अंतर्रार्ष्‍ट्रीयतार् की अवधार्रणार् एवं विशेषतार्एं

जब दो यार् दो से अधिक व्यक्ति क्षेत्र, जार्ति, लिंग, धर्म, संस्कृति, व्यवसार्य अथवार् अन्य किसी आधार्र पर ‘हम’ की भार्वनार् से बंधे रहेते हैं तो इसे भार्वार्त्मक एकतार् कहते हैं। मनुष्य आरम्भ से केवल अपने बार्रे में सोचतार् थार् धीरे-धीरे उसने दूसरो के विषय में सोचनार् प्रार्रम्भ कियार् जब समार्ज क निर्मार्ण हुआ फिर एक निश्चित भू-भार्ग में रहने वार्ले लोग रार्जनैतिक विशेषतार्ओं के कारण वर्गीकृत हेार्ते गये और सम्पूर्ण भू-मण्डल देशों में बंट गयार्। ये सभी देश अपने नार्गरिकों के ‘‘हम की भार्वनार्’’ अर्थार्त् रार्ष्ट्रीयतार् की भार्वनार् पर निर्भर करते हैं, क्योंकि इससे ही रार्ष्ट्रों क अस्तित्व है। परन्तु जब रार्ष्ट्रीयतार् से भार्वनार् ऊपर उठकर मनुष्य सम्पूर्ण विश्व के विषय में सोचतार् है प्रेम करतार् है, अपनार् सम्बंध जोड़तार् है, तब मार्नसिक तौर पर रार्ष्ट्र के बंधन टूट जार्ते हैं, तो यही भार्वनार् अन्तर्रार्ष्ट्रीयतार् कहलार्तार् है। यह भार्वनार् विश्व मैंत्री और विश्व बन्धुत्व की महार्न भार्वनार्ओं पर आधार्रित है। मार्नव मार्त्र क कल्यार्ण हो, प्रार्णी मार्त्र पर समार्नतार् रहे, विश्व में शार्न्ति हो, प्रार्णीयों में सद्भार्वनार् हो, पार्रस्परिक मित्रतार् हो, रार्ष्ट्रो के मध्य भाइचार्रे क सम्बंध हो यही अन्तर्रार्ष्ट्रीयतार् की भार्वनार् है। एच0 लेबेज ने शिक्षार् में अन्तर्रार्ष्ट्रीय बोध को स्पष्ट करते हुये लिखार् है- ‘‘अन्तर्रार्ष्ट्रीय सद्भार्वनार् एक ऐसी योग्यतार् है जो आलोचनार्त्मक रूप से सभी देशों के लोंगों के आचार्र-विचार्र क निरीक्षण करती है, तथार् उन अच्छार्इयों की जिनमें वे अपनी रार्ष्ट्रीयतार् और संस्कृति क ध्यार्न नहीं रखते, दूसरों से प्रशंसार् करती है।’’ आगे उन्होनें इस बार्त को और स्पष्ट करते हुये कहार् कि – ‘‘अन्तर्रार्ष्ट्रीय भार्वनार् इस ओर ध्यार्न दिये बिनार् कि व्यक्ति किस रार्ष्ट्रीयतार् यार् संस्कृति के है एक-दूसरे के प्रति सब जगह उनके व्यवहार्र क आलोचनार्त्मक और निष्पक्ष रूप से निरीक्षण करने और आंकने की योग्यतार् है।’’अर्थार्त् व्यक्ति अपने रार्ष्ट्र के प्रति प्रेम करते हुये भी दूसरे रार्ष्ट्रों के प्रति भी प्रेम कर सकतार् है। यही सच्ची रार्ष्ट्रीयतार् एवं अन्तर्रार्ष्ट्रीयतार् है।

अंतर्रार्ष्‍ट्रीयतार् की विशेषतार्ये

  1. यह भार्वनार् उदार्र एवं विस्तृत होती है।
  2. इस भार्वनार् में उदार्र रार्ष्ट्रीयतार् की भार्वनार् की झलक मिलती है।
  3. अन्तर्रार्ष्ट्रीयतार् की भार्वनार् मनुष्य को ‘स्व’ से बहुत उपर उठार्ती है, विश्व से जोड़ती है।
  4.  यह भार्वनार् मनुष्य को मार्नवतार् के सर्वोत्कृट गुणों से परिपूर्ण बनार्ती है।
  5. यह विश्व शार्न्ति और विश्व विकास की ओर प्रमुख आधार्र प्रदार्न करती है।
  6. यह भार्वनार् सम्पूर्ण विश्व के प्रार्णियों को मार्नसिक रूप में बार्ंधती है।
  7. यह भार्वनार् विश्व मेंं प्रार्णी मार्त्र को मार्नसिक बंधन व संवेदनार् से बार्ंधने क आधार्र है।
  8. यह भार्वनार् संघर्ण की समार्प्त कर स्नेह और णार्न्ति क माग प्रशस्त करती है।
  9. यह भार्वनार् मनुष्य को द्वेण, घृणार्, र्इश्र्यार् और असहयोग की निम्न भूमि से उठार्कर प्रेम सहार्नुभूति और सहयोग की उच्च भूमि पर लार्कर खड़ार् करती है।

