के प्रचार्र-प्रसार्र के सार्थ इसक भी विस्तार्र चीन, जार्पार्न, कोरियार् आदि पूर्वोत्तर देशों में हुआ तथार् वे वहार्ँ के लोगों के रहन-सहन में रस बस गर्इ जो कि एक्युपंचर के नार्म से प्रसिद्ध है। यही कारण है कि एक्युपंचर में उन्हीं बिन्दुओं क प्रयोग कियार् जार्तार् है जो एक्युप्रेशर के मूल में विद्यमार्न है। विद्वार्नों क मत है कि लगभग 4000 वर्ष पूर्व यह चिकित्सार् भार्रत वर्ष में अपने सर्वोत्तम विकास पर थी तथार् यहार्ँ से इस चिकित्सार् क विकास पूर्वोत्तर देशों में फैलार् जहार्ँ पर इसे आधुनिक विकास के सार्थ जोड़कर एक्युपंचर क नार्म दे दियार् गयार् ।

डॉ. एंटन जयसूर्यार् के अनुसार्र इस चिकित्सार् पद्धति के श्रीलंक तथार् भार्रत में ऐसे शिलार्लेख तथार् प्रमार्ण मिले हैं जो लगभग 2000 वर्ष से 4000 वर्ष पुरार्ने हैं। ये शिलार्लेख विभिन्न एक्युपंचर बिन्दुओं को दर्शार्ते हैं तथार् इन शिलार्लेखों के मार्ध्यम से न केवल मार्नव मार्त्र की चिकित्सार् के प्रमार्ण मिलते हैं बल्कि पशुओं की चिकित्सार् के भी प्रमार्ण मिलते हैं जिन्हें युद्ध में घार्यल हार्थी, घोड़ों की चिकित्सार् के लिए प्रयोग कियार् जार्तार् थार्।

एक्युपंक्चर पद्धति कितनी पुरार्नी है तथार् इसक किस देश में आविश्कार हुआ, इस बार्रे में अलग-अलग मत हैं। आयुर्वेद की पुरार्तन ग्रन्थों में प्रचलित एक्युपंक्चर पद्धति क वर्णन है, इसे आयुर्वेद में सुचिभेदन के नार्म से जार्नार् जार्तार् है। प्रार्चीन काल में चीन से जो यार्त्री भार्रतवर्श आए, उनके द्वार्रार् इस पद्धति क ज्ञार्न चीन में पहुँचार् जहार्ँ यह पद्धति काफी प्रचलित हुर्इ। चीन के चिकित्सकों ने इस पद्धति के आश्चर्यजनक प्रभार्व को देखते हुए इसे व्यार्पक तौर पर अपनार्यार् और इसको अधिक लोकप्रिय तथार् समृद्ध बनार्ने के लिए काफी प्रयार्स कियार्। यही कारण है कि आज सार्रे संसार्र में यह चीनी चिकित्सार् पद्धति के नार्म से मशहूर है।

डॉ. आशिमार् चटर्जी, भूतपूर्व एम.पी. ने 2 जुलाइ 1982 को रार्ज्य सभार् में यह रहस्योद्घार्टन करते हुए कहार् थार् कि एक्युपंक्चर क अविश्कार चीन में नहीं अपितु भार्रतवर्श में हुआ थार्। इसी प्रकार 10 अगस्त, 1084 को चीन में एक्युपंचर सम्बन्धी हुर्इ एक रार्श्ट्रीय संगोश्ठी में बोलते हुए भार्रतीय एक्युपंचर संस्थार् के संचार्लक डॉ. पी.के. सिंह ने तथ्यों सहित यह प्रमार्णित करने की कोशिश की थी कि एक्युपंक्चर क अविश्कार निश्चय ही भार्रतवर्श में हुआ थार्। समय के सार्थ जहार्ँ इस पद्धति क चीन में काफी प्रचार्र बढ़ार्, भार्रतवर्श में यह पद्धति लगभग लुप्तप्रार्य सी हो गयी। इसके कर्इ प्रमुख कारण थे। विदेशी शार्सन के कारण जहार्ँ भार्रतवार्सियों के सार्मार्जिक, धामिक तथार् रार्जनीतिक जीवन में काफी परिवर्तन आयार् वहार्ँ सरकारी मार्न्यतार् के अभार्व के कारण एक्युपंक्चर सहित कर्इ अन्य प्रार्चीन भार्रतीय चिकित्सार् पद्धतियार्ँ पुिश्पत-पल्वित न हो सकी।

यद्यपि आधुनिक युग में चिकित्सार् के क्षेत्र में कर्इ नर्इ पद्धतियार्ँ प्रचलित हो गर्इ है पर चीन में एक्युपंक्चर काफी लोकप्रिय पद्धति है। गत कुछ वर्शों में चीन से इस पद्धति क ज्ञार्न संसार्र के अनेक देशों में पहुँचार् है। भार्रत सहित कर्इ देशों में चिकित्सक इस पद्धति क चीन से ज्ञार्न प्रार्प्त करके आए हैं।

ऐसार् अनुमार्न है कि छठी शतार्ब्दी में इस पद्धति क ज्ञार्न सम्भवत: बौद्ध भिक्षुओं द्वार्रार् चीन से जार्पार्न में पहुँचार्। जार्पार्न में इस पद्धति को शियार्त्सु (SHIATSU) कहते हैं। शियार्त्सु जार्पार्नी शब्द है जो दो अक्षरों ‘शि’ ‘SHI’ अर्थार्त अँगुलि तथार् ‘ATSU’ आतसु अर्थार्त दबार्व से बनार् है। शियार्त्सु पद्धति के अनुसार्र केवल हार्थों के अँगूठों अथवार् अँगुलियों के सार्थ ही विभिन्न मार्न्यतार् ‘शियार्त्सु’ केन्द्रों पर प्रेशर दियार् जार्तार् है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *