ईथर बनार्ने की विधि

विलियमसन संश्लेषण- 

इस विधि में एल्किल हैलार्इड के हैलीजेन परमार्णु क ऐल्कॉक्सी समूह द्वार्रार् प्रतिस्थार्पन करार्ने पर र्इथर बनते हैं। एल्किल हैलार्इड की अभिक्रियार् ऐल्कोहॉल यार् फीनॉल के सोडियम यार् पौटेिशयम लवण से करार्यी जार्ती है।

ऐल्कोहॉलो के निर्जलीकरण से – 

ऐल्कोहॉलो को सार्ंद्र H2SO4 के सार्थ उचित तार्प पर गर्म करने पर जल अणु निकल जार्ती हैं और र्इथर बनते हैं।

प्रयोगशार्लार् में डार्इएथिल र्इथर इसी विधि से बनार्यार् जार्तार् हैं।

एथिल ऐल्कोहॉल की वार्ष्प को 240 &2600C पर एलुमिनार् उत्प्रेक पर प्रवार्हित करने पर भी निर्जलीकरण द्वार्रार् डार्इएथिल र्इथर बनतार् हैं। सरल र्इथरो क औद्योगिक निर्मार्ण इसी विधि द्वार्रार् कियार् जार्तार् हैं। इस विधि से एसममित र्इथर नहीं बनार्ये जार्ते।

ऐल्कोहॉल के मेथिलीकरण से –

 जब ऐल्कोहॉल की किसी उत्पे्ररक की उपस्थिति में डार्इऐजोमेथेन के सार्थ गरम कियार् जार्तार् हैं तो ऐल्कोहॉल के मेथिलीकरण से मेथिल र्इथर बनतार् हैं।

Share:

Leave a Comment

Your email address will not be published.

TOP