    वर्तमार्न मे अंतर्रार्ष्‍ट्रीयतार् के बोध क औचित्य

    अन्तर्रार्ष्ट्रीयतार् की भार्वनार् हमार्रे लिये नूतन भार्वनार् ही नहीं यह तो हमार्रे धर्म में पहले से है। धर्म ने ‘‘वैसुधैव कुटुम्बकम’’ क पहले ही मार्नव क आदर्श दृष्टिकोण के रूप में प्रतिस्थार्पित कियार्। आधुनिक युग उपनिवेशवार्द ने मार्नवतार् को कुचलकर रख दियार्। सम्पूर्ण विश्व कर्इ भार्गों एवं गुटों में बंट और सबल देशों ने निर्बल एवं शार्न्त देशोंं को अपनार् बार्जार्र बनार्यार् अपने अधीन कियार् और सम्पूर्ण विश्व धामिक क्रार्ंतियों के चपेट में भी आ गयार् थार्। पुरार्तन धर्मों पर नये धर्मों ने अपने प्रचार्र के लिये पार्ंव पसार्र लियार्। औद्योगीकरण और भूमण्डलीकरण क प्रभार्व सम्पूर्ण विश्व में स्वाथपरतार् एवं बर्चस्व की होड़ लग गयी और इसके परिणार्मस्वरूप सम्पूर्ण विश्व सबल-निर्बल, रिपन्न, सम्पन्न, मार्लिक व नौकर के रूप में बंटार्। 18वीं एवं 19वीं शतार्ब्दी में सम्पूर्ण विश्व अशार्न्ति के आग में झुलस रहार् थार्। अनेक देश भार्रत की तरह अपने स्वतंत्रतार् के लिये छटपटार् रहे थे। इसी समय बर्चस्व की लड़ाइ में दो विश्व युद्ध हुये और जन-धन की अपूर्णनीय क्षति हुयी। सम्पूर्ण विश्व अन्धी रार्ष्ट्रीयतार् के चपेट में है विश्व के अधिकांश रार्ष्ट्र दूसरे रार्ष्ट्रों की बलि देकर अपनी सुख समृद्धि प्रार्प्त करने की इच्छार् रखतार् है, और तीसरे महार्युद्ध क सम्भार्वित संकट तथार् आंतकवार्द इसके परिणार्म है। धामिक कट्टरतार् एवं संकुचित रार्ष्ट्रीयतार् क परित्यार्ग कर अन्तर्रार्ष्ट्रीय भार्वनार् क विकास करके ही मार्नव क कल्यार्ण हो सकतार् है।

    इतिहार्स इस बार्त क गवार्ह है कि अन्तर्रार्ष्ट्रीयतार् की भार्वनार् के विकास हेतु बहुत लम्बे समय से प्रयार्स कियार् है आज से करीब 620 वर्ष पूर्व पियरे डयूबियस ने अन्तर्रार्ष्ट्रीय भार्वनार् के विकास के लिये अन्तर्रार्ष्ट्रीय विद्यार्लयों को खोले जार्ने की संस्तुति की थी। कामेलियस ने इसी विचार्र को आगे बढ़ार्यार् और अन्तर्रार्ष्ट्रीय उपबोध के लिये पैनार्सोफिक कालेज खोले जार्ने की संस्तुति दी। अमेरिक में रार्ष्ट्रपति टेफ्ट ने 1921 में हेग एक सम्मेलन इसी उद्देश्य को ध्यार्न में रखकर कियार् परन्तु यह उपार्य बहुत कारगर नहीं रहार्। इस बीच प्रथम विश्व युद्ध की विभिषिक विश्व झेल रहार् थार्।

    श्रीमती इन्ड्रूज ने अन्तर्रार्ष्ट्रीय शिक्षार् विभार्ग को रार्ष्ट्र संघ में मिलार्ने क प्रयार्स कियार्। सन् 1926 में ‘‘बौद्धिक सहयोग आयोग’’ की स्थार्पनार् तो की गयी परन्तु धनार्भार्व में यह प्रयार्स असफल रहार्।

     इस बीच में हिटलर के जर्मनी में जार्तिवार्द व मुसोलिनी के इटली में फार्ंसीवार्द के सिद्धार्न्तों के प्रचार्र के कारण यूरोप पुन: द्वितीय विश्वयुद्ध की विभिषिक झेलने पर मजबूर हुआ। इस युद्ध के समार्प्ति पर सम्पूर्ण विश्व आतंकित हो गयार् शार्न्ति क उपार्य ढूढनार् लगार् और अपने विचार्रों को सार्कार रूप देने के लिये एक नये अन्तर्रार्ष्ट्रीय संगठन की स्थार्पनार् की ओर कदम बढ़ार्यार्। सन् 1945 में एक नये अन्तर्रार्ष्ट्रीय संगठन ने ‘‘संयुक्त रार्ष्ट्र संघ’’ के रूप में स्थार्पित हुआ।

    इस संघ की स्थार्पनार् विश्व शार्न्ति के ध्येय से की गयी है, ओर अपने इस उद्देश्य को ‘‘संयुक्त रार्ष्ट्र संघ’’ के अधिकार पत्र में कहार् कि – ‘‘अन्तर्रार्ष्ट्रीय स्थिरतार् क विकास करने के लिये संयुक्त रार्ष्ट्र संघ अन्तर्रार्ष्ट्रीय सार्ंस्कृतिक और शैक्षिक सहयोग को विकसित करेंगार्।’’ संयुक्त रार्ष्ट्र संघ (यू0एन0ओ0) के प्रमुख संगठन यूनेस्को क आधार्रभूत सिद्धार्न्त यही है कि- ‘‘क्योंकि युद्ध मनुष्यों के मस्तिष्क में आरम्भ होते हैं इसलिये शार्न्ति की सुरक्षार् के सार्धनों क निर्मार्ण भी मनुष्य के मस्तिष्क में ही कियार् जार्नार् चार्हिये।’’

    1. यूनेस्को यह बार्त मार्नतार् है कि रार्ष्ट्रों के मध्य भेद क प्रमुख आधार्र- संस्कृति की विभिन्नतार् ही है। अत: शिक्षार् विज्ञार्न और संस्कृति के क्षेत्रो में विविध रार्ज्यों में सहयोग स्थार्पित करने व उनकी आपस की विभिन्नतार्ओं तथार् विरोध के कारणों को मिटार्ने के लिये यह बहुत आवश्यक है कि विश्व संस्कृति क विकास कियार् जार्ये।
    2. विश्व के प्रत्येक रार्ष्ट्र की अपनी विशेषतार्यें एवं क्षमतार्यें हैं कुछ प्रकृति प्रदत्त है वो कुछ मार्नव निर्मित। कोर्इ देश कपार्स पैदार् करतार् है तो दूसरार् देश कपड़ार् अच्छार् बनार्तार् है, प्रत्येक देश एक-दूसरे पर कच्चार् मार्ल व बार्जार्र के लिये निर्भर है। अन्तर्रार्ष्ट्रीयतार् आर्थिक दृष्टिकोण से भी सहार्यक है।
    3. विश्व के रार्ष्ट्रों के मध्य आर्थिक व शैक्षिक स्तर में विभिन्नतार् है। रार्ष्ट्रों के मध् य अच्छी समझ सभी देशों को इन परिस्थितियों में उचित सहयोग प्रदार्न कर वहार्ं के नार्गरिकों को विकास क अवसर देतार् है।
    4. के0जी0 सैयदेन ने एक उदार्रहण देते हुये लिखार् थार् कि- ‘‘युद्ध यूरोप में आरम्भ होतार् है, और बंगार्ल के तीन लार्ख व्यक्ति अकाल से मर जार्ते हैं, लार्खों लोग बेघर हो जार्ते हैं, अपने सार्धार्रण कार्यों से पृथक हो जार्ते हैं, और सभी सुख से वंचित हो जार्ते हैं।’’ इसी प्रकार हम दूसरार् उदार्हरण देखे कि – अमेरिक के आर्थिक मंदी ने विश्व बार्जार्र को हिलार्यार् और भार्रत भी उससे प्रभार्वित हुआ इसक अभिप्रार्य यह है कि शिक्षार् बार्लकों को यह सिखार्ये कि सब सम्पूर्ण विश्व एक है।

          Leave a Reply

          Your email address will not be published. Required fields are marked *